Posts

Showing posts with the label सिनेमालोक . अपनी कथाभूमि से बेदखल होते फिल्मकार

सिनेमालोक : अपनी कथाभूमि से बेदखल होते फिल्मकार

Image
सिनेमालोक अपनी कथाभूमि से बेदखल होते फिल्मकार - अजय ब्रह्मात्मज पिछले हफ्ते एक युवा फिल्मकार का फ़ोन आया. उनकी आवाज़ में बदहवासी थी.थोड़े घबर्सये हुए लग रहे थे. फोन पर उनकी तेज़ चलती सांस की सायं-सायं भी सुनाई पड़ रही थी.मैंने पूछा,जी बताएं, क्या हाल हैं? मन ही मन मना रहाथा कि कोई बुरी खबर न सुनाएं. उन्होंने जो बताया,वह बुरी खबर तो नहीं थी,लेकिन एक बड़ी चिंता ज़रूर थी.यह पहले भी होता रहा है.हर पीढ़ी में सामने चुनौती आती ही. उन्हें अभी एहसास हुआ. उनके जैसे और भी फिल्मकार होंगे,जो खुद को विवश और असहाय महसूस कर रहे होंगे. उन्होंने बताया कि सुविधा सम्पन्न फिल्मकार उनकी कहानियों और किरदारों को हथिया रहे हैं. उन पर काबिज हो रहे हैं. युवा फिल्मकार 'गली बॉय' देख कर लौटे थे. उनकी प्रतिक्रिया और चिंता थी कि सफल और सम्पन्न फिल्मकार उनका हक छीन रहे हैं. उन्हें उनकी ज़मीन से बेदखल कर रहे हैं.
हिंदी फिल्मों में यह सिलसिला सालों से चला आ रहा है. युवा और प्रयोगशील फिल्मकार कंटेंट और क्राफ्ट में नए-नए प्रयोग करते रहते हैं. उनकी सफलता-असफलता चलती रहती है. दशकों से हम यह देखते आ रहे हैं कि प्रयोगशील फिल्मकार…