Posts

Showing posts with the label फ़िल्म कारोबार

फिल्मी कारोबार खुले हैं नए द्वार

-अजय ब्रह्मात्मज
अभी तक हम यही जानते और मानते हैं कि फिल्में यदि बॉक्स ऑफिस पर अच्छा प्रदर्शन नहीं करतीं, तो निर्माता घाटे में रहता है और इसीलिए उक्त फिल्म से जुड़े स्टारों का बाजार भाव गिर जाता है। यह सच जरूर है, लेकिन फिल्मों के व्यापक कारोबार का यह पूरा सच नहीं है। इन दिनों फिल्मों की कमाई के कई नए द्वार खुल गए हैं। आमतौर पर हिंदी फिल्मों का निर्माता अगर अपनी फिल्म रिलीज कर लेता है, तो वह नुकसान में नहीं रहता। तत्काल वह फायदे में भले ही नहीं दिखे, लेकिन एक अंतराल में वह निवेशित राशि निकाल ही लेता है। इसीलिए लगातार फ्लॉप हो रहीं फिल्मों के बावजूद निर्माता नई फिल्मों की घोषणाएं करते ही रहते हैं।
दरअसल, पहले बॉक्स ऑफिस कलेक्शन ही फिल्मों की आय का मुख्य जरिया था, क्योंकि फिल्में 25 हफ्तों और 50 हफ्तों तक सिनेमाघरों में टिके रहने के बाद निर्माताओं और स्टारों के चेहरे पर मुस्कान लाती थीं, लेकिन सच तो यह है कि अब चेहरे पर यह मुस्कान 25 और 50 दिनों में ही आ जाती है। कुछ फिल्में तो सप्ताहांत के तीन दिनों में ही फायदा दिखाने लगती हैं। एक सच यह भी है कि लगभग एक हजार प्रिंट एक साथ सिनेमाघरों में…