Posts

Showing posts with the label तिग्मांशु धूलिया

चौंका दिया पान सिंह तोमर ने

Image
-अजय ब्रह्मात्‍मज इन दिनों ऐसी फिल्में कम आती हैं, जिन्हें दर्शक लपक लेते हैं। पिछले 2 मार्च को रिलीज हुई तिग्मांशु धूलिया की फिल्म पान सिंह तोमर को दर्शकों ने पसंद किया और अपना लिया। दर्शकों ने यह जता दिया कि वे सिर्फ आइटम सॉन्ग या आक्रामक प्रचार न होने पर भी फिल्मों को पसंद करते हैं। । उनकी इस पसंद की जानकारी दूसरे दिन मिलती है। पहले दिन तो उन्हें पता भी नहीं रहता कि शुक्रवार को आ रही फिल्म कैसी है? पान सिंह तोमर की ही बात करें तो इस फिल्म के निर्माता यूटीवी को भरोसा नहीं था। उन्होंने लगभग तय कर लिया था कि वे अपना नुकसान नहीं बढ़ाएंगे। फिल्म बन जाने के बाद भी घाटे की आशंका से फिल्में डिब्बे में डाल दी जाती हैं। उन्हें दर्शकों तक पहुचने ही नहीं दिया जाता। पान सिंह तोमर दो साल पहले बन कर तैयार हो चुकी थी। विभिन्न इंटरनेशनल फेस्टिवलों में इसे दर्शकों ने सराहा भी था, लेकिन यूटीवी के अधिकारियों को लग रहा था कि अभी के माहौल में दर्शक इसे पसंद नहीं करेंगे। पान सिंह तोमर नामक डाकू के जीवन में किसे इंटरेस्ट होगा? ऊपर से कोई बिकाऊ स्टार मेन लीड में नहीं है तो दर्शक भला क्यों देखने आएंगे? सारी

फिल्‍म समीक्षा : शागिर्द

Image
भ्रष्ट है पूरा तंत्र -अजय ब्रह्मात्मज तिग्मांशु धूलिया की शागिर्द पुलिस विभाग, राजनीति और अपराध जगत की मिलीभगत का सिनेमाई दस्तावेज है। उन्होंने दिल्ली शहर में एकऐसी दुनिया रची है, जिसमें सभी भ्रष्ट हैं। अपराधी तो आचरण और कर्म से भ्रष्ट और गैरकानूनी गतिविधियों में संलग्न होते हैं। शागिर्द में पुलिस अधिकारी और राजनीतिज्ञ में भ्रष्टाचार में लिप्त दिखाए गए हैं। हनुमंत सिंह नीडर और निर्भीक पुलिस अधिकारी हैं। एक तरफ वे राजनीतिज्ञ के मोहरे के तौर पर काम करते हैं तो दूसरी ओर उनके हाथ अपराधियों से भी मिले हुए हैं। वे अपराधियों को पकड़ते और उनका सफाया करते हैं, लेकिन साथ ही उन्हें संरक्षण देकर वसूली भी करते हैं। आश्चर्य नहीं कि उनका पूरा महकमा इस कदाचार में शामिल है। हां, वे पुरानी हिंदी फिल्मों के मधुर गीतों के दीवाने हैं। उन्हें फिल्मों की रिलीज का साल, गीतकार, संगीतकार और गायकों तक के नाम याद रहते हैं। इस भ्रष्ट पुलिस अधिकारी को अपने परिवार की सुरक्षा और भविष्य की चिंता भी रहती है। वह उन्हें न्यूजीलैंड में बसने के लिए भेज देता है। पुलिस की नौकरी से त्यागपत्र देकर वह भी न्यूजीलैंड पहुं