Posts

Showing posts with the label ऑस्कर

पैरासाइट : क्या ऑस्कर विजेता’ होना किसी फ़िल्म के सर्वश्रेष्ठ होने की सबसे बड़ी सनद है?

क्या ऑस्कर विजेता’ होना किसी फ़िल्म के सर्वश्रेष्ठ होने की सबसे बड़ी सनद है? प्रतिमा सिन्हा

इतिहास के बनने का क्षण निश्चित होता है, जिस क्षण से पहले हम सब अनजान होते हैं, लेकिन उस क्षण के बीत जाने के बाद हम सिर्फ और सिर्फ चमत्कृत होते हैं. देर तक एक सम्मोहन में बंधे हुए रहते हैं. ऐसे ही एक सम्मोहन को मैंने भी छूकर देखने और महसूसने की कोशिश की. फिर मैंने उस नवनिर्मित इतिहास को कैसे देखा, समझा और ख़ुद उस विषय पर क्या सोचा, आज यही बात आपसे साझा करना चाहती हूँ. हम अक्सर पश्चिम की मोहर लगने के बाद किसी भी चीज़ की महत्ता और मूल्य को ज़्यादा समझने लगते हैं. ऐसी ही मोहर से प्रामाणिक रूप में सर्वश्रेष्ठ बन गयी फ़िल्म ‘पैरासाइट’ इन दिनों चर्चा में है. निर्देशक बोंग जून हो निर्देशित ‘पैरासाइट’ पहली ऐसी एशियन फिल्म बन गई है, जिसे ऑस्कर अवार्ड से नवाजा गया है. कोरियाई भाषा की इस फिल्म को ऑस्कर 2020 की छह अलग-अलग श्रेणियों में नामांकित किया गया था, जिनमें से चार श्रेणियों का पुरस्कार ‘पैरासाइट’ ने अपने नाम कर लिया है. ‘सर्वश्रेष्ठ फिल्म’, ‘सर्वश्रेष्ठ अंतरराष्ट्रीय फीचर फिल्म’,‘सर्वश्रेष्ठ निर्देशन’और ‘सर्व…

दरअसल:ऑस्कर अवार्ड से आगे का जहां..

Image
-अजय ब्रह्मात्मज
हम सभी खुश हैं। एक साथ तीन ऑस्कर पाने की खुशी स्वाभाविक है। मौलिक गीत और संगीत के लिए रहमान को दो और ध्वनि मिश्रण के लिए रेसूल पुकुट्टी को मिले एक पुरस्कार से भारतीय प्रतिभाओं को नई प्रतिष्ठा और पहचान मिली है। इसके पहले भानु अथैया को रिचर्ड एटनबरो की फिल्म गांधी के लिए कास्ट्यूम डिजाइनर का ऑस्कर अवार्ड मिला था।
सत्यजित राय के सिनेमाई योगदान के लिए ऑस्कर ने उन्हें विशेष रूप से सम्मानित किया था। इस तरह कुल पांच पुरस्कारों के साथ भारत ने अपनी मौजूदगी तो दर्ज कर दी है, लेकिन दरअसल, यहां एक प्रश्न यह उठता है कि क्या ऑस्कर पुरस्कार पाने के बाद भारतीय फिल्मों की तस्वीर बदलेगी?
भारतीय फिल्में पिछले पचास सालों से इंटरनेशनल फेस्टिवल में पुरस्कार बटोरती रही हैं। हर साल दो-चार पुरस्कार किसी न किसी फिल्म के लिए मिल ही जाते हैं। अनेक फिल्मों को सराहना मिलती है और देश-विदेश में उनके प्रदर्शन भी किए जाते हैं, लेकिन एक सच यह भी है कि इन पुरस्कृत और सम्मानित फिल्मों में से अनेक फिल्में भारतीय सिनेमाघरों में प्रदर्शित ही नहीं हो पाती हैं! गौर करें, तो हम पाएंगे कि वितरकों और प्रदर्शकों के…

एक आगाज है आस्कर

Image
81वें अकादमी अवार्ड यानी आस्कर में स्लमडाग मिलिनेयर को नौ श्रेणियों में दस नामंाकन मिले थे। इस फिल्म ने आठ श्रेणियों में पुरस्कार हासिल कर इतिहास रच दिया। स्लमडाग मिलिनेयर को मिले आस्कर पुरस्कारों से कुछ लोग आह्लादित हैं तो एक समूह ऐसा भी है जो भारतीय खुशी को 'बेगानी शादी में अब्दुल्ला दीवाना' समझ रहा है। उनका कहना है कि यह भारतीय फिल्म नहीं है, इसलिए हमारी खुशी निराधार है। तर्क के लिहाज से वे सही हैं, लेकिन प्रभाव, भावना और उत्साह की बात करें तो स्लमडाग मिलिनेयर की उपलब्धियों पर खुश होना किसी और के दरवाजे पर दीपक जलाना नहीं है। गीत, संगीत और ध्वनि मिश्रण के लिए भारतीयों को मिले पुरस्कारों से यह साबित होता है कि भारतीय प्रतिभाएं अंतरराष्ट्रीय मानदंड के समकक्ष हैं। जरूरत है कि विभिन्न प्रतियोगिताओं और समारोहों में उन्हें एंट्री मिले और उससे भी पहले जरूरी है कि देश में मौजूद प्रतिभाओं को नई चुनौतियां और अवसर मिलें ताकि वे अपनी प्रतिभा का प्रदर्शन कर सकें। स्लमडाग मिलिनेयर के माध्यम से भारतीय प्रतिभाओं को अंतरराष्ट्रीय पहचान और सम्मान का अवसर मिला। आस्कर पुरस्कार श्रेष्ठता का अक…

एकलव्य ही गयी ऑस्कर

Image
ऑस्कर से जारी सूची में एकलव्य शामिल है.देश में ऑस्कर को लेकर चल रहा विवाद घिनौने स्तर तक पहुंच गया था.मामला कोर्ट तक गया.चवन्नी नही समझ पा रहा है कि क्यों हर बार कोई भी पुरस्कार,सम्मान और प्रतिष्ठा को पहले शक की निगाह से देखा जाता है.उस पर सवाल उठाये जाते हैं.विवाद खडा होता है.कुल मिला कर स्वाद खट्टा हो जाता है.अब एकलव्य का ही प्रसंग लें.इस पर ऐसे विवाद की कोई ज़रूरत नही थी.इसके साथ यह भी ज़रूरी है की हर समिति पारदर्शी तरीके से काम करे.शक-ओ-शुबहा कि गुंजाइश ही क्यों हो? बहहाल,एकलव्य ऑस्कर कि सूची में पहुंच गयी है.फिल्म के निर्देशल विधु विनोद चोपडा के लिए यह खुशी और जिम्मेदारी का मौका है.अब वे अपनी पूरी ताकात लगाएं और इस बात की कोशिश करें कि एकलव्य ज्यूरी के सारे सदस्य देखें.ऑस्कर में जम कर प्रचार करना पड़ता है.विधु को कुछ दिनों के लिए वहीँ डेरा डालना होगा.चवन्नी भी चाहेगा कि उसके देश की फिल्म पहले नामांकन सूची में पहुंचे और फिर पुरस्कार भी हासिल करे.चवन्नी की शुभकामनायें विधु और एकलव्य के साथ हैं। ऑस्कर की विदेशी भाषा की श्रेणी में ग़ैर अंग्रेजी फ़िल्में भेजी जाती हैं.halanki चवन्नी के द…

सल।म सलीम बाबा!

Image
नॉर्थ कोलकाता में रहते हैं सलीम बाबा. दस साल की उम्र से वे सिनेमाघरों के बाहर फेंके फिल्मों के निगेटिव जमा कर उन्हें चिपकाते हैं और फिर चंद मिनटों की फिल्म टुकड़ियों की तरह अपने अ।सपास के बच्चों को दिखाते हैं. यह उनका पेशा है. यही उनकी अ।जीविका है. ऐसे ही फिल्में दिखाकर वे पांच बच्चों के अपने परिवार का भरण-पोषण कर रहे हैं.
चवन्नी को पता चला कि टिम स्टर्नबर्ग ने उन पर 14 मिनट की एक डॉक्यूमेंट्री फिल्म 'सलीम बाबा' बनायी है. यह डॉक्यूमेंट्री फिल्म ऑस्कर भेजी गयी थी. खुशी की बात है कि 'सलीम बाबा' अंतिम अ।ठ की सूची में अ। गयी है. अगर ज्यूरी को पसंद अ।ई तो यह नामांकित भी होगी. 'सलीम बाबा' का पूरा नाम सलीम मोहम्मद है. उन्हे अपने पिता से यह प्रोजेक्टर विरासत में मिला है. इसे हाथ से चलाया जाता है. सलीम बाबा की फिल्में देखने बच्चे जमा होते हैं. सिनेमाघरों में जाकर फिल्में देख पाने में असमर्थ बच्चे अपने चहेते स्टारों की चंद झलकियां या फिल्म टुकड़ियां देख कर ही मस्त हो जाते हैं.
सलीम बाबा के पास जो हस्तचालित प्रोजेक्टर है, उस पर भी विदेशियों की नजर है. ऐसे प्रोजेक्टर दुनिया …

ऑस्कर के लिए मारामारी

Image
ऑस्कर के लिए परेशान हैं सभी.चवन्नी की समझ में नहीं आ रहा है कि विदेशी पुरस्कार के लिए एेसी मारामारी क्यों चल रहीं है?याद करें तो ऑस्कर पुरस्कारों की विदेशी भाषा श्रेणी की नामांकन सूची में लगान के पहुंचने के बाद सभी भारतीय फिल्मकारों को लगने लगा है कि उनकी फिल्म इस प्रतियोगिता के लिण अवश्य भेजी जानी चाहिए.अस साल एकलव्य भेजी जा रही है या यों कहें कि भेजी जा चुकी है,लेकिन धर्म की निर्देशक भावना तलवार को लगता है िक एकलव्य के निर्माता निर्देशक विधु विनोद चोपड़ा ने अपने प्रभाव से अपनी फिल्म को चुनवा लिया.फिल्म इंडस्ट्री तो क्या हर क्षेत्र में इस तरीके के मैनीपुलेशन चलते हैं.
आइए,आाप को किस्सा सुनाते हैं.ऑस्कर के नियमों के मुताबिक हर देश से एक फिल्म िवदेशी भाषा श्रेणी के पुरस्कार के लिए भेजी जा सकती हैणयमं तो हर साल एक फिल्म जाती है,लेकिन लगान के नामांकन सूची में पहुंचने के बाद फिल्म इंडस्ट्री और आम लोग इस पुरस्कार के प्रति जागरूक हुए.भारत से फिल्म फेडरेशन ऑफ इंडिया ही ऑस्कर के लिए भेजी जाने वाली फिल्म का चुनाव करती है.इस कार्य के लिए एक ज्यूरी बनायी जाती है.इस ज्यूरी में फिलहाल मुंबई के ज्या…