Posts

Showing posts from November, 2015

अलहदा लोगों के सर्वाइवल की जगह की तलाश में ‘तमाशा’ -सुदीप्ति सत्‍यानंद

Image
सुदीप्ति सत्‍यानंद के फेसबुक स्‍टेटस से स्‍पष्‍ट था कि उन्‍हें 'तमाशा' देखनी है और पूरी संभावना थी कि वह उन्‍हें पसंद भी आएगी। फिल्‍म देखने के पहले और देखने के बाद के उन्‍के स्‍टेटस इसकी स्‍पष्‍ट जानकारी देते हैं। फिल्‍मों पर इरादतन लिखना सहज नहीं होता। मैंने सुदीप्ति से आग्रह किया था कि वह इस फिल्‍म पर लिखें। कुछ और दोस्‍तों से भी कहा है। यहां सुदीप्ति का आलेख पढें। आप लिखना चाहें तो स्‍वागत है। उसे brahmatmaj@gmail.com पर भेज दें।
सुदीप्ति के फेसबुक स्‍टेटस पहली बार चेतावनी दे रही हूँ-
जो भी तमाशा की कहानी लिखेगा/गी ब्लाक कर दूँगी। हालाँकि इम्तियाज़ खुद कह रहे हैं सेम कहानी पर हम देख ना लें तब तक समीक्षा लिखें कहानी नहीं।
बहुत दिनों के बाद एक ऐसी फ़िल्म देखी जो दिलो-दिमाग पर छा गयी। रॉकस्टार फैन होने के बाद और इसमें रिपिटेड सीन दिखने के बाद भी लगता है कि 'तमाशा' इम्तियाज़ अली की अब तक की सर्वश्रेष्ठ फ़िल्म है।
देखिए जरूर, इससे ज्यादा अभी कुछ नहीं कहूँगी।
'तमाशा' उनको पसंद आएगी क्या जिन्होंने बजरंगी भाईजान को हिट कराया और तनु-मनु रिटर्न्स की शान में कसीदे काढ़े? एक …

फिल्‍म समीक्षा : तमाशा

Image
-अजय ब्रह्मात्‍मज प्रेम और जिंदगी की नई तकरीर इम्तियाज अली ने रणबीर कपूर और दीपिका पादुकोण जैसे दो समर्थ कलाकारों के सहारे प्रेम और अस्मिता के मूर्त-अमूर्त भाव को अभिव्‍यक्ति दी है। सीधी-सपाट कहानी और फिल्‍मों के इस दौर में उन्‍होंने जोखिम भरा काम किया है। उन्‍होंने दो पॉपुलर कलाकारों के जरिए एक अपारंपरिक पटकथा और असामान्‍य चरित्रों को पेश किया है। हिंदी फिल्‍मों का आम दर्शक ऐसी फिल्‍मों में असहज हो जाता है। फिल्‍म देखने के सालों के मनोरंजक अनुभव और रसास्‍वादन की एकरसता में जब भी फेरबदल होती है तो दर्शक विचलित होते हैं। जिंदगी रुटीन पर चलती रहे और रुटीन फिल्‍मों से रुटीन मनोरंजन मिलता रहे। आम दर्शक यही चाहते हैं। इम्तियाज अली इस बार अपनी लकीर बदल दी है। उन्‍होंने चेहरे पर नकाब चढ़ाए अदृश्‍य मंजिलों की ओर भागते नौजवानों को लंघी मार दी है। उन्‍हें यह सोचने पर विवश किया है कि क्‍यों हम सभी खुद पर गिरह लगा कर स्‍वयं को भूल बैठे हैं? वेद और तारा वर्तमान पीढ़ी के प्रतिनिधि हैं। परिवार और समाज ने उन्‍हें एक राह दिखाई है। उस राह पर चलने में ही उनकी कामयाबी मानी जाती है1 जिंदगी का यह ढर्रा चाहता …

दरअसल : कब काउंट होंगे हिंदी प्रदेश

Image
-अजय ब्रह्मात्‍मज सभी जानते हैं कि हिंदी फिल्‍मों का बिजनेस मुख्‍य रूप से मुंबई और कुछ हद तक दिल्‍ली के कारोबार से आंका जाता है। अगर किसी फिल्‍म ने इन टेरिटरी में अच्‍छा कलेक्‍शन किया है तो कहा और माना जाता है कि फिल्‍म सफल है। फिल्‍मों की सफलता का यह मापदंड बन गया है। मुंबई और दिल्‍ली के मल्‍टीप्‍लेक्‍स में मौजूद दर्शकों की भीड़ काउंट होती है। यह भीड़ महानगरों के सिनेमाघरों में ऊंची दरों की टिकट लेकर कुल कलेक्‍शन का बहुगुणित करती है। फिल्‍में 100 करोड़ और उससे ज्‍यादा के कारोबार से रिकार्ड बनाती हैं। दो हफ्ते पहले रिलीज हुई सरज बड़जात्‍या की फिल्‍म ‘प्रेम रतन धन पायो’ की बात करें तो इस फिल्‍म ने पहले दिन अपेक्षा के मुताबिक दर्शकों को आकर्षित किया। फिल्‍म का कलेक्‍शन 40.35 करोड़ रहा। अगले दिन स्‍पष्‍ट हो गया कि शहरी मानसिकता के दर्शकों का यह फिल्‍म पसंद नहीं आई। अगले दिन फिल्‍म का कलेक्‍शन गिर कर 31.05 करोड़ हो गया। लगभग 25 प्रतिशत की जमा गिरावटसे स्‍पष्‍ट है कि मल्‍टीप्‍लेक्‍स के दर्शक घटे। इस फिल्‍म का रविवार का कलेक्‍शन 28.30 करोड़ हो गया था। और सोमवार से तो इसमें आधी गिरावट आ गई। फ…

तारा की स्पिरिट समझती हूं-दीपिका पादुकोण

Image
-अजय ब्रह्मात्‍मज इम्तियाज अली के निर्देशन में दीपिका पादुकोण की दूसरी फिल्‍म है ‘तमाशा’। इसमें वह अपने पूर्व प्रेमी रणबीर कपूर के साथ हैं। दोनों की पिछली फिल्‍म ‘ये जवानी है दीवानी’ बेहद सफल रही थी। निर्देशक दोनों के निजी जीवन के प्रेम और अलगाव को फिल्‍म की स्क्रिप्‍ट में ले आते हैं और दीपिका पादुकोण और रणबीर कपूर बगैर ना-नुकूर के उन्‍हें पर्दे पर निभाते हैं। पहले ऐसा मुमकिन नहीं था। पर्सनल संबंधों और प्रोफेशनल जरूरतों का यह नया संयुक्‍त आयाम है। अब के कलाकार अलग होने के बाद भी स्‍क्रीन पर बेलाग लगाव दिखाते हैं। वे पूर्व संबंधों के बोझ लेकर नहीं चलते। दीपिका पादुकोण ने ‘तमाशा’ में तारा की भूमिका निभाई है। - कौन है तारा ? 0 तारा साधारण और मामूली सी लड़की है। वह अपनी जिंदगी में मस्‍त है। वह कामकाजी है। उसका ब्‍वाम्‍य फ्रेंड है। वह अच्‍छे परिवार से आती है। उसे अपनी जिंदगी से कोई शिकायत नहीं है। वह वेद से मिलती है तो उसे कुछ हो जाता है। ऐसा लगता है कि अंदार से कुछ खुल जाता है। वेद से मिलने के पहले वह कुछ अलग थी। मिलने के बाद वह कुछ और हो जाती है। बेहतर तरीके से... -वेद से प्रभावित क्‍यों हो…

नए रंग-ढंग में रंगी, सजी और धजी ‘रंगोली’

Image
- अमित कर्ण भारतीय टेली जगत आठवें दशक का एहसानमंद रहेगा। वजह ‘रंगोली’, ‘रामायण’, ‘महाभारत’, ‘हम लोग’, ‘बुनियाद’ जैसे आयकॉनिक शो थे। उनका इंतजार पूरा परिवार करता था। वे जोरदार मनोरंजन करते थे। साथ ही ज्ञान और मनोरंजन की भरपूर खुराक भी देते थे। ‘रंगोली’ तो गानों का खजाना हुआ करता था। खासकर, उस जमाने में जब घर में डीवीडी प्लेयर्स या मोबाइल नहीं थे। तब दूरदर्शन ही था, जो हर नई फिल्म के गाने हम तक पहुंचाया करता था। आज आईट्यून्स के जमाने में वही ‘रंगोली’ एक बार नए तेवर और कलेवर के साथ 15 नवंबर को लौंच हुई है। उसे स्वरा भास्कर होस्ट कर रही हैं। शो में प्रयोग मुंबई दूरदर्शन केंद्र के एडीजी मुकेश शर्मा और एडीपी शैलेष श्रीवास्तव के हैं। मुकेश शर्मा इन दिनों फिल्म्स डिवीजन के भी मुखिया हैं। दोनों मिलकर ‘रंगोली’ को नई ऊंचाइयों पर ले जाना चाहते हैं। शो को रीना पारिक ने लिखा है। वे बालाजी टेलीफिल्म्स की डायलॉग रायटर भी हैं।
    शो से जुडऩे के बारे में स्वरा भास्कर ने बताया , ‘दो अहम कारण हैं। एक  यह कि एक्टर होने के नाते लालची हूं। हर तरह काम करना चाहती हूं। दूसरा यह कि दूरदर्शन की रीच बाकी सैटेलाइ…

नए चेहरों और एक्‍शन से सजी ‘स्‍पेक्‍टर’

Image
-अजय ब्रह्मात्‍मज
जेम्‍स बांड सीरिज की 24 वीं फिल्‍म ‘स्‍पेक्‍टर’ कल रिलीज हो रही है। अास्ट्रिया, इटली और इंग्‍लैंड के विभिन्‍न शहरों की शूटिंग के बाद ‘स्‍पेक्‍टर’ के ओपनिंग सीन की शूटिंग मेक्सिको सिटी में की गई। दैनिक जागरण के अजय ब्रह्मात्‍मज ओपनिंग सीन की शूटिंग के दौरान फिल्‍म यूनिट के विशेष निमंत्रण पर मेक्सिको सिटी में थे। वहीं उनकी मुलाकात निर्देशक सैम मेंडेस और मुख्‍य कलाकारों डेनियल क्रेग,क्रिस्‍टोफ वाल्‍ट्ज,ली सेडेक्‍स से हुई।

    जेम्‍स बांड सीरिज की ताजा फिल्‍म ‘ स्‍पेक्‍टर’ की ओपनिंग सीन की शूटिंग के साथ उसके कलाकारों से मुलाकात का निमंत्रण ही उत्‍साह के लिए काफी था। वाया न्‍यूयार्क मेक्सिको सिटी पहुंचने पर सबसे पहले इस शहर की ज्‍यामितीक संरचना ने प्रभावित किया। मेक्सिको सिटी एक साथ नए और पुराने को समेटते हुए विकसित हुआ है। शहर की पुरानी इमारतें सदियों पुरानी सभ्‍यता का अहसास देती हैं। साथ ही आधुनिकता के साथ कदम मिला कर चल रहा यह शहर दुनिया के किसी अन्‍य विकसित शहर की तरह सभी सुविधाओं से संपन्‍न है। अमेरिका के करीब स्थित मेक्सिको अपनी पृथक पहचान के साथ कायम है। यह भिन्‍नता…

दरअसल : रौनक लौटी सिनेमाघरों में

Image
-अजय ब्रह्मात्‍मज दीवाली के एक दिन बाद रिलीज हुई सूरज बड़जात्‍या की ‘प्रेम रतन धन पायो’ ने दर्शकों को सिनेमाघरों में खींचा है। लंबे समय से किसी भी फिल्‍म के प्रति दर्शकों का ऐसा आकर्षण नहीं दिखा था। फिल्‍मों ने 100-200 करोड़ के बिजनेस भी किए, लेकिन सिनेमाघरों पर दर्शकों की ऐसी भीड़ नहीं उमड़ी। पिछले दिनों दैनिक जागरण से खास बातचीत में सूरज बड़जात्‍या ने अपनी फिल्‍मों के दर्शकों के बारे में स्‍पष्‍ट संकेत दिए थे कि उनकी फिल्‍में देखने आठ से अस्‍सी साल की उम्र तक के दर्शक आते हैं। हिंदी में बन रहीं ज्‍यादतर फिल्‍मों के दर्शक सीमित होते हैं। अपराध या किसी खास जॉनर की फिल्‍मों में दर्शकों की संख्‍या सीमित रहती है, जबकि मेरी फैमिली फिल्‍मों के दर्शक उम्र और श्रेणी से परे होते हैं। सूरज बड़जात्‍या की बातों की सच्‍चाई सिनेमाघरों में दिख रही है। दीवाली के अगले दिन छुटृटी के कारण इस फिल्‍म को पर्याप्‍त दर्शक मिले और कलेक्‍शन का आंकड़ा 40 करोड़ के पार हो गया। हिंदी फिल्‍मों के निर्माता- निर्देशक इन दिनों वीकेंड कलेक्‍शन पर ज्‍यादा जोर देते हैं। वे आक्रामक प्रचार और प्रमोशन से दर्शकों को अलर्ट करत…

अपने सपनों को जी लो - रणबीर कपूर

Image
-अजय ब्रह्मात्मज 
रणबीर कपूर मिलते ही कहते हैं कि अभी तक मेरी तीन फिल्में लगातार फ्लॉप हुई हैं। जब फ्लॉप की संख्या पांच हो जाएगी तब मुझे सोचना पड़ेगा। फ़िलहाल पिछली बातों को भूल कर मैं 'तमाश' के लिए तैयार हूँ। इम्तियाज अली के साथ यह मेरी दूसरी फिल्म है। सभी जानते हैं क़ि इम्तियाज़ कैसे फिल्मकार हैं। उन्होंने मुझे 'रॉकस्टार' जैसी  है। उस फिल्म के दौरान मैंने एक्टिंग और ज़िन्दगी के बारे में बहुत कुछ सीखा। 'तमाशा' ने मुझे अधिक जागरूक बना दिया है। इसमें मैं वेद वर्धन का किरदार निभा रहा हूँ। 
-वेद का परिचय दें।  वह कौन है? ० वेद आम बच्चों की तरह स्कूल जाता है। उसका दिमाग गणित से ज्यादा किस्से-कहानियों में लगता है। उसके शहर में एक किस्सागो है, वेद कहानियां सुनने उसके पास जाया करता है। वह किस्सागो पैसे लेकर कहानियां सुनाता है। वेद कहानियां सुनने के लिए पैसे इधर-उधर से जमा करता है। वेद कहानियों की दुनिया में गुम होना पसंद करता है। बड़े होने पर देश के दुसरे बच्चों की तरह उस पर भी माता-पिता और समाज का दबाव बढ़ता है कि क्या बनना है? इंजीनियर या मार्केटिंग गुरु के प्रो…

हर घर में है एक कहानी : सूरज बडज़ात्या

Image
रोमांटिक फिल्मों को रीडिफाइन करने वालों में सूरज बडज़ात्या की भी अहम भूमिका है। प्रेम नामक कल्ट किरदार उन्हीं का दिया हुआ है। दीपावली पर उनकी 'प्रेम रतन धन पायोÓ रिलीज हुई। उन्होंने फिल्म के बनने, सलमान संग समीकरण और अपने बारे में बहुत कुछ साझा किया।
-झंकार टीम

-प्रेम रतन धन पायो टायटिल रखने का ख्याल कहां से आया?
मेडिटेशन के दौरान यह नाम मेरे दिमाग में आया। पहले मेरे मन में राम रतन नाम आया। उसके बाद प्रेम रतन। मैैंने सोचा बाद वाला नाम इस फिल्म के लिए सही बैठेगा। उसकी वजह थी फिल्म के केंद्र में अनकंडीशनल लव का होना। फिल्म में उसे बखूबी बयान किया गया है। मैैं सिर्फ कमर्शियल प्वॉइंट से कोई टिपिकल नाम नहीं देना चाहता था। सलमान को जब मैैंने नाम सुनाया तो वे चुप हो गए। दो मिनट के लिए एकदम शांत। फिर उन्होंने कहा कि कोई और निर्देशक होता तो बाहर निकाल देता। बाद में हमने इसे बरकरार रखा। फिल्म के टाइटिल सौंग में भी हमने सारे भाव स्पष्ट किए है। इरशाद कामिल ने उसे खूब निभाया है। फिल्म के गीत उन्होंने ही लिखे हैैं। मुझे खुशी है कि लोग गाने का मतलब न समझने के बावजूद उसे पसंद करते रहे। खैर, मेरे हि…

फिल्‍म समीक्षा : प्रेम रतन धन पायो

Image
-अजय ब्रह्मात्‍मज ‘प्रेम रतन धन पायो’ सूरज बड़जात्‍या की रची दुनिया की फिल्‍म है। इस दुनिया में सब कुछ सुंदर,सारे लोग सुशील और स्थितियां सरल हैं। एक फिल्‍मी लोक है,जिसमें राजाओं की दुनिया है। उनके रीति-रिवाज हैं। परंपराओं का पालन है। राजसी ठाट-बाट के बीच अहंकार और स्‍वार्थ के कारण हो चुकी बांट है। कोई नाराज है तो कोई आहत है। एक परिवार है,जिसमें सिर्फ भाई-बहन बचे हैं और बची हैं उनके बीच की गलतफहमियां। इसी दुनिया में कुछ साधारण लोग भी हैं। उनमें प्रेम दिलवाला और कन्‍हैया सरीखे सीधे-सादे व्‍यक्ति हैं। उनके मेलजोल से एक नया संसार बसता है,जिसमें विशेष और साधारण घुलमिल जाते हैं। सब अविश्‍वसनीय है,लेकिन उसे सूरज बड़जात्‍सा भावनाओं के वर्क में लपेट कर यों पेश करते हैं कि कुछ मिनटों के असमंजस के बाद यह सहज और स्‍वाभाविक लगने लगता है।     सूरज बड़जात्‍या ने अपनी सोच और अप्रोच का मूल स्‍वभाव नहीं बदला है। हां,उन्‍होंने अपने किरदारों और उनकी भाषा को माडर्न स्‍वर दिया है। वे पुरानी फिल्‍मों की तरह एलियन हिंदी बोलते नजर नहीं आते। हालांकि शुरू में भाषा(हिंग्लिश) की यह आधुनिकता खटकती है। सूरज बड़जात्‍य…

परिपक्‍व हुआ प्रेम - सलमान खान

Image
-अजय ब्रह्मात्‍मज सूरज बड़जात्‍या और सलमान खान का एक साथ आना हिंदी फिल्‍म इंडस्‍ट्री की बड़ी खबर है। सलमान खान को सुरज बड़जात्‍या की फिल्‍म ‘मैंने प्‍यार किया’ से ही ख्‍याति मिली थी। उनकीफिल्‍म ‘हम आपके हैं कौन’ में भी सलमान खान थे,जो पांच सालों तक सिनेमाघरों में टिकी रही। फिर ‘हम साथ साथ हैं’ में दोनों साथ आए। उसके बाद एक लंबा अंतराल रहा। सूरज बड़जात्‍या अपनी कंपनी को मजबूत करने में लगे रहे और सलमान खान मसाल फिल्‍मों में अपनी मौजूदगी मजबूत करते रहे। दो साल पहले खबर आई कि सूरज बड़जात्‍या और सलमान खान साथ काम करेंगे? इस खबर से सभी चौंके,क्‍योंकि ऐसा लग रहा था कि इस बीच सलमान खान की लोकप्रियता का कद विशाल हो गया है। क्‍या वे सूरज बड़जात्‍या की सीधी-सादी पारिवारिक कहानी में जंचेंगे। कुछ तो यह भी मान रहे थे कि दोनों की निभेगी नहीं और यह फिल्‍म पूरी नहीं हो पाएगी। फिल्‍म में समय लगा। बीच में व्‍यवधान भी आए। प्रशंसकों की सांसें अटकीं। बाजार और ट्रेड के पंडित भी अनिश्चित रहे। लेकिन अब सब क्‍लीयर हो चुका है। पिछले कुछ समय से सलमान खान ‘प्रेम रतन धन पायो’ का धुआंधार प्रचार कर रहे हैं। मुंबई क…