Posts

Showing posts with the label विशाल भरद्वाज

विशाल भारद्वाज की पटाखा

Image
विशाल भारद्वाज की पटाखा -अजय ब्रह्मात्मज
पहले दीपिका पादुकोण की पीठ की परेशानी और फिर इरफ़ान खान के कैंसर की वजह से विशाल भारद्वाज को अगली फिल्म की योजना टालनी पड़ी.वे दुसरे कलाकारों के साथ उस फिल्म को नहीं बनाना कहते हैं.अभी के दौर में यह एक बड़ी घटना है,क्योंकि अभी हर तरफ ‘तू नहीं और सही,और नहीं कोई और सही’ का नियम चल रहा है.विशाल ने उसके साथ ही ‘छूरियां' के बारे में भी सोच रखा था.चरण सिंह पथिक की कहने ‘दो बहनें' पर आधारित इस फिल्म की योजना लम्बे समय से बन रही थी.संयोग ऐसा बना कि ‘छूरियां’ ही बैक बर्नर से  ‘पटाखा' बन कर सामने आ गयी. विशाल भारद्वाज ‘पटाखा' के साथ फिर से ‘मकड़ी' और ‘मकबूल' के दौर की सोच और संवेदना में लौटे हैं.सीमित बजट में समर्थ कलाकारों को लेकर मनमाफिक फिल्म बनाओ और सृजन का आनद लो. ‘पटाखा' में राधिका मदान,सान्या मल्होत्रा और सुनील ग्रोवर मुख्य भूमिकाओं में हैं.तीनों फिल्मों के लिहाज से कोई मशहूर नाम नहीं हैं.सुनील ग्रोवर कॉमेडी शो में विभिन्न किरदारों के रूप में आकर दर्शकों को हंसाते रहे हैं.खुद उन्हें भी उम्मीद नहीं थी कि विशाल उन्हें अपनी फिल्…

इंसानी दिमाग का अंधेरा लुभाता है मुझे: विशाल भारद्वाज

Image
मकडी से कमीने तक के सफर में ही विशाल भारद्वाज ने अपना खास परिचय दे दिया है। उनकी फिल्मों की कथा-भूमि भारतीय है। संगीत निर्देशन से उनका फिल्मी करियर आरंभ हुआ, लेकिन जल्दी ही उन्होंने निर्देशन की कमान संभाली और कामयाब रहे। उनकी फिल्में थोडी डार्क और रियल होती हैं। चलिए जानते हैं उनसे ही इस फिल्मी सफर के बारे में। डायरेक्टर बनने की ख्वाहिश कैसे पैदा हुई?फिल्म इंडस्ट्री में स्पॉट ब्वॉय से लेकर प्रोड्यूसर तक के मन में डायरेक्टर बनने की ख्वाहिश रहती है। हिंदुस्तान में फिल्म और क्रिकेट दो ऐसी चीजें हैं, जिनके बारे में हर किसी को लगता है कि उससे बेहतर कोई नहीं जानता। सचिन को ऐसा शॉट खेलना चाहिए और डायरेक्टर को ऐसे शॉट लेना चाहिए। हर एक के पास कहानी है। रही मेरी बात तो संगीतकार के तौर पर जगह बनाने के बाद मैं फिल्मों की स्क्रिप्ट पर डायरेक्टर से बातें करने लगा था। स्क्रिप्ट समझने के बाद ही आप बेहतर संगीत दे सकते हैं। बैठकों से मुझे लगा कि जिस तरह का काम ये कर रहे हैं, उससे बेहतर मैं कर सकता हूं। इसी दरम्यान संगीत के लिए फिल्में मिलनी कम हुई तो लगा कि इस रफ्तार से तो दो सालों बाद काम ही नहीं रहेग…