Posts

Showing posts with the label अंग्रेज़ी समीक्षक

दरअसल:हिन्दी फिल्में और उनकी समीक्षा

पिछले दिनों एक युवा निर्देशक ने मुंबई के अंग्रेजी फिल्म समीक्षकों की समझदारी पर प्रश्न उठाते हुए कहा कि उन्हें न तो भारतीय फिल्मों की समझ है और न भारतीय समाज की! उन्होंने यह भी बताया कि वे मुंबई में पले-बढ़े और अंग्रेजी फिल्में देखकर ही फिल्म क्रिटिक बने हैं। इतना ही नहीं, अभी सक्रिय फिल्म समीक्षकों में से अधिकांश गॉसिप लिखते रहे हैं। उनकी समीक्षाएं सितारों और निर्माता-निर्देशकों से उनके रिश्ते से भी प्रभावित होती हैं। कई समीक्षक वास्तव में लेखक और निर्देशक बनने का सपना पाले रहते हैं। उन्हें उम्मीद रहती है कि शायद किसी दिन मौका मिल जाए! उनके इन हितों, मंशाओं और अज्ञानता से फिल्म समीक्षा प्रभावित होती है। ट्रेड सर्किल और दर्शकों के बीच उनके लिखे शब्दों का असर होता है। कई बार फिल्मों के बारे में गलत धारणाएं बनने के कारण फिल्में ध्वस्त हो जाती हैं।
मुंबई के फिल्म समीक्षकों से इस शिकायत के बावजूद अधिकांश निर्माता-निर्देशक पत्र-पत्रिकाओं में छपी समीक्षाओं में दिए गए स्टार्स को लेकर व्याकुल रहते हैं। वे अपनी फिल्मों के प्रचार में फिल्म समीक्षाओं से ली गई पंक्तियां और स्टार्स छापते हैं। मकसद …