Posts

Showing posts with the label फिल्म स्टार

हिंदी प्रदेशों की उपेक्षा करते हैं स्टार

-अजय ब्रह्मात्मज

हिंदी फिल्मों के बड़े स्टार हिंदी प्रदेशों के शहरों में जाने से हिचकिचाते हैं। उनकी कोशिश होती है कि पटना, लखनऊ, भोपाल, जयपुर या शिमला जाने की जरूरत न पड़े तो अच्छा। यहां तक कि फिल्मों के प्रचार के सिलसिले में भी वे दिल्ली और कोलकाता जाकर संतुष्ट हो जाते हैं। बताने की आवश्यकता नहीं है कि उनकी इस उपेक्षा से उनका ही नुकसान होता है। उत्तर भारत के शहरों में जाकर प्रचार करने से उन्हें अपनी फिल्मों के अतिरिक्त दर्शक मिल सकते हैं और फिल्मों का बिजनेस बढ़ सकता है।

हिन्दी फिल्मों का बाजार और प्रचार तंत्र मुख्य रूप से संपन्न दर्शकों से ही प्रभावित होता है। बड़े शहरों के मल्टीप्लेक्स में टिकट की कीमत इन दिनों कम से कम सौ रुपये होती है, जो पहले हफ्ते में ढाई सौ रुपये तक पहुंच जाती है। फिर एक-एक मल्टीप्लेक्स में नई फिल्मों के 20 से 36 शो तक होते हैं। इस तरह चंद दिनों में ही प्रति प्रिंट भारी रकम की वसूली हो जाती है। इसके विपरीत छोटे शहरों में सिनेमाघरों की टिकटों की अधिकतम कीमत सौ रुपये है। सिंगल स्क्रीन में फिल्म लगी हो, तो उसके ज्यादा से ज्यादा पांच शो रोजाना हो पाते हैं। अगर हिसा…

रैंप पर क्यों चलते हैं सितारे ?

माफ करें, चवन्नी नहीं समझ पाता कि किसी फिल्म की रिलीज के पहले उस फिल्म के सितारों के रैंप पर चलने से क्या फायदा होता है? क्या फिल्म के दर्शक बढ़ जाते है अगर ऐसा होता तो 'सलाम-ए-इश्क' का सल।म दर्शकों ने कुबूल किया होता. अभी हाल में शाहरुख खान रैंप पर दिखे. वे अकेले नहीं थे. उनकी पूरी यूनिट अ।ई थी और फिर से माफ करें ... अपने हाव, भाव और फोटो के लिए दिए गए अंदाज से साफ लगा कि वे अ।ठवें दशक के कलाकारों के मैनरिज्म का मजाक उड़ा रहे हैं.
फराह खान और शाहरुख खान को लगता है कि हिंदी फिल्म इंडस्ट्री का अ।ठवां दशक ही बॉलीवुड है. उनकी यह समझ विदेश की यात्राओं और विदेशियों की सोच से बनी है. अगर हिंदी फिल्मों के अ।म दर्शक से बॉलीवुड का मतलब पूछें तो शायद वह बता ही नहीं पाए. चवन्नी को बॉलीवुड शब्द पसंद नहीं है. इससे एक तरफ हीन भावना और दूसरी तरफ हेय भावना प्रकट होती है.
शाहरुख खान और फराह खान 'ओम शांति ओम' को बेचने के तमाम हथकंडे अपना रहे हैं. इसमें कोई बुराई नहीं है. फेरीवाला भी अ।वाज देता है तभी हम समझ पाते हैं कि वह गली में अ। गया है. मछली बाजार है फिल्म इंडस्ट्री ... नि…