द क्वीन मेकर विकास बहल

चवन्‍नी के पाठकों के लिए रघुवेन्‍द्र सिंह के ब्‍लॉग अक्‍स से साधिकार 
रिस्क लेना विकास बहल की पसंदीदा आदत है और आज उनकी यही क्वालिटी उन्हें फिल्ममेकिंग में लेकर आई है. अपने रोचक सफर को वर्तमान पीढ़ी के यह फिल्मकार रघुवेन्द्र सिंह से साझा कर रहे हैं 
मुंबई शहर की आगोश में आने को अनगिनत लोग तड़पते हैं, मगर यह खुद चंद खुशकिस्मत लोगों को अपनी जमीं पर लाने को मचलता है. विकास बहल ऐसा ही एक रौशन नाम हैं. यह शहर उनके सफर और सपनों का हिस्सा कभी नहीं था, लेकिन आज यह उनकी मंजिल बन चुका है. अनुराग कश्यप, विक्रमादित्य मोटवानी और मधु मंटेना जैसे तीन होनहार दोस्त मिले, तो उन्हें अपने ख्वाबों का एहसास हुआ. यूटीवी जैसे स्थापित कॉरपोरेट हाउस में अनपेक्षित आय वाली नौकरी को छोडक़र उन्होंने इन दोस्तों के साथ मिलकर फैंटम नाम की फिल्म प्रोडक्शन कंपनी की नींव रखी. जिसका लक्ष्य गुणवत्तापूर्ण मनोरंजक फिल्मों का निर्माण करना है. खुशमिजाज, सकारात्मक सोच एवं ऊर्जा से भरपूर विकास ने निर्देशन की ओर पहला कदम बढ़ाया और चिल्लर पार्टी जैसी एक प्यारी-सी फिल्म दर्शकों के बीच आई. अब अपनी दूसरी पिक्चर क्वीन में वह एक ऐसी साहसी लडक़ी की कहानी लेकर आ रहे हैं, जो अकेले हनीमून पर निकल पड़ती है. आइये, विकास बहल के जीवन की मजेदार कहानियां जानते हैं, जिसके हिस्सों को वह किस्सों के रूप में पर्दे पर बारी-बारी से लेकर आ रहे हैं...

मैं मुंबई फिल्म बनाने नहीं आया था. मैं वर्ष 2000 में नौकरी के लिए बैंगलोर गया था. फिर उसी कंपनी (इंडिया.कॉम) ने मेरा ट्रांसफर मुंबई कर दिया. वह कंपनी बंद हो गई. फिर मैंने रेडियो मिर्ची जॉइन किया. वहां मैं मार्केटिंग हेड था. मगर तीन महीने बाद मैंने वह नौकरी छोड़ दी. मुझे काम करने में मजा नहीं आ रहा था. मैंने सोनी जॉइन किया. उस वक्त सोनी ने सब टीवी खरीदा ही था. मैं उसका क्रिएटिव हेड बन गया. जबकि मुझे कुछ नहीं पता था कि टीवी कैसे चलता है. उसके बाद मैंने यूटीवी जॉइन किया. मुझे पता नहीं था कि मुझे फिल्ममेकर बनना है. इस ओर मैं अजय बिजली की वजह से आया. क्योंकि जब मैं सोनी में था, तो वो चाहते थे कि मैं पीवीआर मूवीज जॉइन करूं. उनसे बात चल ही रही थी कि बीच में मैं रॉनी स्क्रूवाला के संपर्क में आया. मैं रॉनी का फैन था. यूटीवी जॉइन करने के बाद मैंने यूटीवी स्पॉटबॉय शुरू किया. अब मुझे पता नहीं था कि पिक्चर बनती कैसे है? पहले हफ्ते मैं कमरे में बैठा रहा. मैं गेम खेलता रहता था. चिल्लर पार्टी मैंने इसलिए लिखनी शुरू की, क्योंकि मेरे पास कुछ काम करने को नहीं था. मैंने तिग्मांशु धूलिया को फोन किया. उनके साथ मैंने सब टीवी के लिए एक शो किया था- मोहल्ला मोहब्बत वाला. वो एक छोटी-सी पर्ची पर पान सिंह तोमर फिल्म लेकर आए. मैंने उनसे कहा कि हम ये पिक्चर बना रहे हैं. उसके दो-तीन बाद मैं राजकुमार गुप्ता से मिला. मैंने आमिर की कहानी सुनी. मैंने उनसे भी कहा कि हम ये फिल्म बना रहे हैं. एक दिन मैं राजकुमार के साथ बैठे था, तो अनुराग कश्यप आ गए. उन्होंने देव डी सुनाई. मैंने कहा कि हम ये फिल्म बना रहे हैं. अब मुझे नहीं पता था कि फिल्म कितने में बनती है. तो मैं सीख-सीख कर यहां तक आया हूं.
                                                    कंगना रनौत और विकास बहल
मुझे रिस्क लेने और एक्सपेरिमेंट करने में मजा आता है. और इसी प्रक्रिया में मुझे यह एहसास हुआ कि मुझे लिखना, डायरेक्शन और प्रोडक्शन आता है. लेकिन एक समय आया, जब मुझे लगा कि मैं अपनी ही टीम को नहीं समझा पा रहा था कि मैं गैंग्स ऑफ वासेपुर क्यों बनाना चाह रहा हूं. तब मैंने तय किया कि अब मुझे किसी को समझाने की जरूरत नहीं है. मुझे जो करना है, वह बस करना है. मैंने यूटीवी छोड़ दिया. मुझे लगा कि अब नहीं कर सकूंगा, तो कभी नहीं कर सकूंगा. क्योंकि मैं आर्थिक रूप से सिक्योर होता जाता, मेरी रिस्क लेने की आदत जाती रहती. जब मैंने नौकरी छोड़ी, तो मेरे पिता (हरिश्चन्द्र बहल) ने मुझसे बात करनी बंद कर दी. उनको लगा कि ये गलत फैसला है. लेकिन मैं अपनी जिंदगी अपने तरीके से जीना चाहता था. उस वक्त मेरी पत्नी ऋचा (विकास-ऋचा की लव मैरिज हुई है. ऋचा एक इंटिरियर डिजाइनर हैं) ने बहुत सर्पोट किया. उन्होंने मुझसे तब बस एक बात कही थी कि अगर हमारे कुत्ते का खाना आता रहेगा, तो बाकी सब ठीक है. ऋचा रॉकस्टार हैं.

मेरी मम्मी (उमा बहल) का एक छोटा-सा सपना था, जिसके बारे में उन्होंने मुझे बहुत साल बाद बताया कि वह लाइब्रेरियन बनना चाहती थीं. लेकिन घर, परिवार, बच्चों के चक्कर में वह नहीं बन पाईं. और वह अपनी जिंदगी में बहुत खुश हैं. मगर उनके जीवन में एक और रास्ता खुला होता, तो उन्होंने जीवन में क्या-क्या किया होता. क्वीन फिल्म का विचार मम्मी की वजह से मेरे मन में आया है. लेकिन क्वीन फिल्म में परिस्थितियां ऐसी बनती हैं कि हमें क्वीन का दूसरा पहलू देखने को मिलता है. क्वीन अपनी कहानी की हीरो है और मुझे हीरो की कहानियां बहुत पसंद हैं. क्वीन मेरे लिए कालिया बनाने की तरह है. इसमें केवल अमिताभ बच्चन की जगह कंगना हैं. क्वीन का सिर्फ पॉइंट ऑफ कॉनफ्लिक्ट अलग है. पिछली पिक्चर चिल्लर पार्टी में बच्चों का एक छोटा-सा मुद्दा था. लेकिन जो मुद्दा हमारे लिए छोटा था, वो बच्चों के लिए बड़ा था. मैं अनकंवेन्शनल हीरो से बहुत जल्दी प्रभावित हो जाता हूं. और यही बात चिल्लर पार्टी और क्वीन की दुनिया में कॉमन बात है. कुछ लोगों ने कहा कि क्वीन के लिए कंगना रनौट क्यों? मेरे खयाल से कंगना इस तरह की लड़कियों से परिचित हैं. वह जानती हैं कि अंडर कॉन्फिडेंस लड़कियां किस तरह की होती हैं. अगर मैंने किसी दूसरी एक्ट्रेस को इस किरदार के लिए चुना होता, तो उसे क्वीन को समझने के लिए एक आम घर और कॉलेज में जाना पड़ता. कंगना से बेहतर क्वीन को कोई नहीं निभा सकता था.   
          दोस्तों की टोली विक्रमादित्य मोटवानी, अनुराग कश्यप, मधु मंटेना और विकास बहल जब मैं क्वीन लिख रहा था, तब लोगों को समझाना मेरे लिए बहुत मुश्किल हो रहा था. मेरे लिए लाइफ फनी है. मैं ह्यïूमर बहुत अजीब जगहों में पाता हूं. तो वही फिल्म में आ गया, लेकिन वो बताना मुश्किल था. विक्रम मल्होत्रा ने इस स्क्रिप्ट को ग्रीन लाइट किया था. तब तक किसी को समझ में नहीं आ रहा था कि हम बनाना क्या चाहते हैं. मैं बहुत सारे स्टूडियोज के पास गया था. लेकिन किसी को मेरी स्क्रिप्ट समझ में नहीं आ रही थी. दरअसल, प्रोडक्शन हाउसेज को सीधे मार्केटिंग के आइडियाज चाहिए होते हैं. उनको कोई कॉनफ्लिक्ट या स्कैंडल चाहिए. इस फिल्म में ऐसा कुछ भी नहीं था. यह सच है कि बहुत-सी अच्छी फिल्में कॉरपोरेट को समझ में नहीं आती हैं, क्योंकि स्क्रिप्ट रिडिंग एक आर्ट है. यह जन्मजात होती है. आप इसे सीख नहीं सकते. हालांकि कॉरेपोरेट में कुछ अच्छे लोग भी हैं. अब कुछ कॉरपोरेट ऐसे हैैं, जो साल में 8 फिल्में बनाते हैं. अब 8 फिल्में बनाने के लिए वह कम से कम 50 रिजेक्ट करेंगे. मतलब कि पचास लोग सडक़ पर घूम रहे हैं, जिनकी फिल्म नहीं बनी और वो कॉरपोरेट को गाली दे रहे हैं. मैं भी उन पचास लोगों में से एक था, जो सडक़ पर गाली दे रहे थे. मगर हमें समझना होगा कि यह एक नई इंडस्ट्री है. कॉरपोरेट में काम करने वाले लोग अलग-अलग इंडस्ट्री से आए हैं. वो सीख रहे हैं. और फिल्ममेकिंग एक जर्नी है, लेकिन स्टूडियोज सोचते हैं कि जब वह ग्रीन लाइट देते हैं, तब वह जर्नी वहीं खत्म हो जाती है. उनको उसके पहले की एक निर्देशक की दो साल की जर्नी को समझना होगा.

जब मैं पहले दिन क्वीन शूट कर रहा था, तो मुझे नीतेश तिवारी (चिल्लर पार्टी के सह-निर्देशक) की बहुत याद आई, क्योंकि नीतेश और मैंने बाय चांस चिल्लर पार्टी साथ में लिखी और डायरेक्ट की थी. हमने कभी बैठकर यह तय नहीं किया था कि वह क्या कर रहा है और मैं क्या कर रहा हूं. किसी को क्रेडिट की नहीं पड़ी थी. मैं थोड़ा रेस्टलेस था, तो मैं मॉनीटर पर नहीं बैठता था, मैं बच्चों के साथ रहता था. नीतेश मॉनीटर के सामने बैठता था. कुछ दिन बाद हमें लगा कि अच्छा है कि दो लोग हैं, वरना ये दस बच्चे और एक कुत्ता अकेले नहीं संभलता. जब मैं क्वीन की शूटिंग करने गया, तो एक-दो दिन तो मुझे पता नहीं था कि कैमरा किधर रखना है. मैंने जाने से पहले अनुराग से बात की कि मैं जा तो रहा हूं, लेकिन ये बताओ कि फिल्म बनाते कैसे हैं? उसने बोला कि तुझे स्टोरी पता है ना, कैमरा रख और शूट कर. मुझे तीन-चार दिन लगे रिद्म आने में और फिर मैं सहज हो गया. मैंने यही समझा है कि अगर आपने अच्छा होमवर्क किया है, आपकी टीम अच्छी है और आपमें ईगो नहीं है, तो फिल्ममेकिंग आसान है. क्वीन की शूटिंग के 45 दिन, मेरी जिंदगी के सबसे अच्छे दिन थे.  

मेरे समकक्ष पसंदीदा फिल्मकार

राजकुमार हिरानी
वह जिंदगी को खूबसूरती से देखते हैं. उनका नजरिया मेरे जीवन के प्रति अप्रोच से मिलता-जुलता है. हमारी फिल्म चिल्लर पार्टी उनकी वजह से रिलीज हुई. उन्होंने वह फिल्म देखी और कहा कि अब यह मेरी पिक्चर है. वहां से सबको उस फिल्म में विश्वास आना शुरू हुआ. वह चिल्लर पार्टी से निर्माता के तौर पर जुडऩा चाहते थे.

अनुराग कश्यप
अनुराग फिल्ममेकिंग के मामले में इंडिया को एक अलग लेवल पर ले जाएंगे. वह जानते हैं कि एक फिल्म को कैसे दुनिया भर में पहुंचाया जा सकता है. विश्व स्तर पर उन्हें जो पहचान मिल रही है, वह उसके हकदार हैं. क्योंकि उनकी कहानियां आउट्रेजियस होती हैं, तो लोग सोचते हैं कि वह गैर-जिम्मेदार हैं. 

विक्रमादित्य मोटवानी
वह फिल्म इंडस्ट्री में इस वक्त बेस्ट क्राफ्टमैन हैं. कोई अन्य नहीं है, जो उनके जितना फिल्म के हर डिपार्टमेंट को समझता है. वह कमाल के स्टोरीटेलर हैं. वह जिस खूबसूरती के साथ कहानी को बयां करते हैं, उनकी वह कला अतुलनीय है.

विकास बहल के बारे में तीन रोचक तथ्य
-कॉलेज के दिनों में उन्होंने मंडल कमीशन के विरूद्ध काफी धरने दिए थे और मोर्चे निकाले थे. वह आत्मदाह जैसा कदम न उठा लें, इस डर से उनके पिता ने उन्हें दो दिन तक कमरे में बंद कर दिया था.
-जेब खर्च के लिए वह दिल्ली में मेडिकल कॉन्फ्रेंस में अशरिंग का काम किया करते थे. दिवाली में स्टॉल लगाते थे और कृष्ण जन्माष्टमी के दौरान अपनी मंडली बनाकर पैसा इकट्ठा करते थे.
-उन्होंने एमबीए में गोल्ड मेडल हासिल किया है. इस बात का उन्हें अब तक ताज्जुब होता है.

Comments

Popular posts from this blog

लोग मुझे भूल जायेंगे,बाबूजी को याद रखेंगे,क्योंकि उन्होंने साहित्य रचा है -अमिताभ बच्चन

फिल्‍म समीक्षा : एंग्री इंडियन गॉडेसेस

तो शुरू करें