Posts

Showing posts from March, 2013

श्रद्धांजलि पाकिस्‍तान फिल्‍म इंडस्‍ट्री उर्फ लॉलीवुड

Image
यह लेख चवन्‍नी के पाठकों के लिए बरगद से लिया गया है। पाकिस्‍तान फिल्‍म इंडस्‍ट्री के बारे में भी कुछ जान लें। इसे फारूक सुलेहरिया ने लिखा है।
In terms of production, the late Lollywood was once rated as one of the world’s top ten film industries. Until the 1980s it was not called Lollywood. It was on the pattern of India’s Bollywood that it appropriated Hollywood’s name to become Lollywood. Paradoxically, all its life – marked by glory and shame – our dear, departed Lollywood lived in awe and envy of Bollywood. While Bollywood is busy celebrating its birth centenary (Raja Harishchandra – the first Indian movie by Dada Saheb Phalke – was released in 1913), the late Lollywood breathed its last almost a decade ahead of its would-be centenary in 2024 (In 1924, Daughter of Today was released from Lahore by G K Mehta). However, given the average age of institutions in Pakistan, it lived a long life. For instance, an entire province, fondly called East Pakistan, died at the age of…

सुशांत सिंह राजपूत से अजय ब्रह्मात्‍मज की बातचीत

Image
सुशांत सिंह राजपूत   ‘काय पो छे’ के तीन युवकों में ईशान को सभी ने पसंद किया। इस किरदार को सुशांत सिंह राजपूत ने निभाया। टीवी के दर्शकों के लिए सुशांत सिंह राजपूत अत्यंत पॉपुलर और परिचित नाम हैं। फिल्म के पर्दे पर पहली बार आए सुशांत ने दर्शकों को अपना मुरीद बना लिया। ‘काय पो छे’ की रिलीज के पहले ही उन्होंने यशराज फिल्म्स की मुनीश शर्मा निर्देशित अनाम फिल्म की शूटिंग कर दी थी। इस फिल्म को पूरी करने के बाद वे राज कुमार हिरानी की ‘पीके’ की शूटिंग आरंभ करेंगे। ‘काय पो छे’ की रिलीज के बाद सुशांत सिंह राजपूत के साथ यह बातचीत हुई है।
- ‘काय पो छे’ पर सबसे अच्छी और बुरी प्रतिक्रिया क्या मिली?
0 अभी तक किसी की बुरी प्रतिक्रिया नहीं मिली। सभी से तारीफ मिल रही है। सबसे अच्छी प्रतिक्रिया मेरी दोस्त अंकिता लोखंडे की थी। उन्होंने कहा कि मैं इतने सालों से तुम्हें जानती हूं और ‘पवित्र रिश्ता’ में ढाई साल मैंने साथ में काम भी किया है। फिल्म देखते हुए न तो मुझे सुशांत दिखा और न मानव। एक शो में अपने दोस्तों के साथ गया था। फिल्म खत्म होने के बाद मुझे देखते ही दर्शकों की जो सीटी और तालियां मिली। वह अनुभव …

फिल्‍म समीक्षा : हिम्‍मतवाला

Image
बेमेल मसालों का मनोरंजन -अजय ब्रह्मात्‍मज  1983 में आई के राघवेन्द्र राव की हिम्मतवाला की रीमेक साजिद खान की हिम्मतवाला 1983 के ही परिवेश और समय में है। कपिलदेव के नेतृत्व में व‌र्ल्ड कप जीतने की कमेंट्री के अलावा फिल्म का एक किरदार बाल कर बताता है कि यह 1983 है। इस प्रकार पिछले बीस सालों में हिंदी सिनेमा के कथ्य और तकनीक में जो भी विकास और प्रगति है, उन्हें साजिद खान ने सिरे से नकार और नजरअंदाज कर दिया है। मजेदार तथ्य है कि साजिद खान की सोच और समझ में यकीन करने वाले निर्माता, कलाकार, तकनीशियन और दर्शक भी हैं। निश्चित ही हमारा देश भारत कई स्तरों पर एक साथ चल रहा है। मनोरंजन का एक स्तर साजिद खान का है। साजिद खान थैंक्स गॉड इटस फ्रायडे जैसा गीत सुनवाने और मॉडर्न फाइट दिखाने के बाद 1983 के गांव रामनगर ले जाते हैं। इस गांव में शेर सिंह, नारायण दास, गोपी, सावित्री आदि जैसे दुनिया से कटे किरदार रहते हैं। बरगद या पीपल के पेड़ के नीचे ग्राम सभा होती है। यहां पुलिस भी 2000 किलोमीटर दूर से आती है। रामनगर की ग्राम पंचायत में एक ही सरपंच है। उसने सभी ग्रामीणों की जमीन-जायदाद गिरवी र…

हिंदीहित में निर्माता-निर्देशकों से सार्वजनिक अपील

Image
क्‍या आप ने दबंग का पोस्‍टर हिंदी में देखा है ? जिस पर DABANGG नहीं दबंग लिखा हो।  चलिए किसी और फिल्‍म का नाम याद करें और यह भी याद करें कि पोस्‍टर पर फिल्‍म का नाम देवनागरी में लिखा था या रोमन में ?               धीरे-धीरे निर्माता-निर्देशकों ने फिल्‍मों के नाम देवनागरी में लिखना बंद कर दिया है। कभी हिंदी,उर्दू और अंग्रेजी तीनों भाषाओं में नाम आते थे। अभी अंग्रेजी का बोलबाला है। कास्‍ट एंड क्रू के नाम की पट्टी भी अंग्रेजी में चला दी जाती है। फर्स्‍ट लुक पोस्‍टर और विज्ञापनों में भी फिल्‍मों के नाम अंग्रेजी में ही चल रहे हैं। हिंदी फिल्‍मों के नाम सिर्फ रोमन में लिखने का संक्रामक चलन तेजी से बढ़ता जा रहा है। मान लिया गया है कि इतनी अंग्रेजी सभी जानते हैं कि रोमन में फिल्‍मों के नाम पढ़ और समझ सकें। किसी को परवाह नहीं है। ऐसा कोई नियम-अधिनियम भी नहीं है कि हिंदी फिल्‍मों के नाम देवनागरी में ही लिखे जाएं।           मुझे एक प्रसंग याद आता है। राकेश रोशन की कृष रिलीज होने वाली थी। उनके कुछ वितरक मिलने और समझने आए थे। उन्‍हें फिल्‍म के पोस्‍टर दिए गए। अग्रिम विज्ञापन और प्रचार का यह कारगर त…

नसीम बानो के साथ होली - मंटो

Image
सआदत हसन मंटो के मीना बाजार से होली का एक प्रसंग। यह प्रसंग परी चेहरा नसीम बानो से लिया गया है। यहां नसीम के बहाने मंटो ने होली का जिक्र किया है। फिल्‍मों पर होली पर लिखते समय हम सभी राज कपूर की आर के स्‍टूडियो से ही आरंभ करते हैं। उम्‍मीद है अगली होली में फिल्मिस्‍तान और एस. मुकर्जी का भी उल्‍लेख होगा। ....... यह हंगामा होली का हंगामा था। जिस तरह अलीगढ़ यूनिवर्सिटी की एक ‘ट्रेडीशन’ बरखा के आगाज पर ‘मूड पार्टी’ है। उसी तरह बम्बे टॉकीज की एक ट्रेडीशन होली की रंग पार्टी थी। चूंकि फिल्मिस्तान के करीब-करीब तमाम कारकुन बाम्बे टॉकीज के महाजिर थे। इसलिए यह ट्रेडीशन यहां भी कायम रही। एस. मुकर्जी उस रंग पार्टी के रिंग लीडर थे। औरतों की कमान उनकी मोटी और हंसमुख बीवी (अशोक की बहन) के सिपुर्द थी। मैं शाहिद लतीफ के यहां बैठा था। शाहिद की बीवी इस्मत (चुगताई) और मेरी बीवी (सफिया) दोनों खुदा मालूम क्या बातें कर रही थीं। एकदम शोर बरपा हुआ। इस्मत चिल्लाई। ‘लो सफिया वह आ गये...लेकिन मैं भी...’ इस्मत इस बात पर अड़ गयी कि वह किसी को अपने ऊपर रंग फेंकने नहीं देगी। मुझे डर था कि उसकी यह जिद कहीं दूसरा रंग इख्त…

संजय दत्‍त

Image
-अजय ब्रह्मात्मज  नि:स्संदेह संजय दत्त की लोकप्रियता में बीस सालों के बाद भी कोई कमी नहीं आई है। पिछली बार अप्रैल, 1993 में जेल जाने के समय वे अपने करियर के उत्कर्ष पर थे। साजन और यलगार जैसी हिट फिल्मों से पॉपुलर स्टार की अगली कतार में खड़े संजय दत्त की खलनायक रिलीज होने वाली थी। मुंबई बम धमाके में उनकी संलग्नता की खबर आने के बाद ही उनकी गिरफ्तारी की संभावना बढ़ गई थी। फिर भी उनके आशावादी मित्र सोच रहे थे कि पिता सुनील दत्त अपनी साख का इस्तेमाल करेंगे और उन्हें गंभीर सजा से बचा लेंगे। सुनील दत्त ने हमेशा संजू बाबा को सही राह पर लाने की कोशिश की। उनके दुर्गुणों को जानते हुए भी वे उनसे बेइंतहा प्यार करते रहे। 1993 में वे चाहकर भी अपने बेटे को जेल जाने से नहीं बचा सके क्योंकि तब उनका बेटा राष्ट्रविरोधी गतिविधियों में लिप्त पाया गया था। फिर भी पिता होने के नाते उन्होंने संजय को जरूरी भावनात्मक संबल दिया। कोर्ट के चक्कर से लेकर जेल जाने के बाद उनकी रिहाई और उन्हें सामान्य जिंदगी में लाने की हर कोशिश की। कोर्ट में हथियार रखने का मामला साबित होने के बाद भी उनके प्रति फिल्म बिराद…

112 अरब का कारोबार

-अजय ब्रह्मात्मज
    हाल ही में संपन्न हुए फिक्की फ्रेम्स में प्रस्तुत वार्षिक रिपोर्ट में इस बात पर जोर दिया गया कि एक अरब से ज्यादा जनसंख्या के देश में हर दर्शक तक कैसे पहुंचा जाए। मीडिया उद्योग में चौतरफा विकास और बढ़ोत्तरी है। फिर भी लाभ का आंकड़ा अपेक्षा और संभावना से काफी कम है। मीडिया उद्योग की सबसे बड़ी बाधा और सीमा जन-जन तक नहीं पहुंच पाने की है। हिंदी फिल्मों को संदर्भ ले तो बाक्स आफिस पर सर्वाधिक कलेक्शन का रिकार्ड बना चुकी ‘3 इडियट’ को भी केवल 3 करोड़ दर्शकों ने ही देखा। एक अरब से ज्यादा आबादी के देश में 3 करोड़ दर्शक तो 3 प्रतिशत से भी कम हुए। गौर करें तो ‘3 इडियट’ को ही टीवी प्रसारण के जरिए 30 करोड़ दर्शकों ने देखा। अब फिल्म निर्माता चाहते हैं कि डीटीएच के माध्यम से वे पहले ही दिन अधिकाधिक दर्शकों तक पहुंच जाएं।
    पिछले दिनों दक्षिण के अभिनेता निर्देशक और निर्माता कमल हासन ने यह तय किया था कि वे डीटीएच के माध्यम से ‘विश्वरूप’ रिलीज करेंगे। घोषणा के बावजूद वितरकों और प्रदर्शकों के भारी दबाव की वजह से वे ऐसा नहीं कर सके। उनकी आरंभिक कोशिश विफल रही, लेकिन यह स्पष्ट संकेत …

किशोर कुमार से प्रीतिश नंदी की बातचीत (1985)

Image
Source: The Illustrated Weekly of India 28 August, 1985 ( 2 yrs before Kishore Kumar's death)
 Interviewer: Pritish Nandy

.....

PN: I understand you are quitting Bombay and going away to Khandwa…
KK: Who can live in this stupid, friendless city where everyone seeks to
exploit you every moment of the day? Can you trust anyone out here?
Is anyone trustworthy? Is anyone a friend you can count on?
I am determined to get out of this futile rat race and live as I've
always wanted to. In my native Khandwa, the land of my forefathers.
Who wants to die in this ugly city?
PN: Why did you come here in the first place?
KK: I would come to visit my brother Ashok Kumar. He was such a big
star in those days. I thought he could introduce me to KL Saigal
who was my greatest idol. People say he used to sing through his
nose. But so what? He was a great singer. Greater than anyone else.
PN: I believe you are planning to record an album of famous Saigal
songs….
KK: They asked me to. I refused. Wh…

डॉ चंद्रप्रकाश द्विवेदी से अजय ब्रह्मात्‍मज की बातचीत (वीडियो बातचीत )

2 मार्च 2013 को मुंबई में डॉ चंद्रप्रकाश द्विवेदी से मैंने उनके निर्देशक होने से लेकर सिनेमा में उनकी अभिरुचि समेत साहित्‍य और सिनेमा के संबंधों पर बात की थी। मेरे मित्र रवि शेखर ने उसकी वीडियो रिकार्डिंग की थी। उन्‍होंने इसे यूट्यूब पर शेयर किया है। वहीं से मैं ये लिंक यहां चवन्‍नी के पाठकों के लिए दे रहा हूं। आप का फीडबैक इस नए प्रयास को आंकेगा और बताएगा कि आगे ऐसे वीडियो किस रूप में  पेश किए जाएं। पांच किस्‍तों की यह बातचीत एक साथ पेश है...यह बातचीत संजय चौहान के सौजन्‍य से संपन्‍न हुई थी। दोनों मित्रों को धन्‍यवाद !
पहली किस्‍त
http://www.youtube.com/watch?v=K3vsQGenAyo

दूसरी किस्‍त 
http://www.youtube.com/watch?v=eBSsvIr6VN4

तीसरी किस्‍त 
http://www.youtube.com/watch?v=fzwnPNjigbE

चौथी किस्‍त 
http://www.youtube.com/watch?v=imvxn8VMDwc

पांचवीं किस्‍त 
http://www.youtube.com/watch?v=_JkdqS1XkWM

फिल्‍म रिव्‍यू : मेरे डैड की मारुति

Image
-अजय ब्रह्मात्‍मज यशराज फिल्म्स युवा दर्शकों को ध्यान में रख कर कुछ फिल्में बनाती है। 'मेरे डैड की मारूति' इसी बैनर वाय फिल्म्स की फिल्म है। चंडीगढ़ में एक पंजाबी परिवार में शादी की पृष्ठभूमि में गढ़ी यह फिल्म वहां के युवक-युवतियों के साथ बाप-बेटे के रिश्ते, दोस्ती और निस्संदेह मोहब्बत की भी कहानी कहती है। फिल्म में पंजाबी संवाद और पंजाबी गीत-संगीत की बहुलता है। इसे हिंदी में बनी पंजाबी फिल्म कह सकते हैं। पंजाब का रंग-ढंग अच्छी तरह उभर कर आया है। ऐसी फिल्में क्षेत्र विशेष के दर्शकों का भरपूर मनोरंजन कर सकती हैं। भविष्य में हिंदी में इस तरह की क्षेत्रीय फिल्में बढ़ेंगी, जो बिहार, राजस्थान, हिमाचल की विशेषताओं के साथ वहां के दर्शकों का मनोरंजन करें। तेजिन्दर (राम कपूर) और समीर (साकिब सलीम) बाप-बेटे हैं। अपने बेटे की करतूतों से हर दम चिढ़े रहने वाले तेजिन्दर समीर को किसी काम का नहीं समझते। समीर अपने जिगरी दोस्त गट्टू के सथ शहर और यूनिवर्सिटी में मंडराता रहता है। अचानक एक लड़की उसे पसंद करती है और डेट का मौका देती है। डेट पर जाने के लिए समीर अनुमति लिए बगैर अपने डैड …

फिल्‍म रिव्‍यू : जॉली एलएलबी

Image
-अजय ब्रह्मात्‍मज तेजिन्दर राजपाल - फुटपाथ पर सोएंगे तो मरने का रिस्क तो है। जगदीश त्यागी उर्फ जॉली - फुटपाथ गाड़ी चलाने के लिए भी नहीं होते। सुभाष कपूर की 'जॉली एलएलबी' में ये परस्पर संवाद नहीं हैं। मतलब तालियां बटोरने के लिए की गई डॉयलॉगबाजी नहीं है। अलग-अलग दृश्यों में फिल्मों के मुख्य किरदार इन वाक्यों को बोलते हैं। इस वाक्यों में ही 'जॉली एलएलबी' का मर्म है। एक और प्रसंग है, जब थका-हारा जॉली एक पुल के नीचे पेशाब करने के लिए खड़ा होता है तो एक बुजुर्ग अपने परिवार के साथ नमूदार होते हैं। वे कहते हैं साहब थोड़ा उधर चले जाएं, यह हमारे सोने की जगह है। फिल्म की कहानी इस दृश्य से एक टर्न लेती है। यह टर्न पर्दे पर स्पष्ट दिखता है और हॉल के अंदर मौजूद दर्शकों के बीच भी कुछ हिलता है। हां, अगर आप मर्सिडीज, बीएमडब्लू या ऐसी ही किसी महंगी कार की सवारी करते हैं तो यह दृश्य बेतुका लग सकता है। वास्तव में 'जॉली एलएलबी' 'ऑनेस्ट ब्लडी इंडियन' (साले ईमानदार भारतीय) की कहानी है। अगर आप के अंदर ईमानदारी नहीं बची है तो सुभाष कपूर की 'जॉली एलएलबी' आप …

व्यंग्य निर्देशक सुभाष कपूर

Image
-अजय ब्रह्मात्मज
    बाहर से आए निर्देशक के लिए यह बड़ी छलांग है। खबर है कि सुभाष कपूर विधू विनोद चोपड़ा और राज कुमार हिरानी की ‘मुन्नाभाई  ... ’ सीरिज की अगली कड़ी का निर्देशन करेंगे। पिछले हफ्ते आई इस खबर ने सभी को चौंका दिया। ‘मुन्नाभाई एमबीबीएस’ और ‘लगे रहो मुन्नाभाई’ के बाद ‘मुन्नाभाई चले अमेरिका’ की घोषणा हो चुकी थी। उसके फोटो शूट भी जारी कर दिए गए थे। राजकुमार हिरानी उस फिल्म को शुरू नहीं कर सके। स्क्रिप्ट नहीं होने से फिल्म अटकी रह गई। इस बीच राजकुमार हिरानी ने ‘3 इडियट’ पूरी कर ली। उसकी अपार और रिकार्ड सफलता के बाद वे फिर से आमिर खान के साथ ‘पीके’ बनाने में जुट गए हैं। इसी दरम्यान सुभाष कपूर को ‘मुन्नाभाई ....’ सीरिज सौंपने की खबर आ गई।
    सुभाष कपूर और विधु विनोद चोपड़ा के नजदीकी सूत्रों की मानें तो यह फैसला अचानक नहीं हुआ है। राजकुमार हिरानी की व्यस्तता को देखते हुए यह जरूरी फैसला लेना ही था। ‘मुन्नाभाई ...’ सीरिज में दो फिल्में कर लेने के बाद राजकुमार हिरानी अन्यमनस्क से थे। शायद वे इस सीरिज से ऊब गए हों या नए विषयों का हिलोर उन्हें बहा ले जाता हो। ‘मुन्नाभाई ...’ के मुन्न…

परदे पर साहित्‍य -ओम थानवी

Image
ओम थानवी का यह लेख जनसत्‍तासे चवन्‍नी के पाठकों के लिए लिया गया है। ओम जी ने मुख्‍य रूप से हिंदीसिनेमा और हिंदी साहित्‍य पर बात की है। इस जानकारीपूर्ण लेख से हम सभीलाभान्वित हों। -ओम थानवी जनसत्ता3 मार्च, 2013: साहित्य अकादेमी ने अपने साहित्योत्सव में इस दफा तीन दिनकी एक संगोष्ठी साहित्य और अन्य कलाओं के रिश्ते को लेकर की।एक सत्र ‘साहित्य और सिनेमा’ पर हुआ। इसमें मुझे हिंदी कथा-साहित्य औरसिनेमा पर बोलने का मौका मिला।
सिनेमा के मामले में हिंदी साहित्य कीबात हो तो जाने-अनजाने संस्कृत साहित्य पर आधारित फिल्मों की ओर भी मेराध्यान चला जाता है। जो गया भी। मैंने राजस्थानी कथाकार विजयदान देथा उर्फबिज्जी के शब्दों में सामने आई लोककथाओं की बात भी अपने बयान में जोड़ ली।
बिज्जीकी कही लोककथाएं राजस्थानी और हिंदी दोनों में समान रूप से चर्चित हुईहैं। हिंदी में शायद ज्यादा। उनके दौर में दूसरा लेखक कौन है, जिस पर मणिकौल से लेकर हबीब तनवीर-श्याम बेनेगल, प्रकाश झा और अमोल पालेकर का ध्यानगया हो?
वैसे हिंदी साहित्य में सबसे ज्यादा फिल्में- स्वाभाविक ही-उपन्यास सम्राट प्रेमचंद की रचनाओं पर बनी हैं। इसलिए नहीं क…