Posts

Showing posts with the label बेहद जरूरी हैं किताबें

दरअसल : बेहद जरूरी हैं किताबें

Image
-अजय ब्रह्मात्मज
    पिछले दिनों दिल्ली में एक कॉलेज के मीडिया छात्रों से बतियाने का मौका मिला। इन दिनों महाविद्यालयों में भी मीडिया भी एक विषय है। इसके अंतर्गत मीडिया के विभिन्न माध्यमों में से एक सिनेमा का भी पाठ्यक्रम शामिल कर लिया गया है। इस पाठ्यक्रम के तहत सिनेमा की मूलभूत जानकारियां दी जाती है। पाठ्यक्रम निर्धारण से लेकर उसके अध्यापन तक में शास्त्रीय और पारंपरिक अप्रोच अपनाने की वजह से छात्र सिनेमा की समझ बढ़ाने के बजाय दिग्भ्रमित हो रहे हैं। जिन कॉलेज के अध्यापक मीडिया के वर्तमान से परिचित हैं, वे पाठ्यक्रम की सीमाओं का अतिक्रमण कर छात्रों को व्यावहारिक जानकारी देते हैं। वर्ना ज्यादातर कॉलेज में अध्यापक अचेत रहते हैं।
    गौर करें तो सिनेमा तेजी से फैल रहा है। यह हमारे जीवन का हिस्सा बन चुका है। मैं इसे धर्म की संज्ञा देता हूं। मनोरंजन के इस धर्म ने तेजी से प्रभावित किया है। भारतीय समाज में मनोरंजन के अन्य साधनों के अभाव में सिनेमा की उपयोगिता बढ़ जाती है। बचपन से हम जाने-अनजाने सिनेमा से परिचित होते हैं। बगैर निर्देश और पाठ के अपनी समझ विकसित करते हैं। वास्तव में यह समझ लोकप…