Posts

Showing posts with the label श्रद्धांजलि

खुशमिजाज मां रीमा लागू

Image
खुशमिजाज मां रीमा लागू -अजय ब्रह्मात्‍मज उनकी उम्र अभी 59 थी। हमेशा के लिए आंखें बंद करने की यह उम्र नहीं होती। न कोई बीमारी और न कोई आसन्‍न दुख...बस,सीने में दर्द हुआ। अस्‍पताल पहुंची और दो-तीन घेटों के अंदर त्रहैं’ से ‘थीं’ हो गईं। जीवन क्षणभंगुर है। अगले पल क्‍या हो,नहीं मालूम। हिंदी फिल्‍मों की पसंदीदा और खुशमिजाज मां रीमा लागू अब नहीं रहीं। सभी अवाक हैं,क्‍योंकि कोई इस खबर के लिए तैयार नहीं था। हिंदी फिल्‍मों में वह जिन सितारों की मां बनती रहीं,उनसे उनकी उम्र 7 से 10 साल ही अधिक रही होगी। फिर भी पर्दे पर उम्र का फासला और वात्‍सल्‍य दिखता था। वह मां लगती थीं। थिएटर एक्‍टर मंदाकनी भड़भड़े की बेटी रीमा ने थिएटर से ही करिअर आरंभ किया। सबसे पहले 1988 में मंसूर खान ने ‘कयामत से कयामत तक’ में उन्‍हें मां की भूमिका दी। उसके बाद वह अरूणा राजे की ‘रिहाई’ में दिखीं। इस विवादास्‍पद किरदार में से वह चर्चा में रही,लेकिन अगले ही साल ‘मैंने प्‍यार किया’ में सलमान खान की मां बनते ही वह हर-हमेशा के लिए मां के रूप में हिंदी फिल्‍मों का फिक्‍स किरदार हो गईं। उन्‍होंने हिंदी सिनेमा के पर्दे पर आज के सभी…

निदा फाजली : तंज और तड़प है उनके लेखन में

Image
-अजय ब्रह्मात्‍मज     खार दांडा में स्थित उनका फ्लैट मुंबई आए और बसे युवा पत्रकारों और साहित्‍यकारों का अड्डा था। न कोई निमंत्रण और ना ही कोई रोक। उनके घर का दरवाजा बस एक कॉल बेल के इंतजार में खुलने के लिए तैयार रहता था। आप किसी के साथ आएं या खुद पहुंच जाएं। उनकी बैठकी में सभी के लिए जगह होती थी। पहली मुलाकात में ही बेतकल्‍लुफ हो जाना और अपनी जिंदादिली से कायल बना लेना उनका बेसिक मिजाज था। बातचीत और बहस में तरक्‍कीपसंद खयालों से वे लबालब कर देते थे। विरोधी विचारों को उन्‍हें सुनने में दिक्‍कत नहीं होती थी, लेकिन वे इरादतन बहस को उस मुकाम तक ले जाते थे, जहां उनसे राजी हो जाना आम बात थी। हिंदी समाज और हिंदी-उर्दू साहित्‍य की प्रगतिशील धाराओं से परिचित निदा फाजली के व्‍यक्तित्‍व, शायरी और लेखन में आक्रामक बिंदासपन रहा। वे मखौल उड़ाते समय भी लफ्जों की शालीनता में यकीन रखते थे। शायरी की शालीनता और लियाकत उनकी बातचीत और व्‍यवहार में भी नजर आती थी। आप अपनी व्‍यक्तिगत मुश्किलें साझा करें तो बड़े भाई की तरह उनके पास हल रहते थे। और कभी पेशे से संबंधित खयालों की उलझन हो तो वे अपने अनुभव और जानका…

श्रद्धांजलि : रवींद्र जैन

Image