Posts

Showing posts with the label बी आर चोपड़ा

बी आर चोपड़ा का सफ़र- प्रकाश के रे

भाग- छह 1951 की फ़िल्म जांच समिति ने सिर्फ़ फ़िल्म उद्योग की दशा सुधारने के लिये सिफ़ारिशें नहीं दी थी, जैसा किपिछले भाग में उल्लिखित है, उसने फ़िल्म उद्योग को यह सलाह भी दी कि उसे 'राष्ट्रीय संस्कृति, शिक्षा और स्वस्थ मनोरंजन' के लिये काम करना चाहिए ताकि 'बहुआयामीय राष्ट्रीय चरित्र' का निर्माण हो सके. यह सलाह अभी-अभी आज़ाद हुए देश की ज़रूरतों के मुताबिक थी और बड़े फ़िल्मकारों ने इसे स्वीकार भी किया था.
बी आर चोपड़ा भी सिनेमा को 'देश में जन-मनोरंजन और शिक्षा का साधन तथा विदेशों में हमारी संस्कृति का दूत' मानते थे. महबूब, बिमल रॉय और शांताराम जैसे फ़िल्मकारों से प्रभावित चोपड़ा का यह भी मानना था कि फ़िल्में किसी विषय पर आधारित होनी चाहिए. अपनी बात को लोगों तक पहुंचाने के लिये उन्होंने ग्लैमर और मेलोड्रामा का सहारा लिया.
निर्माता-निर्देशक के बतौर अपनी पहली फ़िल्म एक ही रास्ता में उन्होंने विधवा-विवाह के सवाल को उठाया. हिन्दू विधवाओं के विवाह का कानून तो 1856 में ही बन चुका था लेकिन सौ बरस बाद भी समाज में विधवाओं की बदतर हालत भारतीय सभ्यता के दावों पर प्रश्नचिन्ह…

बी आर चोपड़ा का सफ़र -भाग चार...प्रकाश रे

प्रकाश रे बी आर चोपड़ा पर एक सिरीज लिख रहे हैं...भाग-4 बी आर चोपड़ा का 1955 में अपनी कम्पनी बी आर फ़िल्म्स शुरू करना एक साहसी क़दम था. उनके ख़ाते में बस एक ही हिट फ़िल्म दर्ज़ थी. उस समय फ़िल्म उद्योग स्टार सिस्टम और धनी निर्माताओं के चंगुल में था. इसके अलावा राज कपूर, शांताराम, महबूब ख़ान, बिमल राय, ए आर कारदार, गुरु दत्त आदि कई ऐसे दिग्गज 'निर्माता-निर्देशक' मौजूद थे जो व्यावसायिक तौर पर बड़े सफल तो थे ही, साथ ही अपने सिनेमाई सौंदर्य से 1950 के दशक को हिंदुस्तानी सिनेमा के स्वर्ण-युग के रूप में ढाल रहे थे.
बी आर फ़िल्म्स के शुरुआत की कहानी कुछ इस प्रकार है: एक दिन चोपड़ा नई फ़िल्म के सिलसिले में शशधर मुखर्जी से मिलने जा रहे थे. उनकी पत्नी ने पूछा, 'तो फिर आप दूसरे निर्माता के लिये काम करने जा रहे हैं? आप ख़ुद ही फ़िल्म क्यों नहीं बनाते?' चोपड़ा ने कहा कि पैसे तो हैं नहीं. इस पर उनकी पत्नी ने कहा कि उनके पास दस हज़ार रुपये हैं जिसमें से वह पांच हज़ार लेकर काम शुरू कर दें. बाक़ी से वह तीन माह तक घर का खर्च चला लेंगी. इसी पांच हज़ार से इस कम्पनी शुरू की गयी. कहा जा सकता …

बी आर चोपड़ा का सफ़र -भाग तीन...प्रकाश रे

प्रकाश रे बी आर चोपड़ा पर एक सिरीज लिख रहे हैं... भाग-3
अफ़साना की शूटिंग के शुरुआती कुछ दिनों में ही अशोक कुमार को बी आर चोपड़ा के अनुभवहीन होने का भान हो गया था और उन्होंने चोपड़ा से कुछ बुनियादी पहलुओं पर चर्चा भी की थी. चोपड़ा अशोक कुमार जैसे वरिष्ठ कलाकार के ऐसे सहयोगपूर्ण रवैये से अचंभित थे जबकि कुछ ही समय पहले उन्होंने फ़िल्म की कहानी तक सुनने से इंकार कर दिया था. उन्होंने चोपड़ा को सलाह दी कि वह उनकी अन्य फ़िल्म संग्राम की शूटिंग को देखें. संग्राम उन्हीं दिनों ज्ञान मुख़र्जी के निर्देशन में बन रही थी जिसमें अशोक कुमार की केंद्रीय भूमिका थी. चोपड़ा ने उनकी सलाह मानी और उनसे भी सीखने से गुरेज़ नहीं किया. अशोक कुमार भी उनके शीघ्र सीखने-समझने की क्षमता से प्रभावित थे और कई सालों बाद भी उन दिनों को याद किया करते थे. उल्लेखनीय है कि अफ़साना के बाद चोपड़ा की अधिकांश फ़िल्मों में अशोक कुमार ने काम किया.
लेकिन चोपडा़ को अपने ऊपर भी भरोसा कम न था. इसका अंदाजा अफ़साना की शूटिंग के दौरान हुई एक घटना से लगाया जा सकता है. उस दिन चोपड़ा ने सेट पर कुछ वितरकों और पत्रकारों को आमंत्रित किया था. ब…

बी आर चोपड़ा का सफ़र -भाग दो...प्रकाश रे

प्रकाश रे बी आर चोपड़ा पर एक सिरीज लिख रहे हैं...भाग-2

हिन्दुस्तानी सिनेमा आज़ादी के समय तक देश का सबसे प्रभावी और वैविध्यपूर्ण कला-रूप बन चुका था और वह विभिन्न छोटी-बड़ी कलाओं की ख़ूबियों, विज्ञान और तकनीक के तर्कों तथा मानवीय कल्पना-शक्ति को बखूबी जोड़ रहा था. सत्यजित रे ने 1948 में इस तथ्य को रेखांकित किया था. अगले दस सालों में बम्बईया सिनेमा की यह कलात्मक यात्रा अपने चरमोत्कर्ष पर पहुँचनेवाली थी और यह काल-खंड हिन्दुस्तानी सिनेमा के 'स्वर्ण-युग' के नाम से इतिहास में दर्ज़ होनेवाला था.

करवट की असफलता के बाद एक बार फिर बी आर चोपड़ा ने फिल्मी-दुनिया में एक सम्भावना की तलाश शुरू की. इसी क्रम में वह थापर मिल्स के मालिकों के संपर्क में आए जो फिल्मों में पैसा लगाना चाहते थे. उन्होंने चोपड़ा को एक निश्चित वेतन और फ़िल्म के लिये धन का ऑफ़र दिया. इससे चोपड़ा का उत्साहवर्द्धन भी हुआ और बंबई में टिकने का जुगाड़ भी मिल गया. इसी दौरान आई एस जौहर जैसे लाहौर के कुछ मित्रों के साथ सहयोग से उन्होंने एक फ़िल्म बनाने की योजना बनाई. फ़िल्म की कहानी जौहर की थी जिसे चोपड़ा ने तुरंत पांच सौ रुपये दे…

बी आर चोपड़ा-प्रकाश रे

प्रकाश रे बी आर चोपड़ा पर एक सिरीज लिख रहे हैं।
बम्बईया सिनेमा को देश के सांस्कृतिक जीवन में महत्वपूर्ण स्थान दिलाने और उसे जटिल उद्योग के रूप में विकसित करने वाले फ़िल्मकारों में बी आर चोपड़ा का स्थान अन्यतम है. आज़ादी के बाद के हिन्दुस्तानी सिनेमा का इतिहास इस फ़िल्मकार के बिना नहीं लिखा जा सकता. सिनेमा में सात दशकों तक सक्रिय रहनेवाले बलदेव राज चोपड़ा का जन्म पंजाब के जालंधर में 20 अप्रैल 1914 को हुआ था. लाहौर विश्वविद्यालय से अंग्रेजी साहित्य में स्नातकोत्तर करने के बाद वे पत्रकारिता से जुड़ गए और वेराईटीज़ (दिल्ली), मूवीज़ (कलकत्ता), सिने एडवांस (कराची) जैसी फ़िल्म पत्रिकाओं में लेख लिखने लगे. 1937 में उन्होंने लाहौर से निकलने वाली मासिक पत्रिका सिने हेराल्ड के सम्पादन का काम संभाला और 1947 में लाहौर छोड़ने तक उसके संपादक रहे. इसी दौरान श्री चोपड़ा की लिखी कई लघु कथाएँ भी प्रकाशित हुईं. पत्रकारिता के साथ वे लाहौर के फ़िल्म उद्योग से भी जुड़े हुए थे. फ़िल्म-निर्माण में सक्रिय पंचोली समूह के साथ काम करने के अलावा उन्होंने पंजाबी फ़िल्म कम्पनी नॉर्दर्न इन्डियन फ़िल्म के प्रचार अधिकार…