Posts

Showing posts with the label महिलाएं

हौले-हौले बदल रही है औरतों की छवि और भूमिका

Image
महिला दिवस विशेष

-अजय ब्रह्मात्मज
    पहले ‘द डर्टी पिक्चर’ और फिर ‘कहानी’ की कामयाबी और स्वीकृति से विद्या बालन को खास पहचान मिली। पुरुष-प्रधान हिंदी फिल्म इंडस्ट्री में दशकों से हीरो की तूती बोलती है। माना जाता है कि हीरो के कंधे पर ही फिल्मों की कामयाबी टिकी रहती है। विद्या बालन की दोनों फिल्मों से साबित हुआ कि हीरोइनें भी कामयाबी का जुआ अपने कंधे पर ले सकती हैं। पिछले साल आई श्रीदेवी की ‘इंग्लिश विंग्लिश’ भी इस बदलते ट्रेंड को पुष्ट करती है। गौरी शिंदे के निर्देशन में लंबे समय के बाद लौटीं श्रीदेवी की यह फिल्म उम्रदराज अभिनेत्री और किरदार के कई पहलुओं को उद्घाटित करती है। ‘इंग्लिश विंग्लिश’ का स्वर आक्रामक नहीं है, लेकिन चेतना नारी अधिकार और स्वतंत्रता की है। अपनी अस्मिता की तलाश की है। रानी मुखर्जी की ‘अय्या’ और करीना कपूर की ‘हीरोइन’ बाक्स आफिस पर कमाल नहीं दिखा सकीं, फिर भी दोनों फिल्में नायिका प्रधान हैं। दोनों में नायक गौण हैं और पुरुषों की भूमिका भी हाशिए पर है। लेकिन इनके साथ ही ‘कॉकटेल’ जैसी फिल्में भी आती हैं, जहां प्रेम हासिल करने के लिए आजादख्याल की वेरोनिका को अपना चोल…

दरअसल:महिलाएं जगह बना रही हैं!

-अजय ब्रह्मात्मज हिंदी फिल्म इंडस्ट्री में महिलाओं की सक्रियता बढ़ी है। समाज के अन्य क्षेत्रों की तरह फिल्म इंडस्ट्री में विभिन्न स्तरों और विभागों में महिलाएं दिखने लगी हैं। किसी भी फिल्म की शूटिंग में आप महिला सहायकों को भागदौड़ करते देख सकते हैं। ऐसा भी नहीं है कि वे केवल निर्देशन में सहायता कर रही हों। कैमरा, साउंड और प्रोडक्शन की जिम्मेदारी निभाती सहायिकाओं से अमिताभ बच्चन तक प्रभावित हैं। उन्होंने अपने ब्लॉग में कई बार इस तब्दीली का उल्लेख भी किया है। हम महिला निर्देशकों के नाम से परिचित हैं। बाकी विभागों के तकनीशियन चेहरे और नाम से नहीं जाने जाते हैं। हम लोग कितने कैमरामैन, साउंड इंजीनियर या एडीटर के बारे में विस्तृत जानकारी रखते हैं? फिल्म इंडस्ट्री के बीच कुशल और योग्य तकनीशियनों की मांग रहती है। फिर भी मीडिया और फिल्म के प्रचार में न तो इन तकनीशियनों के नाम का सहारा लिया जाता है और न ही ऐसी जरूरत समझी जाती है कि दर्शकों को उनके बारे में बताया जाए! परिणामस्वरूप वे सभी गुमनाम ही रह जाते हैं।
बहरहाल, इधर दो-चार साल की फिल्मों की तकनीकी टीम पर नजर डालें, तो हम पाएंगे कि महिलाओं क…