Posts

Showing posts with the label शांतनु मोइत्रा

क्यों अपने आप से खफ़ा खफ़ा जरा जरा सा नाराज़ है दिल

आज शब जो चांद ने है रुठने की ठान ली
गर्दिशों में हैं सितारे बात हम ने मान ली
अंधेरी स्याह ज़िन्दगी को सूझती नहीं गली
कि आज हाथ थाम लो एक हाथ की कमी खली
क्यों खोया खोया चांद की फ़िराक में तलाश में उदास है दिल
क्यों अपने आप से खफ़ा खफ़ा जरा जरा सा नाराज़ है दिल
ये मन्ज़िले भी खुद ही तय करे
ये रास्ते भी खुद ही तय करे
क्यों तो रास्तों पे फिर सहम सहम के संभल संभल के चलता है ये दिल
क्यों खोया खोया चांद की फ़िराक में तलाश में उदास है दिल

क्या आप इन पंक्तियों को सुन चुके हैं.सुधीर मिश्र की नयी फिल्म खोया खोया चाँद का यह गीत खूब पसंद किया जा रहा है.इसे स्वानंद किरकिरे ने लिखा है और संगीत शांतनु मोइत्रा का है.अगर आप पूरा गीत पढना चाहते हैं तो बताएं.चवन्नी शाम तक यह भी करेगा.सुधीर मिश्र की फिल्म छठे दशक की याद दिलाएगी.शांतनु ने संगीत और स्वानंद ने शब्दों से उस दशक को जिंदा कर दिया है.फिल्म इंडस्ट्री के इन जवान प्रतिभाओं को सलाम.शांतनु बनारस से ताल्लुक रखते हैं तो स्वानंद इंदौर के हैं।

सुधीर मिश्र ने इन्हें हज़ारों ख्वाहिशें ऐसी... में मौका दिया था .तब से दोनों लगातार आगे ही बढ़ते जा रहे हैं.शुक्र है कि अभी तक दो…