Search This Blog

Showing posts with label मल्लिका सहरावत. Show all posts
Showing posts with label मल्लिका सहरावत. Show all posts

Sunday, October 17, 2010

मैं अपनी इमेज को फन की तरह लेती हूं-मल्लिका सहरावत

-अजय ब्रह्मात्मज

करीब महीने भर पहले डबल धमालके लिए मल्लिका सहरावत लॉस एंजेल्स के लंबे प्रवास से लौटीं। वहां वह अपनी फिल्म हिस्सके पोस्ट प्रोडक्शन और हालीवुड स्टारों की संगत में समय बिता रही थीं। दूर देश में होने के बावजूद वह अपने भारतीय प्रशंसकों के संपर्क में रहीं। ट्विटर ने उनका काम आसान कर दिया था। करीब से उन पर नजर रखने वालों ने लिखा कि विदेश के लंबे प्रवास से लौटने पर एयरपोर्ट से ही मल्लिका की जबान बदल गई थी। उन्हें बीच में जीभ ऐंठकर अमेरिकी उच्चारण के साथ बोलते सुना गया था, लेकिन एयरपोर्ट पर टीवी इंटरव्यू देते समय फिर से उनकी खालिस बोली की खनक सुनाई पड़ी। सालों पहले अपने ख्वाबों को लेकर हरियाणा से निकली मल्लिका ने अपने सफर में कई उतार-चढ़ाव देखे। वह अभी शीर्ष पर नहीं पहुंची हैं, लेकिन उनकी अदा और अंदाज का निरालापन उन्हें नजरअंदाज नहीं होने देता। झंकार से यह खास बातचीत डबल धमालके लोकेशन पर मुंबई के उपनगर कांदिवली के एक स्कूल के पास हुई। वह थोड़ी फुर्सत में थी और उन्होंने परिचित पत्रकारों को बुला रखा था। हमारी मुलाकात लगभग पांच सालों के बाद हो रही थी।

-पांच सालों का लंबा वक्त गुजर गया। बातचीत का सिलसिला कहां से शुरू करें?

0 आप जहां से हुकम करो...अच्छा पहले यह बताओ कि मैं दुबली दिख रही हूं क्या? आप इतने सालों के बाद मुझे देख रहे हो। बताओ कि कैसी लग रही हूं?

(किसी लडक़ी और वह भी अभिनेत्री के ऐसा पूछने पर आप अच्छी लग रही हैं के सिवा कोई जवाब दे सकते हैं क्या? मल्लिका ज्यादा स्लिम और सुघड़ हो गई हैं। अपनी देह का खास ध्यान रखती हैं वह ... मेरा जवाब होता है आप अच्छी लग रही हैं और खुशी है कि आप जीरो साइज के चक्कर में नहीं हैं)

मल्लिका - ना.. ना..उसमें तो जाना ही नहीं है। आप ने सुना ही होगा बोन आर फॉर डॉग्स - मैन लाइक मीट (वह अपनी ही बात पर खिलखिलाकर हंसने लगती हैं। मल्लिका का यह खास अंदाज है कि वह सामने बैठे व्यक्ति को अपनी खुशी में ले आती हैं।) आप देखें कि हिंदी फिल्मों में जीरो साइज हीरोइनें ज्यादा पापुलर नहीं रहीं। अपने यहां तो भरे-पूरे जिस्म की हीरोइनें पसंद की जाती हैं।

- अच्छी बात है कि आप लगातार एक्टिव हो। ट्विट से आप की गतिविधियों की जानकारी मिलती रहती है। अपने प्रशंसकों के साथ आपके रिश्ते में पर्देदारी नहीं दिखती। आप उनके हर तरह के सवालों के जवाब बेतकल्लुफ अंदाज में देती हैं... यह सब कैसे आरंभ हुआ?

0 जब मैं लॉस एंजेल्स गई तो सच बताऊं कि मुझे अपने देश, प्रशंसकों और प्रियजनों की बेहद याद आ रही थी। मुझे मेरे पब्लिसिस्ट ने सलाह दी कि आप ट्विटर अकाउंट खोलो और सभी से बात करो। मुझे बहुत खुशी हुई कि बगैर किसी मिडिएटर के मैंने अपने प्रशंसकों से सीधे बात कर सकती हूं। उनके सवालों के जवाब दे सकती हूं। मुझे मजा आने लगा कि 140 कैरेक्टर में अपनी जवाब दे सकती हूं। ट्विट पर मैंने पोस्ट, वीडियो और अपनी तस्वीरें भी डालीं।

- एक दिन आप अपने अकाउंट से दुनिया भर के प्रशंसकों को उनकी भाषा में जवाब दे रही थीं और फिर बाद में बता भी दिया कि ट्रांसलिट्रेशन की मदद से आप यह कर रही थीं। मुझे लगता है कि आप की साफगोई प्रशंसकों को पसंद आई होगी?

- बिलकुल। पहले तो वे चौंके और जब मैंने सच बताया तो बहुत खुश हुए। आप जानते हो कि मैं अपने इरादों और बातों में हमेशा ईमानदार रही हूं। आगे भी ऐसी ही रहूंगी।

- चर्चा थी कि मल्लिका अब भारत लौट कर नहीं आएंगी? मुंबई के बाद अब उनका पड़ाव हालीवुड ही रहेगा...

0 मैं वापस आ गई हूं,यही बहुत बड़ा जवाब है। यह इंडस्ट्री मेरा घर है। यहां के लोग मेरे दर्शक हैं। मैं एक एक्टर हूं तो मुझे हालीवुड, स्पेन, कोरिया जहां से भी फिल्म मिलेगी, मैं वहां जाकर फिल्में करूंगी। मुझे हालीवुड की स्क्रिप्ट मिली लव बराक’ ... उसके लिए मैं वहां गई। मैं कान फिल्म फेस्टिवल गई। फिर लौट कर आ गई। फिर से कोई फिल्म मिलेगी तो भविष्य में भी जाऊंगी। वहां जाने और रहने का मतलब यह नहीं है कि मैं वहां बस जाऊंगी।

- लॉस एंजेल्स का एक्सपीरिएंस कैसा रहा? आप वहां हिस्सका भी कुछ काम करती रहीं?

0 बहुत अच्छा एक्सपीरिएंस रहा। हिस्सका डायरेक्शन हालीवुड के डायरेक्टर ने किया है। अगर मैं हिस्सके यूनिक पाइंट की बात करूं तो सबसे पहले यही कहूंगी कि वह पूरी तरह से हिंदी फिल्म है। इच्छाधारी नागिन की फिल्म है। बनाई है जेनिफर लिंच ने...लेकिन उन्होंने इसे देसी फिल्म की तरह बनाया है। यह फुल ऑन देसी फिल्म है, जिसमें मैं इच्छाधारी नागिन का किरदार निभा रही हूं। ख्वाहिशमें मैंने 17 किस दिए थे, लेकिन वहां एक इंसान था मेरे साथ। इस फिल्म में तो मेरे साथ नाग है। वह मेरे लिए चैलेंजिंग था। लिंच का कहना था कि तुम नागिन का किरदार निभा रही हो...बी पैशनेट एंड सेक्सी। नकली नाग के साथ सेक्सी कैसे हो सकती थी?

- वैसे आप इच्छाधारी तो हैं,जो चाहती हैं पूरा कर लेती हैं। आप इच्छाधारी नागिन से कम हैं क्या?

0 क्या बात करते हैं? मैंने अपनी इच्छाओं के साथ मेहनत भी की है। अपने देश में इच्छाधारी नागिन का पापुलर मिथ है। पिछले 24 सालों से इस विषय पर कोई फिल्म नहीं आई है। इस फिल्म की शूटिंग के दरम्यान मुझे पता चला कि साउथ में इच्छाधारी नागिन के मंदिर हैं, जहां औरतें संतान के वरदान के लिए जाती हैं। मैंने नागों के बारे में डिटेल में पढ़ा।

- आप यकीन करती हैं ऐसे मिथ पर ...

0 मुझे नहीं मालूम कि इच्छाधारी नागिन होती है कि नहीं? और वे बदला लेती है क्या...इस फिल्म में मैं तो बदला लेती हूं और मेरे शिकार अपनी जान के लिए प्रार्थना करते हैं।

- इच्छाधारी नागिन ही बदला लेती है या मल्लिका भी...

0 दोनों...मजाक की बात छोड़ें तो एक एक्टर के लिए नागिन का रोल निभाना। कैमरे के आगे नागिन में तब्दील होना। ऐसा अवसर मुश्किल से मिलता है। मुझे भट्ट साहब की हिदायत याद आती है... वे कहते थे ...बाद में पछताओगी और तरस जाओगी ऐसे रोल के लिए। अपने किरदारों को खुद में सोख लो। केरल में कीचड़ में शूटिंग करते समय बदन पर जोंक और कीड़ों को रेंगते देख कर लगता था कि कहां फंस गई, लेकिन अब पर्दे पर देखती हूं तो संतोष होता है।

- कितना मुश्किल रहा नागिन में बदलना?

0 बहुत मुश्किल प्रोसेस था। तीन घंटों में मुझे नागिन में ढाला जाता था। फिर मैं चल नहीं सकती थी। सेट पर मुझे वे उठा कर ले जाते थे। खाना-पीना भी छोड़ देती थी, क्योंकि मैं बाथरूम भी नहीं जा सकती थी। ऊपर से जेनिफर कहती थी कि ग्लैमरस और सेक्सी दिखो। आप बताएं, पेट में दाना न हो तो कोई सेक्सी कैसे दिखेगा? फिर भी मैंने कोशिश की।

- कितने दिनों के बाद आप लौटी हैं? कैसा स्वागत हुआ आपका?

0 एक ही साल तो लगातार बाहर रही। मुंबई लौटी तो एयरपोर्ट पर पूरा मीडिया मौजूद था। मेरा भाई विक्रम मुझे लेने आया था। दिल भर आया। इतना प्यार और अपनापन दिखाया लोगों ने। उस दिन मैंने महसूस किया कि मेरे प्रशंसकों का जूता भी सिर-आंखों पर। वे मेरी दुनिया हैं। मैं आज जो भी हूं, उन्हीं की वजह से हूं।

- और इंडस्ट्री का रवैया? क्या कह सकता हूं कि आप जितने दिन बारह रहीं, उतने दिन इंडस्ट्री ने इंतजार किया?

0 कोई किसी का इंतजार नहीं करता, पर एक बात कहूंगी कि इंडस्ट्री मेरे प्रति बहुत जेनेरस रही। आते ही डबल धमालकी शूटिंग शुरू हो गई। अभी तो दुनिया ग्लोबल विलेज हो गई है। फेसबुक और ट्विटर ने सभी से जोड़ रखा है। आप अभी न्यूयॉर्क में हो और कल मुंबई में हो। मेरे दो घर हो गए हैं - मुंबई और लॉस एंजेल्स।

- हालीवुड में क्या रवैया रहा आपके प्रति? वहां की फिल्म कब रिलीज हो रही है?

0 उनका भी रवैया बहुत अच्छा रहा। हालीवुड की फिल्म अगले साल रिलीज होगी। अभी पोस्ट प्रोडक्शन का काम चल रहा है। उसका भारतीय टायटल लव बराकहोगा। हालीवुड में पालिटिक्स ऑफ लवनाम से वह रिलीज होगी। उसका रफ ट्रेलर सभी ने देखा होगा। बिल क्लिंटन से हुई मुलाकात में मैंने उन्हें इस फिल्म के बारे में बताया तो वे खुश हुए कि रिपब्लिकन और डेमोक्रेट के बीच कोई रोमांटिक कामेडी बन रही है। उन्होंने खैर मनाया कि यह सीरियस फिल्म नहीं है। उन्होंने फिल्म देखने की इच्छा जाहिर की है।

- ‘पालिटिक्स ऑफ लवतो आप पर्दे पर करेंगी, लेकिन जीवन में चल रहे पॉलिटिक्स ऑफ फेम के बारे में क्या कहेंगी?

0 यह तो आज है, कल नहीं है। मैं इसे सीरियसली नहीं लेती। अपने एक्टर होने को मैं एंज्वॉय करती हूं। किसे मालूम कि कल क्या होगा? मेरे लिए हिस्सएक बड़ा एक्सपीरिएंस है। मैं चाहूंगी कि ऐसी फिल्में करती रहूं।

- ‘हिस्सके आगे-पीछे आप ज्यादातर कामेडी फिल्में कर रही हैं। आप की जैसी इमेज बन चुकी है, उस से मिजाज में ये फिल्में थोड़ी अलग हैं?

0 सबसे पहले तो आप ये बताएं कि मेरी क्या इमेज है?

- आप एक सेक्सी इमेज की एक्ट्रेस हो, जो रियल लाइफ में काफी बिंदास और इंडपेंडेट मिजाज की है।

0 वो तो मैं हूं। लेकिन आप बताएं कि मर्डरअश्लील फिल्म थी क्या? और अगर थी तो 2004 की बड़ी हिट कैसे हो गई?

- आप की रियल पर्सनैलिटी और इमेज में थोड़ा फर्क है, लेकिन बड़े चालाक तरीके से आप अपनी इमेज को मेंटेन करती हैं। आप के ट्विट हों या बातें... उनमें एक खुलापन और बिंदासपन है, जो कई बार प्रशंसकों और दर्शकों की संतुष्टि के लिए लिखा-कहा लगता है...

0 चालाक तरीके से... आप का यह इंटरपटेशन मुझे अच्छा लगा। प्रशंसकों को जो बातें पसंद हैं, वैसी ही बातें करती हूं। मुझे किसी भी सवाल का जवाब देने में कोई हिचक नहीं होती, लेकिन ऐसा न समझें कि मैं अपने प्रशंसकों को उत्तेजित करने के लिए वैसा कुछ लिखती हूं। मैं वैसे ही सोचती हूं और मुझे सेक्स की बातें करने में कोई झिझक नहीं होती। मुझे लगता है कि मेरे प्रशंसक भी मेरे जवाब से संतुष्ट रहते हैं। सारी समस्या है कि मीडिया ने मुझे खास ढंग से प्रोजेक्ट किया। वे उसे बढ़ाते और बताते रहते हैं। सेक्सी होना तो मेरे व्यक्तित्व का एक हिस्सा है। मैं और भी कुछ हूं। फिर भी मीडिया के इस अटेंशन से मुझे दिक्कत नहीं होती। 2005 में मैं जैकी चान के साथ कान फिल्म फेस्टिवल गई थी तो स्वाभाविक रूप से मीडिया ने ज्यादा ध्यान दिया था। मैं अपनी इमेज को फन की तरह लेती हूं। मैं पूरा एंज्वॉय करती हूं। मैं उसके साथ प्ले करती हूं। मर्लिन मुनरो, मधुबाला और माधुरी दीक्षित की सेक्सी इमेज रही। मैं गर्ल नेक्स्ट डोर नहीं हूं। दर्शकों को गर्ल नेक्स्ट डोर ही चाहिए तो वे थिएटर न आएं ...पड़ोस की लडक़ी को ही देखें।

- अपनी सोसायटी में अभी तक सेक्सुयैलिटी को स्वीकार नहीं किया गया है। वात्सयायन और कामसूत्र के देश में अंग्रेजों के साथ आईं विक्टोरियन धारणाएं ही प्रचलित हैं, इसलिए आप की बातें मीडिया और प्रशंसकों को चौंकाती हैं ...शरीर को देखने का हमारा नजरिया संर्कीण कहा जाएगा क्या?

0 यह तो मीडिया और समाज तय करे। मैंने मर्डरमें स्विम शूट पहना था तो बवाल हो गया था, लेकिन उसके बाद तो हीरोइनों ने लाइन लगा दी। क्या-क्या नहीं पहना हीरोइनों ने...और यह शरीर? यह तो आप पुरूषों की वजह से अश्लील मान लिया गया है।

- अगर मैं पूछूं कि पश्चिमी पुरुष से भारतीय पुरुष कितने भिन्न हैं तो क्या जवाब होगा आप का?

0 हाथ मिलाने से लेकर किस करने और हग करने तक में फर्क है। वहां एक खुलापन है। अपने यहां लिहाज और शर्म है, लेकिन अपने देश का यूथ बदल चुका है। पश्चिमी प्रभाव माने या उसका एक्सप्रोजर कहें ...वह नए एक्सपीरिएंसेज के लिए तैयार है।

- क्या दर्शक बदल रहे हैं?

0 ‘मर्डरके समय कितना विवाद हुआ था, लेकिन आप ने इश्कियाको स्वीकार कर लिया। वह तो खुले आम फ्लर्ट करती है। उसके सामने मर्डरका मेरा किरदार फीका लगता है। अभी लोगों की मोरैलिटी बदल रही है। बड़े शहरों में लडक़े-लड़कियों के विचार बदल रहे हैं। मुझे लड़कियों के पत्र आते हैं - मल्लिका यू शोन द वे। मुझे ऐसा लगता है कि एक हिंदुस्तान में कई हिंदुस्तान बसते हैं और एक आदमी के अंदर कई आदमी रहते हैं। और इन सारी बातों से क्या फर्क पड़ता है? अगर वे मेरी फिल्में देख रहे हैं तो सब ठीक है। आखिरकार यह शो बिजनेश है।

- लेकिन मल्लिका का सफर लोगों को प्रेरित करता है। आप की कामयाबी और करतूत हम लिखते हैं तो उसका एक असर होता है़...ऐसे में आप खुद को कितना जिम्मेदार महसूस करती हैं?

0 मुझे लगता है कि हिंदी अखबारों का ज्यादा असर होता है। मेरा उन पाठकों से एक कनेक्शन भी बनता है। मुझे लगता है कि वे मुझे अपने इलाके का और अपनी पहुंच में पाते हैं। गौर करें तो हम सभी दुविधा और पाखंड में जीते हैं। दुविधा से तो आप निकल सकते हैं। पाखंड से नहीं निकल सकते। हमारा समाज पाखंडी रहा है। ख्वाहिशऔर मर्डरके समय से मैं यह महसूस कर रही हूं। आप ने सही कहा कि मेरा सफर लंबा रहा है। मैं तो यही कहूंगी कि अपनी लड़ाई होशियारी से चुनें, क्योंकि प्रतिभा आप के चुनाव पर निर्भर करती है। भट्ट साहब ने बहुत पहले इसका एहसास करवाया था...

- थोड़ा स्पष्ट करें, क्योंकि यह छोटे शहरों की महत्वाकांक्षी लड़कियों के लिए महत्वपूर्ण है?

0 अपने निजी अनुभव से मैं यह जानती हूं कि लड़कियों को करिअर बनाने के लिए बढ़ावा नहीं दिया जाता। हमेशा लड़कियों को कहा जाता है कि तुम बड़ी हो गई, शादी करो, बच्चे पैदा करो और घर बसाओ। मुझे लगता है कि हमें अपनी जमीन तलाश कर लेनी चाहिए और उस पर टिके रहना चाहिए। अपने बड़ों और परिवार को कभी शर्मिंदा न होने दें। आज कल के बच्चे बहुत समझदार हैं। वे माता-पिता को ठेस नहीं पहुंचा सकते, लेकिन माता-पिता भी बच्चों को समझें। लड़कियां ईमानदार और तेज हो गई हैं। अपने समाज को देखते हुए ही व्यवहार करें।

- कई बार करिअर के चुनाव में परिवार आड़े आ जाता है। फिर क्या करें? आप के भी करिअर में ऐसी मुश्किलें आई थीं...

0 हां, मुझे तो बहुत दिक्कत हुई थी मेरे पिता ने मुझे आज तक माफ नहीं किया। फिल्मों में मेरी एंट्री को वे स्वीकार नहीं सके। मैं उन्हें मिस करती हूं। मुझे परिवार का पूरा समर्थन और प्यार नहीं मिला। उसकी कमी महसूस होती है। मेरा भाई हमेशा मेरे साथ रहा। लेकिन अभी फर्क आ गया है। छोटे शहरों के पैरेंट्स भी समझने लगे हैं। बेहतर होता है कि परिवार के समर्थन से ख्वाब बुनें।

- आप के भाई हिस्सके निर्माता हैं...

0 हां, उसने बहुत बड़ा रिस्क लिया है। यह मैं तेरी नागिन...टाइप की फिल्म नहीं है। वक्त काफी आगे बढ़ गया है। वीएफएक्स का इस्तेमाल किया गया है। मैं फिल्म में जिंदा इंसान को निगल जाती हूं। यह कोई आसान काम है। सात इंसानों को निगल जाती हूं।

- अचानक डबल धमालका इरादा कैसे हो गया?

0 मुझे लगा कि वेलकमके बाद डबल धमालही किया जा सकता है। इस बीच कुछ और किया नहीं है। हिस्सथ्रिलर है। उसके बाद कामेडी का तडक़ा ठीक रहेगा।

- और क्या बताना चाहोगे आप?

0 आप बताओ कि आप क्या जानना चाहते हो? चलो मैं एक सवाल पूछती हूं कि मीडिया क्यों मुझे हमेशा सेक्सी इमेज में पेश करती है। मेरे पास और भी चीजें हैं। सेक्स तो एक पहलू है।

- वह इसलिए कि बाकी एक्ट्रेस न तो तस्वीर से और न बातों से सेक्सी इमेज बनाने के काम आ पाती हैं। तस्वीरें खिंचवा भी लें तो उनकी बातों में खुलापन नहीं रहता। मल्लिका इस मायने में सब के काम आ जाती है

0 बिल्कुल सही कह रहे हैं आप। तो आप मान रहे हो कि मैं सबसे अलग हूं। शुरू से ही मेरा ऐसा माइंडसेट रहा। भट्ट साहब ने उसे मजबूत किया। अगर सभी लेफ्ट जा रहे होंगे तो मैं राइट जाऊंगी। और ऐसा करते हुए भी मैं उसमें डूबती नहीं हूं। मैं इसमें पर्सनली शामिल नहीं हूं। मेरे लिए यह गेम है। लाइफ इज टू बी एंटरटेंड एंड एंटरटेन। मैं अपने प्रशंसकों को ट्विटर पर साफ बताती हूं कि आप सारी चीजें सीरियसली मत लो। आप बताओ कि हालीवुड के लॉस एंजेल्स के सिटी हाल में मेरा सम्मान हुआ। वहां के कौंसिल मेंबर और मेयर ने मेरा सम्मान किया। यह सब मुझे रिच करता है।

- लेकिन इस ग्लैमर, सम्मान और नाम में मल्लिका खो तो नहीं गई? हरियाणा की वह किशोर लडक़ी, जिसकी आंखों में सपने चमकते थे ...

0 बिल्कुल नहीं। मेरी नाक भले ही आसमान में हो, मेरे पैर जमीन पर ही हैं। बहुत अच्छा समय चल रहा है। अभी हिस्सआ रही है। हिंदी फिल्म को एक हालीवुड डायरेक्टर ने डायरेक्ट किया है। इसमें होली, नागिन और सारे अपने मसाले हैं।

- कहते हैं कि एक्टर ऑफ स्क्रीन और ऑन स्क्रीन परफॉर्म ही करता रहता है। इसमें उसका सेल्फ और रियल इमोशन खो जाता है...

0 यह सच है। हर वक्त परफार्मेंस चलता रहता है,लेकिन उनके बीच भी मल्लिका रहती है। जब किसी ग्लोबल आइकॉन से मिलती हूं और वे मुझे रिकॉगनाइज करते हैं तो बहुत खुशी होती है। मेरे लिए वे खास क्षण होते हैं। मेरी आंखों में फिर से सारे सपने तैरने लगते हैं। कुछ तो है कि मुझ से मिलने वाले ही स्टार स्ट्रक हो जाते हैं। यह सच है। मैं तो ट्रेंड सेटर रहा हूं।

- किन लोगों की मदद मिलती है आप को ...

0 लॉस एंजेल्स में जैकी चान के स्टाफ से काफी मदद मिली। मेरे साथ भट्ट साहब का आर्शीवाद रहता है और ऑफ कोर्स मेरा भाई विक्रम... इन सभी की मदद से मैं आगे बढ़ती रहती हूं। मैं भट्ट साहब को बहुत मिस करती हूं।

- कुछ और कर रहे हो आप?

0 पुनर्जन्म पर एक हिंदी फिल्म है, लेकिन अभी उसके बारे में नहीं बता सकती। ऑफर तो आते ही रहते हैं। मैं फिल्मों में दीवार पर सजे फूल की तरह नहीं आना चाहती। मैंने कुछ गलत फिल्में भी की हैं, लेकिन उनसे सीखा है। सभी ऐसे फैसलों से गुजरते हैं। फ्लॉप भी जरूरी हैं। उनसे आप जमीन पर आ जाते हैं।

- हिस्समें आप के साथ इरफान खान हैं। वे बहुत संजीदा अभिनेता माने जाते हैं। आपका कैसा अनुभव रहा?

0 इरफान के साथ सेट पर रहने से ही आप बहुत कुछ सीख सकते हैंं। वे काफी मदद करते हैं। वे विदेशों में अच्छा कर रहे हैं। उनकी खास पहचान है क्या? उनकी वजह से फिल्म के इंटरनेशनल मार्केट में खरीदार मिले। लिंच से भी मदद मिली।

- पश्चिम और भारत के अनुभवों के बाद बेस्ट क्या है आपके लिए?

0 मैं तो दोनों जगह से बेस्ट चुनूंगी। भारत की गर्मजोशी साथ रखूंगी। पश्चिम का प्रोफेशनलिज्म हमें सीखना चाहिए। हमारी मेहमानवाजी कहीं और नहीं है। वहां शूटिंग करते समय भारतीय मेरे लिए खाना लाते थे तो पश्चिम की यूनिट के लोग चौंकते थे कि तुम कैसे किसी का भी लाया खाना खा सकते हो? तुम्हें डर नहीं लगता। पश्चिम के लोग प्रशंसकों के प्यार को नहीं समझ पाते। भला मेरा प्रशंसक मुझे नुकसान पहुंचाएगा?