Posts

Showing posts with the label तूतक तूतक तूतिया

फिल्‍म समीक्षा : तूतक तूतक तूतिया

Image
न डर,न हंसी -अजय ब्रह्मात्‍मज फिल्‍म के लिए एक कहानी लिखी गई। उस कहानी के एक किरदार के लिए सोनू सूद से बात हुई। सोनू सूद को कहानी इतनी पसंद आई कि उन्‍होंने निर्माता बनने का फैसला कर लिया। उन्‍होंने फिल्‍म को अपने हिसाब से संजोया। लेखक और निर्देशक ने भी उनकी सोच का खयाल रखा। प्रभुदेवा हीरो बन गए। साथ में तमन्‍ना आ गईं। फिल्‍म तैयार हो गई। ‘तूतक तूतक तूतिया’ कुछ दोस्‍तों के सामूहिक प्रयास से एक प्रोपोजल को फिल्‍म में ढालने का नमूना है। दक्षिण के निर्देशक ए एल विजय की पहली हिंदी फिल्‍म है। कृष्‍णा मुंबई में रहता है। वह तमिल है। उसे तलाश है अंग्रेजी बोलने में माहिर मॉडर्न लड़की की,जिसका ग्रामर ठीक हो। वह 27 लड़कियों को प्रोपोज कर तीस बार रिजेक्‍ट हो चुका है। संयोग कुछ ऐसा बनता है कि उसे पैतृक गांव जाना पड़ता है। वहां आनन-फानन में उसकी शादी देवी से कर दी जाती है। मुंबई लौटने पर वह देहाती बीवी से दुखी रहता है। एक परालौकिक घटना घटती है। उसमें रुबी की आत्‍मा प्रवेश कर जाती है। रुबी हिंदी फिल्‍मों की हीरोइन बनने में असफल रहने पर हताशा में आत्‍महत्‍या कर चुकी है। रुबी की आत्‍मा किसी को तंग नहीं क…

हिंदी में न्‍यूकमर एक्‍टर हूं - प्रभुदेवाा

Image
-अजय ब्रह्मात्‍मज प्रभुदेवा का अधिकांश समय मुंबई में बीतता है। वे हिंदी फिल्‍मों के निर्देशन में व्‍यस्‍त रहते हैं। इस बार सोनू सूद के लिए वह ‘तूतक तूतक तूतिया’ में हीरो बन कर कैमरे के सामने आ रहे हैं। -क्‍या है ‘तूतक तूतक तूतिया’? 0 यह एक फन फिल्‍म है। ऐसी फिल्‍म पहले नहीं बनी है। कॉमेडी के साथ हॉरर है। मुझे इस फिल्‍म में लीड रोल मिला है। -सोनू सूद से आप की दोस्‍ती पुरानी है... 0 मैं उनकी फिल्‍में देखता रहा हूं। ‘रमैया वस्‍तावैया’ में मैंने उन्‍हें निर्देशित भी किया। उसके बाद से हम लगातार मिलते रहे हैं। मैंने ‘आर...राजकुमार’ में भी उन्‍हें निर्देशित किया। काम के प्रति उनका समर्पण देखने लायक है। वे दोस्‍ती निभाना जानते हैं। - इस फिल्‍म के लिए हां कहने की वजह यही दोस्‍ती रही क्‍या? 0 पहले मुझे यह फिल्‍म नहीं करनी थी। मैंने इस फिल्‍म की कहानी सुनी तो अच्‍छी लगी। डायरेक्‍टर ए एल विजय ने कहा कि अगर आप लीड रोल स्‍वीकार करें तो बहुत अच्‍छा रहेगा। मुझ में उनका विश्‍वास था। उनके इसी विश्‍वास ने मुझे हां कहने के लिए उकसाया। फिल्‍म करते हुए मुझे लगा कि उनका फैसला सही था। इस फिल्‍म के सीन मजेदार हैं। *…