Posts

Showing posts with the label नई प्रतिभा

दरअसल : पूरी तैयारी और धैर्य के साथ आएं

-अजय ब्रह्मात्मज
    मुंबई और दूसरे शहरों में फिल्मों में आने और छाने के लिए आतुर महत्वाकांक्षी युवक-युवतियों से भेंट-मुलाकात होती रहती है। लंबे समय से फिल्मों पर लिखने, स्टार एवं डायरेक्टर के इंटरव्यू प्रकाशित होने से पाठकों को लगता है कि फिल्मी हस्तियों से हमारा नजदीकी रिश्ता है। रिश्ता जरूर है, लेकिन यह अधिकांश मामलों में प्रोफेशनल है। कभी उनकी जरूरत तो कभी हमारी चाहत ़ ़ ़ दोनों के बीच मेलजोल चलता रहता है। अगर हम साल में चार बार अमिताभ बच्चन का इंटरव्यू करते हैं तो इसका मतलब यह कतई न समझें कि उनसे हमारा रिश्ता प्रगाढ़ हो गया है। मेरे जैसे और दो दर्जन से अधिक पत्रकार हैं, जिन्हें वे इंटरव्यू देते हैं। हां, कई बार अपने सवालों की वजह से हम उन्हें याद रह जाते हैं। अमिताभ बच्चन तो फिर भी हिंदी पत्र-पत्रिकाएं पढ़ लेते हैं। बाकी फिल्मी हस्तियों का हिंदी से अधिक लेना-देना नहीं रहता। वे पढ़ते नहीं हैं। वे देखते हैं कि हमने उन पर लिखा है। यही वजह है कि निरंतर लिखने के बावजूद हिंदी के फिल्म पत्रकारों की इंडस्ट्री में पैठ नहीं बन पाती। उसके लिए काफी जद्दोजहद करनी पड़ती है।
    बहरहाल, निरंतर प…