Posts

Showing posts with the label थिएटर

दरअसल :थिएटर, प्रशिक्षण और अभिनय

Image
-अजय ब्रह्मात्मज

    आए दिन हिंदी फिल्मों के स्टार अपने इंटरव्यू में यह कहते मिल जाते हैं कि अभिनय जन्मजात प्रतिभा है। या तो आप अभिनय कर सकते हैं या नहीं कर सकते। अभ्यास या प्रशिक्षण से कोई अभिनेता नहीं बनता। वे अपना या अपने सरीखे दूसरे स्टारों का उदाहरण देने से भी नहीं हिचकते। एक बार मैं एक पापुलर अभिनेत्री का इंटरव्यू कर रहा था। उनसे भी अभिनय के कौशल पर बात चली। उन्होंने एनएसडी और थिएटर से आई कुछ अभिनेत्रियों का हवाला दिया अैर पूछा कि बताएं इतनी टैलेंटेड होने के बाद भी वे क्यों नहीं चल पाईं? उन्हें अभिनय की संपूर्ण जानकारी है, लेकिन दर्शक उन्हें नहीं अपनाते। उनसे बहस करना फिजूल था, क्योंकि वह प्रतिभा को पैसे और लोकप्रियता के अनुपात में आंक रही थीं।
    सिद्ध अभिनेता और प्रसिद्ध स्टार में फर्क होता है। अमिताभ बच्चन प्रसिद्ध स्टार हैं, जबकि नसीरुद्दीन शाह सिद्ध अभिनेता हैं। नाम, शोहरत और कमाई में नसीरुद्दीन शाह और अमिताभ बच्चन की कोई तुलना नहीं हो सकती। इसके बावजूद 20-25 सालों के बाद दोनों की फिल्में देखने-दिखाने की बात होगी तो निस्संदेह शेल्फ पर नसीरुद्दीन शाह की अधिक फिल्में होंगी। फ…