Posts

Showing posts with the label ब्लोग

मैं जिंदा हूं, हां जिंदा हूं-आमिर खान

Image
बुधवार, 19 सितंबर, 2007

अ।उच! 2000 से ज्यादा पोस्ट मिले अ।पके. लगता है मेरी मुश्किलें बढ़ेंगी. फिर भी यही कहूंगा कि नंबर बढ़ता देख खुशी होती है.
सभी को मेरा हेलो! इतने दिनों तक गायब रहा. अ।पसे कटा महसूस करता रहा, खासकर जब देखता हूं कि अ।प हूं कि अ।प मेरे बगैर भी अपने काम में मशगूल हैं. लगता है कि मैं पीछे छूट गया.
सोच रहा हूं कि पहले अ।पके पोस्ट पढूं या अपना पोस्ट लिखूं... अभी पूरी नहीं पढ़ पाया हूं. कुछ पन्नों को पढ़ कर ही लग रहा है कि मजेदार चीजें छूट रही थीं. ठीक है, मैं अपना काम जल्दी कर लूं.
मैं अभी ब्रुसेल्स में हूं... मुंबई के रास्ते में. एक सम्मेलन के सिलसिले में 4-5 दिन अमेरिका में था.
मैं वादा करता हूं कि तारे जमीं पर का पहला क्रिएटिव मेरे ब्लॉग पर अ।एगा. अ।प लोग सबसे पहले उसे देखेंगे. अ।ज कल मैं उसी पर काम कर रहा हूं.
शंकर... अ।पको अपने ब्लॉग पर देखकर खुशी हो रही है. पंचगनी में सब कुछ रहा.
दोस्तों मशहूर शंकर एहसान लॉय के शंकर की बात कर रहा हूं. शायद अ।प सभी को मालूम होगा कि वे ही तारे जमीं पर के संगीतकार हैं. शंकर पंचगनी की याद दिला रहे हैं. हमलोग तारे जमीं पर के बैकग्राउंड संगीत…