Posts

Showing posts with the label बादशाहो

फिल्‍म समीक्षा : बादशाहो

Image
फिल्‍म रिव्‍यू मसालों के बावजूद फीकी बादशाहो -अजय ब्रह्मात्‍मज
फिल्‍मों में लेखन कर रहे एक राजस्‍थानी मित्र ने ‘बादशाहो’ का ट्रेलर देखते ही सोशल मीडिया में लिखा था कि राजस्‍थनी में हर ‘न’ का उच्‍चारण’ण’ नहीं होता। भाषा के प्रति ऐसी लापरचाही बड़ी-छोटी फिल्‍मों में होती रहती है। फिल्‍म के सारे किरदार राजस्‍थान के हैं और किसी के लहजे में राजस्‍थानी उच्‍चारण नहीं है। अगर सभी लोकप्रिय भाषा ही बोलते तो क्‍या फर्क पड़ जाता? ‘बादशाहो’ राजस्‍थान में सुने-सुनाए प्रचलित किस्‍सों में से एक किस्‍सा पर आधारित है। यह सत्‍यापित नहीं है,लेकिन कहा जाता है कि इंदिरा गांधी और संजय गांधी के इशारे पर फौज ने महारानी गायत्री देवी के किले पर छापा मारा था और बड़ी मात्रा में सोने-गहने ले गए थे। किसी को मालूम नहीं कि सच क्‍या है? फिर भी किलों में घमने आए गाइड और शहर के बाशिंदे इन किस्‍सों का दोहराते हैं। यह किस्‍सा मिलन लूथरिया ने भी सुन रखा था। ‘कच्‍चे घागे’ की शूटिंग के दरम्‍यान सुना यह किस्‍सा उनके जहन से निकल ही नहीं पाया। अजय देवगन को भी उन्‍होंने यह किस्‍सा सुनाया था। इस बार जब दोनों साथ में काम करने के लिए राज…

रिलेशनशिप पर है ‘बादशाहो’-अजय देवगन

Image
रिलेशनशिप पर है ‘बादशाहो’-अजय देवगन -अजय ब्रह्मात्‍मज अजय देवगन एक से अधिक फिल्‍मों में सक्रिय हो गए हैं। ‘शिवाय’ के निर्माण-निर्देशन में लगे समय की यह भरपाई तो नहीं है,लेकिन वे अभी थोड़ा फ्री महसूस कर रहे हैं। उन्‍होंने रोक रखी फिल्‍मों के लिए हां कहना शुरू कर दिया है। एक साथ कई फिल्‍में निर्माण के अलग-अलग स्‍टेज पर हैं। फिलहाल उनकी ‘बादशाहो’ रिलीज हो रही है। मिलन लूथरिया के निर्देशन में बनी यह फिल्‍म पैसा वसूल मानी जा रही है। - कैसे और कब सोची गई ‘बादशाहो’? 0 हमलोग जब ‘कच्‍चे घागे’(1999) की राजस्‍थान में शूटिंग कर रहे थे,तब सभी एक किस्‍से की बातें करते थे। सरकार की कोशिशों के बावजूद सोना गायब हो गया था। जिसने भी सोना गायब किया,वह कभी मिला ही नहीं। यह बहुत ही रोचक किस्‍सा था।  हम ने तभी सोचा था कि कभी इस पर फिल्‍म बनाएंगे। अभी हमलोग साथ में फिल्‍म के बारे में सोच रहे थे तो मिलन लूथरिया  एक और कहानी लेकर आए थे। उसमें मजा नहीं आ रहा था तो मैंने इस किस्‍से की याद दिलाई। अच्‍छी एंटरटेनिंग और ड्रामा से भरपूर स्क्रिप्‍ट तैयार हो गई। इस तरह ‘बादशाहो’ बनी। - क्‍या यह सच्‍ची कहानी है? 0 पता नहीं कि…