Posts

Showing posts from November, 2012

फिल्‍म समीक्षा : तलाश

Image
-अजय ब्रह्मात्‍मज लगभग तीन सालों के बाद बड़े पर्दे पर लौटे आमिर खान 'तलाश' से अपने दर्शकों और प्रशंसकों को नए ढंग से रिझाते हैं। 'तलाश' है हिंदी सिनेमा ही, लेकिन रीमा कागती और आमिर खान ने उसे अपडेट कर दिया है। सस्पेंस के घिसे-पिटे फार्मेट को छोड़ दिया है और बड़े ही चुस्त तरीके से नए तत्व जोड़ दिए हैं। छल, प्रपंच, हत्या, दुर्घटना और बदले की यह कहानी अपने अंतस में इमोशनल और सोशल है। रीमा कागती और जोया अख्तर ने संबंधों के चार गुच्छों को जोड़कर फिल्म का सस्पेंस रचा है। 'तलाश' मुंबई की कहानी है। शाम होने के साथ मुंबई की जिंदगी करवट लेती है। रीमा कागती ने अपने कैमरामैन मोहनन की मदद से बगैर शब्दों में रात की बांहों में अंगड़ाई लेती मुंबई को दिखाया है। आरंभ का विजुअल कोलाज परिवेश तैयार कर देता है। फिल्म एक दुर्घटना से शुरू होती है। मशहूर फिल्म स्टार ओंकार कपूर की गाड़ी का एक्सीडेंट हो जाता है। उनकी कार सीफेस रोड से सीधे समुद्र में चली गई है। मुंबई पुलिस के अन्वेषण अधिकारी सुर्जन सिंह शेखावत (आमिर खान) की तहकीकात आरंभ होती है। फिल्मसिटी से दुर्घटना स्थल के बी…

फिल्‍म समीक्षा : लाइफ ऑफ पाई

Image
-अजय ब्रह्मात्‍मज यान मार्टेल का उपन्यास 'लाइफ ऑफपाई' देश-विदेश में खूब पढ़ा गया है। इस उपन्यास ने पूरी पीढ़ी को प्रभावित किया है। विश्वप्रसिद्ध फिल्मकार आंग ली ने इसी उपन्यास को फिल्म का रूप दिया है। 3 डी तकनीक के उपयोग से उन्होंने मार्टेल की कल्पना को पर्दे पर धड़कन दे दी है। जीव-जंतु और प्राकृतिक सौंदर्य की लगभग नैसर्गिक अनुभूति दिलाने में वे सफल रहे हैं। यह फिल्म पाई की कहानी है। पांडिचेरी के निजी चिड़ियाघर के मालिक के छोटे बेटे पाई के माध्यम से निर्देशक ने जीवन, अस्तित्व, धर्म और सहअस्तित्व के बुनियादी प्रश्नों को छुआ है। पाई अपने परिवार के साथ कनाडा के लिए समुद्र मार्ग से निकला है। रास्ते के भयंकर तूफान में उसका जहाज डूब जाता है। मां-पिता और भाई को डूबे जहाज में खो चुका पाई एक सुरक्षा नौका पर बचा रह जाता है। उस पर कुछ जानवर भी आ गए हैं। आखिरकार नाव पर बचे पाई और बाघ के बीच बने सामंजस्य और सरवाइवल की यह कहानी रोमांचक और रमणीय है। किशोर पाई की [सूरज शर्मा] की कहानी युवा पाई [इरफान खान] सुनाते हैं। अपने ही जीवन के बारे में बताते समय पाई का चुटीला अंदाज कहानी को …

तब्‍बू से अजय ब्रह्मात्‍मज की बातचीत

Image
तब्बू
‘बाजार’ और ‘हम नौजवां’ में झलक दिखलाने के बाद 1987 में तेलुग़ू फिल्म कुली नं. 1 से तब्बू ने अभिनय यात्रा आरंभ की। उनकी पहली हिंदी फिल्म ‘प्रेम’ बनने में ही सात साल लग गए। बोनी कपूर ने अपने छोटे भाई संजय कपूर के साथ उन्हें लांच किया था। 1994 में आई ‘विजयपथ’ से उन्हें दर्शकों ने पहचाना और मुंबई के निर्माताओं ने रूक कर देखा। तब्बू ने हर तरह की फिल्मों में काम किया। उन्हें ‘माचिस’ और ‘चंादनी बार’ के लिए राष्ट्रीय पुरस्कार से सम्मानित किया गया। मीरा नायर की फिल्म ‘नेमसेक’ में तब्बू 2007 में दिखी थीं। उसके बाद से उनकी कोई महत्वपूर्ण फिल्म नहीं आई है। दर्शकों को तब्बू का और तब्बू को फिल्मों का इंतजार है। इस साल इरफान के साथ उनकी फिल्म ‘लाइफ ऑफ पी’ आएगी। तब्बू से यह बातचीत किसी विशेष प्रयोजन से नहीं की गई है। तब्बू ने विभिन्न विषयों पर अपने विचार शेयर किए हैं।
- आप ने ज्यादातर नए डायरेक्टर के साथ काम किया। ऐसे चुनाव में जोखिम भी रहता है। क्या आप को कभी डर नहीं लगा कि आप का बेजा इस्तेमाल हो सकता है? 0 मैंने लगभग हर फिल्म में नए डायरेक्टर के साथ काम किया है। और ऐसा भी नहीं कि वे सब सफल हो ग…

फिल्‍म समीक्षा : लव शव ते चिकेन खुराना

Image
-अजय ब्रह्मात्‍मज  अनुराग कश्यप के प्रोडक्शन से धड़ाधड़ फिल्में आ रही हैं। इन्हें कॉरपोरेट हाउस का सहयोग मिल रहा है। अनुराग के संरक्षण में युवा फिल्मकार नई सोच की फिल्में लेकर आ रहे हैं? कथ्य, शिल्प, भाषा और प्रस्तुति में नयेपन के साथ थोड़ा अनगढ़पन भी है। यह किसी किस्म की कमी या बुराई नहीं है। समीर शर्मा की लव शव ते चिकेन खुराना में पंजाब का परिवेश है,लेकिन यह हिंदी फिल्मों के चोपड़ा और जौहर के पंजाब से अलग है। इसमें वहां की जिंदगी, मुश्किलें, खुशियां, साजिशें और पारिवारिक प्रेम है। मध्यवर्गीय मूल्यों से रचा संसार और परिवार है। ओमी खुराना के सपने अपने पिंड में नहीं समा पा रहे हैं। एक रात वह चुपके से सपनों के पीछे निकल जाता है। लंदन में कर्ज और चालाकी से अपनी जिंदगी चला रहा है। धीरे-धीरे पाउंड का कर्ज इतना बढ़ जाता है कि उसे अपने सपने गिरवी रखने पड़ते हैं। वह पिंड लौटता है। उसे उम्मीद है कि कुछ न कुछ इंतजाम हो जाएगा। पिंड में उसके दादा जी का ढाबा चिकेन खुराना के लिए मशहूर है। लौटने पर उसे पता चलता है कि दादा जी की याददाश्त खो गई है और ढाबा बंद हो चुका है। वह लौटने के बाद झूठ…

aishwarya rai speaking at the award function of Knight of the Order of Arts and letters

Image
Good evening and thank you to the French Ambassador Francois Richier, Eminent dignitaries, respected members of the media, my dear family and friends, ladies and gentlemen….
I must begin by sincerely thanking the French Government, for honouring me with this award of Knight of the Order of Arts and letters, the 2nd highest civilian award, for my humble contribution to the world of cinema over the years. To be conferred with this distinction is truly overwhelming. And given the fine company of distinguished Indian personalities from the fields of cinema, art, literature as well as those conferred with this honour internationally, this is treasured.
FRANCE has been quite the symbol of the celebration of ART and CULTURE globally…much like India…and immensely contributed to and influenced the ever-evolving world of cinema, theatre, literature, music, architecture and fashion. Mention PARIS and you witness this very celebration in its FULL GLORY and its magnetic romantic CHARM.
Mention CANNES…