Posts

Showing posts with the label एकलव्य

एकलव्य बाहर हो गया एकैडमी से

सुबह-सुबह एकैडमी की लिस्ट आ गयी.एकैडमी के विदेशी भाषा श्रेणी में फिल्म भेजने के लिए जो मारकाट मची थी,उस से आप सभी परिचित हैं.धर्म और एकलव्य ऐसे टकराए थे मानो एकैडमी में फिल्म नहीं गयी तो फिल्म ही बनाना बेकार है.पता नहीं अब कौन मातम मना रहा होगा.शाम तक लोगों की प्रतिक्रियाएं आ जायेंगी।
फिलहाल आप को बता दें के इस साल ६३ देशों की फिल्मों को एंट्री मिली थी,उनमें से ९ पहले चरण में नामांकित की गयी हैं.२२ जनवरी को इनमें से ५ की अन्तिम सूची जारी की जायेगी।

1.Austria, “The Counterfeiters,” Stefan Ruzowitzky, director
2.Brazil, “The Year My Parents Went on Vacation,” Cao Hamburger, director
3.Canada, “Days of Darkness,” Denys Arcand, director
4.Israel, “Beaufort,” Joseph Cedar, director
5.Italy, “The Unknown,” Giuseppe Tornatore, director
6.Kazakhstan, “Mongol,” Sergei Bodrov, director
7.Poland, “Katyn,” Andrzej Wajda, director
8.Russia, “12,” Nikita Mikhalkov, director
9.Serbia, “The Trap,” Srdan Golubovic, director

चलिए हम सभी इन फिल्मों को देखने का इन्तेजाम करें.इसे शर्म कहें या विडम्बना कि भारत में ६०…

एकलव्य ही गयी ऑस्कर

Image
ऑस्कर से जारी सूची में एकलव्य शामिल है.देश में ऑस्कर को लेकर चल रहा विवाद घिनौने स्तर तक पहुंच गया था.मामला कोर्ट तक गया.चवन्नी नही समझ पा रहा है कि क्यों हर बार कोई भी पुरस्कार,सम्मान और प्रतिष्ठा को पहले शक की निगाह से देखा जाता है.उस पर सवाल उठाये जाते हैं.विवाद खडा होता है.कुल मिला कर स्वाद खट्टा हो जाता है.अब एकलव्य का ही प्रसंग लें.इस पर ऐसे विवाद की कोई ज़रूरत नही थी.इसके साथ यह भी ज़रूरी है की हर समिति पारदर्शी तरीके से काम करे.शक-ओ-शुबहा कि गुंजाइश ही क्यों हो? बहहाल,एकलव्य ऑस्कर कि सूची में पहुंच गयी है.फिल्म के निर्देशल विधु विनोद चोपडा के लिए यह खुशी और जिम्मेदारी का मौका है.अब वे अपनी पूरी ताकात लगाएं और इस बात की कोशिश करें कि एकलव्य ज्यूरी के सारे सदस्य देखें.ऑस्कर में जम कर प्रचार करना पड़ता है.विधु को कुछ दिनों के लिए वहीँ डेरा डालना होगा.चवन्नी भी चाहेगा कि उसके देश की फिल्म पहले नामांकन सूची में पहुंचे और फिर पुरस्कार भी हासिल करे.चवन्नी की शुभकामनायें विधु और एकलव्य के साथ हैं। ऑस्कर की विदेशी भाषा की श्रेणी में ग़ैर अंग्रेजी फ़िल्में भेजी जाती हैं.halanki चवन्नी के द…

ऑस्कर के लिए मारामारी

Image
ऑस्कर के लिए परेशान हैं सभी.चवन्नी की समझ में नहीं आ रहा है कि विदेशी पुरस्कार के लिए एेसी मारामारी क्यों चल रहीं है?याद करें तो ऑस्कर पुरस्कारों की विदेशी भाषा श्रेणी की नामांकन सूची में लगान के पहुंचने के बाद सभी भारतीय फिल्मकारों को लगने लगा है कि उनकी फिल्म इस प्रतियोगिता के लिण अवश्य भेजी जानी चाहिए.अस साल एकलव्य भेजी जा रही है या यों कहें कि भेजी जा चुकी है,लेकिन धर्म की निर्देशक भावना तलवार को लगता है िक एकलव्य के निर्माता निर्देशक विधु विनोद चोपड़ा ने अपने प्रभाव से अपनी फिल्म को चुनवा लिया.फिल्म इंडस्ट्री तो क्या हर क्षेत्र में इस तरीके के मैनीपुलेशन चलते हैं.
आइए,आाप को किस्सा सुनाते हैं.ऑस्कर के नियमों के मुताबिक हर देश से एक फिल्म िवदेशी भाषा श्रेणी के पुरस्कार के लिए भेजी जा सकती हैणयमं तो हर साल एक फिल्म जाती है,लेकिन लगान के नामांकन सूची में पहुंचने के बाद फिल्म इंडस्ट्री और आम लोग इस पुरस्कार के प्रति जागरूक हुए.भारत से फिल्म फेडरेशन ऑफ इंडिया ही ऑस्कर के लिए भेजी जाने वाली फिल्म का चुनाव करती है.इस कार्य के लिए एक ज्यूरी बनायी जाती है.इस ज्यूरी में फिलहाल मुंबई के ज्या…