Posts

Showing posts with the label शिवम नायर

फिल्‍म समीक्षा : नाम शबाना

Image
फिल्‍म रिव्‍यू दमदार एक्‍शन नाम शबाना -अजय ब्रह्मात्‍मज
नीरज पांडेय निर्देशित ‘बेबी’ में शबाना(तापसी पन्‍नू) ने चंद दृश्‍यों में ही अपनी छोटी भूमिका से सभी को प्रभावित किया था। तब ऐसा लगा था कि नीरज पांडेय ने फिल्‍म को चुस्‍त रखने के चक्‍कर में शबाना के चरित्र विस्‍तार में नहीं गए थे। हिंदी में ‘स्पिन ऑफ’ की यह अनोखी कोशिश है। फिल्‍म के एक किरदार के बैकग्राउंड में जाना और उसे कहानी के केंद्र में ले आना। इस शैली में चर्चित फिल्‍मों के चर्चित किरदारों के विस्‍तार में जाने लगें तो कुछ दिलचस्‍प फिल्‍में मिल सकती हैं। किरदारों की तैयारी में कलाकार उसकी पृष्‍ठभूमि के बारे में जानने की कोशिश करते हैं। अगर लेखक-निर्देशक से मदद नहीं मिलती तो वे खुद से उसका अतीत गढ़ लेते हैं। यह जानना रोचक होगा कि क्‍या नीरज पांडेय ने तापसी पन्‍नू को शबाना की पृष्‍ठभूमि के बारे में यही सब बताया था,जो ‘नाम शबाना’ में है? ‘नाम शबाना’ के केंद्र में शबाना हैं। तापसी पन्‍नू को टायटल रोल मिला है। युवा अभिनेत्री तापसी पननू के लिए यह बेहतरीन मौका है। उन्‍होंने लेखक नीरज पांढेय और निर्देशक शिवम नायर की सोच के मुताबिक शबाना …

कहालियों में इमोशन की जरूरत - शिवम नायर

Image
कहालनयों में इमोशन की जरूरत - शिवम नायर
-अजय ब्रह्मात्‍मज तापसी पन्‍नू अभिनीत ‘नाम शबाना’ के निर्देशक शिवम नायर हैं। यह उनकी चौथी फिल्‍म है। नई पीढ़ी के कामयाब सभी उनका बहुत आदर करते हैं। संयोग ऐसा रहा कि उनकी फिल्‍में अधिक चर्चित नहां हो सकीं। ‘नाम शबाना’ से परिदृश्‍य बदल सकता है। नीरज पांडेय ने ‘बेबी’ की ‘स्पिन ऑफ’ फिल्‍म के बारे में सोचा तो उन्‍हें शिवम नायर का ही खयाल आया। -‘नाम शबाना’ थोड़ा अजीब सा टायटल है। कैसे यह नाम आया और क्‍या है इस फिल्‍म में? 0 ‘बेबी’ में तापसी पन्‍नू का नाम शबाना था। नीरज पांडेय ने ‘स्पिन ऑफ’ फिल्‍म के बारे में सोचा। भारत में यह अपने ढंग की पहली कोशिश है। ऐसी फिल्‍म में किसी एक कैरेक्‍टर की बैक स्‍टोरी पर जाते हैं। ‘नाम शबाना’ टायटल नीरज ने ही सुझाया। फिल्‍म में मनोज बाजपेयी दो-तीन बार इसी रूप में नाम लेते हैं। - नीरज पांडेय की फिल्‍म में आप कैसे आए? उन्‍होंने आप को बुलाया या आप... 0 नीरज के साथ मेरे पुराने संबंध हैं। ‘ए वेडनेसडे’ के बाद उन्‍होंने मुझे दो बार बुलाया,लेकिन स्क्रिप्‍ट समझ में नहीं आने से मैंने मना कर दिया। यह विचार था कि कभी साथ काम करेंगे। मैं …