Posts

Showing posts with the label 2007

शुक्रवार,९ नवम्बर,२००७

माफ़ करें.दीपावली कि खुशियों में थोडी देर हो गयी.चवन्नी ने सोचा था कि सवेरे ही पोस्ट कर देगा,लेकिन एक के बाद एक काम लगा रहा.और फिर रात में फिल्म देख कर देर से लौटने के कारण चवन्नी आज ज्यादा देर तक सोया ही रहा.बहरहाल इस शुक्रवार की बात करें। आज दो फिल्में और दोनो ही बड़ी फिल्में रिलीज हुई हैं.संजय लीला भंसाली की सांवरिया और फराह खान कि ओम शांति ओम ने सभी सिनेमाघरों को भर दिया है.चवन्नी ने आप को पिछले हफ्ते बताया ही था कि इन दोनों फिल्मों के डर से २ नवम्बर को कोई फिल्म रिलीज नही हुई थी.चवन्नी आप को बता दे कि अगले हफ्ते भी कोई फिल्म रिलीज नही हो रही है। सांवरिया में दो नए स्टार हैं.कपूर खानदान के वारिस के तौर पर पेश किये जा रहे रणबीर कपूर और अनिल कपूर कि बेटी सोनम कपूर को आप इस फिल्म में देख सकते हैं.चवन्नी ने सुना है कि रणबीर कपूर और सोनम कपूर को पसंद किया गया है.पसंद तो ओम शांति ओम की दीपिका पदुकोन को भी किया जा रहा है.चवन्नी को अजय ब्रह्मात्मज की समीक्षाओं का इंतज़ार है। बुधवार को सांवरिया का प्रीमियर था.फिल्म जगत के ढेर सारे लोग फिल्म देखने आये थे.यह अनोखा माहौल होता है.मौका मिल

शुक्रवार, 28 सितंबर, 2007

इस हफ्ते श्रीराम राघवन की 'जॉनी गद्दार' और मनीष तिवारी की 'दिल दोस्ती एट्सेट्रा' फिल्में रिलीज हो रही हैं. श्रीराम राघवन की पिछली फिल्म 'एक हसीना थी' चवन्नी ने देखी थी. उस फिल्म से ही लगा था कि श्रीराम राघवन में पॉपुलर सिनेमा और थ्रिलर की अच्छी समझ है. अ।पको याद होगा कि अपने छोटे नवाब के एटीट्यूड में भी इसी फिल्म से बदलाव अ।या था, जिसकी परिणति 'ओमकारा' के लंगड़ा त्यागी में हुई. एक्टर को एक्टिंग से परिचित कराने का काम समर्थ डायरेक्टर करते रहे हैं. हृषीकेष मुखर्जी, गुलजार, महेश भट्ट जैसे फिल्मकारों ने समय-समय पर एक्टरों को नयी छवि दी और उन्हें खिलने के नए अ।याम दिए. धर्मेंद्र, राजेश खन्ना, संजय दत्त, जीतेन्द्र, हेमामालिनी, डिंपल कपाड़िया अ।दि एक्टरों की फिल्मों से डायरेक्टर के योगदान के इस पहलू को चवन्नी ने समझा. बहरहाल, श्रीराम राघवन की 'जॉनी गद्दार' थ्रिलर फिल्म है. एक ऐसा थ्रिलर , जिसमें दर्शकों को मालूम है कि गद्दार कौन है? लेकिन दर्शक भी उसकी अगली हरकत से चौंकते हैं. कहते हैं, श्रीराम राघवन ने बेहद चुस्त फिल्म बनायी है. चवन्नी को अजय ब्र