Posts

Showing posts with the label फिल्‍म अवार्ड

इस अवार्ड वेला में

Image
-अजय ब्रह्मात्‍मज हिंदी फिल्मों के पॉपुलर अवार्ड का सिलसिला चालू है। देश-विदेश में इनके आयोजन हो रहे हैं। स्क्रीन और जी सिने अवार्ड के विजेता मुस्करा रहे हैं। इस स्तंभ के छपने तक फिल्मफेअर अवार्ड समारोह का आयोजन हो चुका रहेगा। पॉपुलर अवार्ड में फिल्मफेअर सबसे पुराना है। इसकी पहले जैसी साख तो अब नहीं, लेकिन पुराना होने का लाभ इसे मिलता है। जून में आईफा अवार्ड के आयोजन तक छोटे-बड़े दर्जन भर अवार्ड समारोह हो चुके होंगे। इनमें बेशर्मी से पुरस्कार बांटे जाएंगे। बांटना शब्द इन पुरस्कारों की सटीक क्रिया है। अन्यथा आप इन अवार्ड समारोहों के विजेताओं के नाम से कैसे सहमत होंगे?सैटेलाइट चैनलों के आने के बाद सारे पुरस्कार समारोहों ने इवेंट का रूप ले लिया है। आयोजकों की कोशिश रहती है कि सारे लोकप्रिय सितारे कुछ घंटों के लिए ही सही, लेकिन उस शाम समारोह की शोभा बढ़ा दें। इससे इवेंट की दर्शकता बढ़ती है। भले ही शाहरुख खान कोई नीच मजाक कर रहे हों या हरकत.., फिल्म के संवादों से लेकर इवेंट के संभाषणों तक में श्लील-अश्लील का फर्क समाप्त हो गया है। फिल्मों में किरदार अश्लील संवाद या अपशब्द बोलते हैं तो वह प…