Posts

Showing posts from September, 2020

फिल्म समीक्षा : हलाहल

फिल्म समीक्षा हलाहल निर्देशक: रणदीप झानिर्माता : इरोसलेखक : जीशान कादरी और जिब्रान नूरानीमुख्या कलाकार : सचिन खेडेकर,बरुन सोबती स्ट्रीमिंग प्लेटफार्म : इरोसअवधि : 136 मिनट प्रदर्शन तिथि : 21 सितम्बर 2020 -अजय ब्रह्मात्मज इरोस पर स्ट्रीम हो रही ‘हलाहल’ रणदीप झा की पहली फिल्म है.रणदीपझा ने फिल्म करियर की शुरुआत दिबाकर बनर्जी की फिल्म ‘शांघाई’ से की थी. बाद में अनुराग कश्यप की टीम में वे शामिल हुए. अनुराग के साथ वे ‘अग्ली’, ‘रमन राघव’ और ‘मुक्काबाज’ फिल्म में एसोसिएट डायरेक्टररहे.इस फिल्म को जीशान कादरी और जिब्रान नूरानी ने लिखा है. फिल्म शिक्षा जगत मैं व्याप्त भ्रष्टाचार को छूती है. माना जा रहा है इस फिल्म की प्रेरणा मध्य प्रदेश के व्यापम घोटाले से ली गई है. ‘हलाहल’ की घटनाएं और प्रसंग में व्यापम की व्यापकता तो नहीं है, लेकिन इस भ्रष्टाचार में लिप्त संस्थान,पोलिस, नेता और शहर के रसूखदार व्यक्तियों की मिलीभगत सामने आती है. यूँ लगता है देश का पूरा तंत्र भ्रष्टाचार में लिप्त है और सभी के तार एक-दूसरे से जुड़े हुए हैं.‘हलाहल’ रात की नीम रोशनी में भागते दो किरदारों के साथ शुरू होती है. एक लड़…

सिनेमालोक : हिंदी में बनें प्रादेशिक फिल्में

सिनेमालोकहिंदी में बनें प्रादेशिक फिल्में लखनऊ में उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के बुलावे पर मुंबई से पहुंचे फिल्मकार और फिल्म इंडस्ट्री से जुड़े सक्रिय सदस्यों की बैठक चल रही है. कुछ दिनों पहले योगी आदित्यनाथ ने घोषणा की है कि वे उत्तर प्रदेश के नोएडा के आसपास फिल्म सिटी का निर्माण करेंगे. मंशा यह है कि उत्तर प्रदेश फिल्मों के निर्माण केंद्र के रूप में विकसित हो. उत्तर प्रदेश की प्रतिभाओं को मुंबई या किसी और शहर में जाकर संघर्ष नहीं करना पड़े. उत्तर प्रदेश के इस पहल का स्वागत किया जाना चाहिए. सरकारी पहल को मुंबई स्थित उत्तर प्रदेश के कलाकार फिल्मकार और तकनीशियन समर्थन दें. वहां दूसरे प्रदेशों की प्रतिभाएं भी जाकर काम कर सकें.हिंदी फिल्म इंडस्ट्री के विकेंद्रीकरण की बातें मैं पिछले 10 सालों से कर रहा हूं. मेरी राय में फिलहाल हुआ केंद्रीकरण हिंदी फिल्मों के विकास के लिए अप्रासंगिक और अनुचित हो चुका है. विषय, कल्पना और प्रयोग की कमी से पिछले दो दशकों में हिंदी फिल्मों में सिक्वल,रीमेक और फ्रेंचाइजी का चलन बढ़ा है. दर्शकों को फार्मूलाबद्ध मनोरंजन मिल जाता है. उन्हें कोई शिक…

सिनेमालोक : हिंदी सिनेमा की हिंदी

सिनेमालोक हिंदी सिनेमा की हिंदी -अजय ब्रह्मात्मज कल 14 सितम्बर को हिंदी दिवस था. पूरे देश में अनेक समारोह और जलसे हुए. सोशल मीडिया पर हिंदीप्रेमियों ने एक-दूसरे को बधाइयां दीं. हिंदी के समर्थन में ढेर सारी बातें लिखी गयीं. अगर हम सोशल मीडिया की पोस्ट और टिप्पणियों का अध्ययन करें तो पाएंगे कि मुख्य स्वर कातर और दुखी था. उन्हें कहीं न कहीं यह शिकायत थी कि हिंदी को जो महत्व मिलना चाहिए, वह उसे नहीं मिल पा रहा है. आजादी के 72 सालों के बाद भी इस देश की राजभाषा होने के बावजूद हिंदी प्रशासन, शिक्षा और अनेक संस्थानों से बाहर है. कुछ टिप्पणियों में हिंदी फिल्म इंडस्ट्री को भी निशाना बनाया गया. यह आपत्ति रही है कि हिंदी फिल्मों के स्टार और कलाकार सार्वजनिक मंचों से सिर्फ और सिर्फ अंग्रेजी का ही इस्तेमाल करते हैं. चंद कलाकार जरूर ऐसे हैं, जो हिंदी में भी संवाद करते हैं या कर सकते हैं. अधिकांश की मजबूरी है कि हिंदी बोलने में उनका प्रवाह टूट जाता .पिछले 10 सालों में पूरे देश में शिक्षा का माध्यम अंग्रेजी हुआ है. मध्यवर्ग और निम्न मध्यवर्ग के बच्चे भी अब अंग्रेजी माध्यम में पढ़ाई करते हैं. नतीजा यह…

सिनेमालोक : 21वीं सदी के भारत(अक्षय) कुमार

सिनेमालोक 21वीं सदी के भारत(अक्षय) कुमार -अक्षय कुमार कल अक्षय कुमार का जन्मदिन है. फिलहाल वह स्कॉटलैंड में अपनी नई फिल्म ‘बेल बॉटम’ की शूटिंग कर रहे हैं. इस फिल्म का लेखन असीम अरोड़ा और परवेज़ शेख ने किया है. फिल्म का निर्देशन रंजीत एम तिवारी के हाथों में है. उनकी पिछली फिल्म ‘लखनऊ सेंट्रल’ थी. फिल्म के निर्माता वासु भगनानी और निखिल आडवाणी हैं. कोविड-19 महामारी की वजह से ठप फिल्म इंडस्ट्री की गतिविधियां जब आरंभ हुई तो अक्षय कुमार ने ही सबसे पहले शूटिंग आरंभ की. पहले एक सरकारी कैंपेन और अभी तो पूरी यूनिट के साथ विदेश चले गए हैं. कोविड-19 के दौरान जारी सख्त हिदायतों के बीच उन्होंने शूटिंग आरंभ की है. उनकी पहलकदमी कहीं ना कहीं सरकार के साथ और समर्थन में मानी जा रही है’पिछले साल आम चुनाव आरंभ होने के समय अक्षय कुमार ने ही प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का पहला साक्षात्कार किया था. यह छिपी बात नहीं है कि वह सत्ता और सरकार के करीब हैं. सरकारी नीतियों के जबरदस्त पैरोकार हैं. वर्तमान सरकार के अभियानों और उजाले पक्षों को वे परदे पर ले आते हैं. उनकी ‘टॉयलेट एक प्रेम कथा’, ‘पैडमैन’, ‘मिशन मंगल’ और ‘के…

सिनेमालोक : बरतनी होगी सावधानी

सिनेमालोक बरतनी होगी सावधानी -अजय ब्रह्मात्मज खबरें आ रही है कि फिल्मों की शूटिंग की तैयारियां चल रही हैं. पिछले स्तम्भ में मैंने सूचना दी थी अमिताभ बच्चन ‘कौन बन गया करोड़पति’ और अक्षय कुमार स्कॉटलैंड में ‘बेल बॉटम’ की शूटिंग कर रहे हैं. मुंबई के स्टूडियो मैं भी हलचलें आरंभ हो गई हैं. फिल्मसिटी और अन्य स्टूडियो में आने-जाने वाली गाड़ियों की संख्या बढ़ गई है. फ्लोर पर जाने के पहले सब कुछ देखा-परखा जा रहा है. इस बीच ऐड और इंडोर्समेंट की शूटिंग चल रही है. कुछ पॉपुलर छोटे शूट से सीख-समझ रहे हैं कि किस तरह के एहतियात पर गौर करने की जरूरत है.वैक्सीन आने तक सरकार और स्थानीय प्रशासन की हिदायतों का पालन करना सभी की सेहत के लिए ठीक रहेगा. शॉट के लालच में कोई भी ढील नहीं बरती जा सकती. फिल्म की शूटिंग में निचले स्तर के जरूरी काम करने वाले कामगारों को सबसे ज्यादा खटना पड़ता है. उनकी सुरक्षा का पक्का इंतजाम भी नहीं रहता. नॉर्मल दिनों में हुई दुर्घटनाओं में मैं उनके ही शिकार होने की के समाचार मिलते हैं. अभी जो गतिविधियां आरंभ हुई हैं, उनमें शूटिंग के बेसिक इंतजाम में जुटे कामगारों को सुरक्षा के सभी…