Posts

Showing posts with the label प्रवाल रमण

फिल्‍म समीक्षा :404

Image
दिमाग में डर-अजय ब्रह्मात्‍मज 0 लंबे समय तक राम गोपाल वर्मा के सहयोगी रहे प्रवाल रमण ने डरना मना है और डरना जरूरी है जैसी सामान्य फिल्में निर्देशित कीं। इस बार भी वे डर के आसपास ही हैं, लेकिन 404 देखते समय डरना दर्शकों की मजबूरी नहीं बनती। तात्पर्य यह कि सिर्फ साउंड इफेक्ट या किसी और तकनीकी तरीके से प्रवाल ने डर नहीं पैदा किया है। यह फिल्म दिमागी दुविधा की बात करती है और हम एक इंटेलिजेंट फिल्म देखते हैं।0 हिंदी फिल्मों में मनोरंजन को नाच-गाना और प्रेम-रोमांस से ऐसा जोड़ दिया गया है कि जिन फिल्मों में ये पारंपरिक तत्व नहीं होते,वे हमें कम मनोरंजक लगती हैं। दर्शकों को ऐसी फिल्म देखते समय पैसा वसूल एक्सपीरिएंस नहीं होता। दर्शक पारंपरिक माइंड सेट से निकलकर नए विषयों के प्रति उत्सुक हों तो उन्हें 404 जैसी फिल्मों में भी मजा आएगा।0 404 बायपोलर डिस आर्डर पर बनी फिल्म है। इस रोग से ग्रस्त व्यक्ति डिप्रेशन,इल्यूजन और हैल्यूसिनेशन का शिकार होता है। वह अपनी सोच के भंवर में फंस जाता है और कई बार खुद को भी नुकसान पहुंचा देता है। मनुष्य की इस साइकोलोजिकल समस्या को भी फिल्म में रोचक तरीके …