Posts

Showing posts with the label क्रिकेट

क्रिकेट और सिनेमा

'अजय ब्रह्मात्‍मज क्या कभी ऐसा भी होगा कि किसी फिल्म की पूर्वघोषित रिलीज की तारीख देख कर क्रिकेट व‌र्ल्ड कप या आईपीएल के आयोजक अपने मैच की तारीख बदल दें या उस तारीख को पहले ही से कोई मैच न रखें? फिलहाल इसकी कोई संभावना नहीं बनती, क्योंकि हम देख रहे हैं कि क्रिकेट मैचों के डर से फिल्मों की रिलीज आगे-पीछे खिसकाई जा रही हैं। इस साल 19 फरवरी को व‌र्ल्ड कप आरंभ हुआ। उसके ठीक एक दिन पहले विशाल भारद्वाज की फिल्म 7 खून माफ रिलीज हुई। फिल्म को दर्शकों ने माफ नहीं किया। कुछ ट्रेड पंडितों और प्रियंका चोपड़ा को लगता है कि व‌र्ल्ड कप ने उनके दर्शकों को घरों में बांध लिया। हालांकि इस धारणा का कोई प्रमाण नहीं है, फिर भी हर फ्लॉप के दस कारण होते हैं। व‌र्ल्ड कप तो एक ठोस कारण बनता है। इस धारणा को इस तथ्य से बल मिलता है कि उसके बाद केवल चार मार्च को तनु वेड्स मनु ही रिलीज हो पाई। वैसे व‌र्ल्ड कप के दरम्यान इस फिल्म का कारोबार औसत से बेहतर रहा। इस फिल्म के चलने से 7 खून माफ के पक्ष में व‌र्ल्ड कप का कारण थोड़ा कमजोर हो जाता है।7 खून माफ और तनु वेड्स मनु के विपरीत बिजनेस के बावजूद सच यही है कि व‌र्ल…

दरअसल : हिंदी फिल्में और क्रिकेट

-अजय ब्रह्मात्‍मज
हिंदी फिल्में किसी आपदा, विपदा, खुशी और गम से संचालित नहीं होतीं। हर समय और मौसम में उनकी मांग बनी रहती है। आम दर्शक को इससे सस्ता मनोरंजन नहीं मिलता, इसलिए वे हर सूरत में सिनेमाघरों की ओर रुख करते हैं, लेकिन पिछले दो साल से आयोजित आईपीएल के क्रिकेट मैचों ने इस धारणा को बदला है। 2008 में आयोजित पहले आईपीएल के समय यह संभावना व्यक्त की गई थी कि इससे फिल्मों का बॉक्स ऑफिस कलेक्शन प्रभावित होगा। वास्तविक आंकड़े कभी नहीं मिल पाते, लेकिन ट्रेड पंडितों ने बताया कि आईपीएल की वजह से फिल्में अपेक्षित व्यवसाय नहीं कर सकीं। पिछले साल आईपीएल दक्षिण अफ्रीका चला गया था, फिर भी हिंदी फिल्मों का व्यवसाय प्रभावित हुआ। इस साल आईपीएल की तारीखों की घोषणा के साथ बड़ी फिल्मों ने किनारा कर लिया है। कुछ फिल्में आईपीएल के पहले और कुछ बाद में खिसक गई। सबने बिजनेस और कलेक्शन को ध्यान में रखकर ऐसा किया। अभी तक जो संभावना और धारणा थी, वह वास्तविकता बन चुकी है। फिल्म निर्माता और इस कारोबार से जुड़े सभी व्यक्तियों ने स्वीकार कर लिया है कि आईपीएल के दौरान फिल्में रिलीज करना जोखिम का काम है। कुछ फिल्…