Posts

Showing posts with the label बाबूजी के बेटे

बाबूजी के बेटे - अजय ब्रह्मात्‍मज

Image
अमिताभ बच्चन से हुई यादगार साहित्यक बातचीत : -अजय ब्रह्मात्‍मज अमिताभबच्चन अपने बाबूजी की बातों का उल्लेख करते समय सिर्फ एक कवि के बेटे होतेहैं। उन्हें अपनी विशाल छवि याद नहीं रहती। बाबूजी की रचनाओं के प्रति उनके कौतूहलऔर गर्व को उनके ब्लॉग और ट्वीट में पढ़ा जा सकता है।
वर्ष 2008 की बात है। उनके बाबूजी हरिवंश राय बच्चन की जन्म शताब्दी का साल था।अचानक ख्याल आया कि क्यों न उनके बाबूजी हरिवंश राय बच्चन के बारे में बातेंकी जाएं। मैंने आग्रह के संदेश के साथ इंटरव्यू का विषय भी बता दिया। पूरी बातचीतउनके कवि और साहित्यकार बाबूजी हरिवंश राय बच्चन के बारें में होंगी। वहसहर्ष तैयार हो गए । स्थान, समय और तारीख निश्चित हो गई। हालांकिवह भी औपचारिक मुलाकात थी,लेकिन मैं परेशान था कि फिल्म इंडस्ट्री केख्यातिलब्ध कद्दावर स्टार को इस मुलाकात में मैं क्या भेंट कर सकता हूं?ऊहापोह और असमंजस के बीच मैंने तय किया कि जेएनयू में अपने सीनियर और मित्रगोरख पांडे की कविता ‘समझदारों का गीत’ ले चलूं। दो पृष्ठों की इस कवितामें गोरख पांडे ने कथित समझदारों के विरोधाभास और पाखंड को भावपूर्णगहराई के साथ व्यक्त किया है। दो प…