Posts

Showing posts with the label ऐतिहासिक फिल्म

फिल्म लॉन्ड्री : आज़ादी के पहले की बोलती ऐतिहासिक फ़िल्में

Image
फिल्म लॉन्ड्री ऐतिहासिक फ़िल्में आज़ादी के पहले की बोलती फ़िल्में -अजय ब्रह्मात्मज ऐतिहासिक फिल्मों को इतिहास के तथ्यात्मक साक्ष्य के रूप में नहीं देखा जा सकता.इतिहासकारों की राय में ऐतिहासिक फिल्मे किस्सों और किंवदंतियों के आधार पर रची जाती हैं.उनकी राय में ऐतिहासिक फ़िल्में व्यक्तियों,घटनाओं और प्रसंगों को कहानी बना कर पेश करती हैं.उनमें ऐतिहासिक प्रमाणिकता खोजना व्यर्थ है. ऐतिहासिक फिल्मों के लेखक विभिन्न स्रोतों से वर्तमान के लिए उपयोगी सामग्री जुटते हैं. फिल्मों में वर्णित इतिहास अनधिकृत होता है.फ़िल्मकार इतिहास को अपने हिसाब से ट्रिविअलाइज और रोमांटिसाइज करके उसे नास्टैल्जिया की तरह पेश करते हैं. कुछ फ़िल्मकार पुरानी कहानियों की वर्तमान प्रासंगिकता पर ध्यान देते हैं.बाकी के लिए यह रिश्तों और संबंधों का ‘ओवर द टॉप’ चित्रण होता है,जिसमें वे युद्ध और संघर्ष का भव्य फिल्मांकन करते हैं.इतिहास की काल्पनिकता का बेहतरीन उदहारण ‘बाहुबली’ है. हाल ही में करण जौहर ने ‘तख़्त’ के बारे में संकेत दिया कि यह एक तरह से ‘कभी ख़ुशी कभी ग़म’ का ही ऐतिहासिक परिवेश में रूपांतरण होगा.फिल्मकारों की सोच और मानसिकत…

फिल्म लॉन्ड्री : ऐतिहासिक फिल्मों का अतीत

Image
फिल्म लॉन्ड्री
ऐतिहासिक फिल्मों का अतीत (मूक फिल्मोंके दौर की ऐतिहासिक फिल्मों पर एक नज़र ) -अजय ब्रह्मात्मज हाल-फिलहाल में अनेक ऐतिहासिक फिल्मों की घोषणा हुई है.इन फिल्मों के निर्माण की प्रक्रिया विभिन्न चरणों में है. संभवत: सबसे पहले कंगना रनोट की ‘मणिकर्णिका’ आ जाएगी. इस फिल्म के निर्देशक दक्षिण के कृष हैं.फिल्म के लेखक विजयेंद्र प्रसाद हैं. विजयेंद्र प्रसाद ने ‘बाहुबली 1-2' की कहानी लिखी थी. ‘बाहुबली’ की जबरदस्त सफलता ने ही हिंदी के फिल्मकारों को ऐतिहासिक फिल्मों के निर्माण के प्रति जागरूक और प्रेरित किया है.बाज़ार भी सप्पोर्ट में खड़ा है. करण जौहर की ‘तख़्त’ की घोषणा ने ऐतिहासिक फिल्मों के प्रति जारी रुझान को पुख्ता कर दिया है.दर्शक इंतजार में हैं. निर्माणाधीन घोषित ऐतिहासिक फिल्मों की सूची बनाएं तो उनमें ‘मणिकर्णिका’ और ‘तख़्त’ के साथ धर्मा प्रोडक्शन की कलंक, यशराज फिल्म्सकी ‘शमशेरा', यशराज की ही ‘पृथ्वीराज’,अजय देवगन की ‘तानाजी’,आशुतोष गोवारिकर कीपानीपत, अक्षय कुमार की केसरी, नीरज पांडे की ‘चाणक्य’ शामिल होंगी. इनमें कलंक’ और ‘शमशेरा' का इतिहास से सीधा संबंध नहीं है. लेकिन य…