Posts

Showing posts from July, 2020

सिनेमालोक फिर से दबा ‘पॉज’ बटन

सिनेमालोक फिर से दबा ‘पॉज’ बटन -अजय ब्रह्मात्मज पिछले हफ्ते इसी स्तंभ में ‘शूटिंग आरंभ होने के आसार’ का जिक्र हुआ था. इन दिनों जिस प्रकार से फिल्म कलाकारों के घर से निकलने, स्टूडियो जाने और पार्टियों की तस्वीरें आ रही थीं,उनसे लग रहा था कि सब कुछ सामान्य हो रहा है. इस बीच अमिताभ बच्चन और अभिषेक बच्चन के कोविडसंक्रमित होने से फिल्म इंडस्ट्री फिर से ठिठक गई है. ‘पॉज’ बटन फिर से दब गया है. हम सभी जानते हैं कि अमिताभ बच्चन और अभिषेक बच्चन दोनों ही शूटिंग और डबिंग के काम में लगे हुए थे. कोविड-19 के संक्रमण के स्रोत का पता लगाना मुश्किल काम है, लेकिन ऐसा लगता है कि शूटिंग में डबिंग की गतिविधियों में शामिल होने से इसकी संभावना बनी होगी. बच्चन पिता-पुत्र अभी डॉक्टरों की निगरानी में अस्पताल में हैं. ऐश्वर्या राय बच्चन और आराध्या घर पर ही क्वारंटाइन का पालन कर रहे हैं. बच्चन परिवार के अलावा खेर परिवार में भी कोविड संक्रमण हो चूका है. आने वाले दिनों में गहन जांच के बाद कुछ और मामले निकल सकते हैं. अभी संख्या और व्यक्ति अधिक महत्वपूर्ण नहीं है. महत्वपूर्ण सावधानी है. किसी भी प्रकार की लापरवाही कोव…

परी चेहरा नसीम बानो

Image
जन्मदिन विशेष नसीम बानो(४ जुलाई १९१६- १८ जून २००२) परी चेहरा नसीम बानो -अजय ब्रह्मात्मज104 वर्ष पहले पुरानी दिल्ली में गायिका शमशाद बेगम के घर रोशन आरा बेगम का जन्म हुआ था. यह शमशाद बेगम फिल्मों की मशहूर गायिका शमशाद बेगम नहीं थीं. शमशाद बेगम दिल्ली में नाच-गाना करती थीं. वह छमियाबाई के नाम से मशहूर थीं. उनकी बेटी रोशन आरा बेगम फिल्मों में आने के बाद नसीम बानो नाम से विख्यात हुई. नसीम बानो के वालिद हसनपुर के नवाब थे. उनका नाम वाहिद अली खान था. मां चाहती थीं कि उनकी बेटी बड़ी होकर मेडिकल की पढ़ाई करे और डॉक्टर बने, लेकिन बेटी को तो फिल्मों का चस्का लग गया था. सुलोचना(रुबी मेयर्स) की फिल्में देखकर वह फिल्मों की दीवानी हो चुकी थी. स्कूल की छुट्टी के दिनों एक बार वह मां के साथ मुंबई आई थी. रोज मां से मिन्नत करती कि मुझे शूटिंग दिखला दो. एक दिन मां का दिल बेटी की जीत के आगे पसीज गया और वह उसे शूटिंग पर ले गईं. ‘सिल्वर किंग’ की शूटिंग चल रही थी. उसमें मोतीलाल और सबिता देवी काम कर रहे थे. किशोरी रोशन आरा एकटक उनकी अदाओं को देखती रही. इसे संयोग कहें या नसीम बानो की खुशकिस्मत... उस दिन सोहराब …