Posts

Showing posts with the label आरके स्टुडियो का संताप

सिनेमालोक : आरके स्टुडियो का संताप

Image
सिनेमा स्टुडियो का संताप -अजय ब्रह्मात्मज 69 की उम्र में मेरी चिता सज गई थी. उसके दोसालों के बाद मेरे वारिसों ने मुझे किसी और के हवाले कर दिया. इसके एवज में उन्हें कुछ पैसे मिल गए. देश और मुंबई शहर के एक बड़े बिल्डर ने मुझे खरीद लिया. अभी पिछले शनिवार यानी 15 फरवरी को उस बिल्डर ने एक विज्ञापन के जरिये मेरे बारे में आप सभी को बताया. मेरी सज-धज चल रही है. कायाकल्प हो गया है मेरा. कभी जहां राज कपूर,उनकी नायिकाएं, उनके दोस्तों और फिल्म बिरादरी के दूसरे सदस्यों के ठहाके गूंजा करते थे. बैठकी लगती थी. बोल लिखे जाते थे. धुनें सजती थीं. रात-रात भर शूटिंग होती थी. पार्टियाँ चलती थीं. फिल्मकारों के सपने साकार होते थे. जल्द ही वहां तीन-चार कमरों के आलीशान अपार्टमेंट रोशन हो जाएंगे. धड़कने वहां भी होंगी, लेकिन उनमें वे किस्से और कहकहे नहीं होंगे. आह नहीं होगी.वाह नहीं होगी. जी आपने सही समझा मैं आर के स्टुडियो हूँ. मैं अपने बारे में आप सभी को बताना चाहता हूं. मैं राज कपूर का ख्वाब था. पहली फिल्म के निर्माण और निर्देशन के समय ही आप सभी के राजू ने मेरे बारे में सोचा था. अपनी पीढ़ी का वह अकेला नायक था,ज…