Posts

Showing posts with the label दीपांकर गिरि

निर्देशक की सामन्ती कुर्सी और लेखक का समाजवादी लैपटॉप (part 2) - दीपांकर गिरि

Image
(continued from previous post) दीपांकर गिरि लोग “बायसिकल थीव्स ” की बात करते हैं ..”मालेगांव के  सुपरमैन” की बात करते हैं और फिल्मो के जुनून में पगलाए रहते हैं ….सिनेमा को बदलने की बातें करते हैं पर ब्लू फिल्म की बातें कोई नहीं करता ….अभी 10 साल तक जो भी फिल्म शुरू होता था उससे पहले किसी देवी देवता की पूजा करते हुए दिखाई देते थे और सिनेमा के  परदे संस्कार बांटा करते थे  ……ज़ाहिर हैं ब्लू  फिल्में संस्कार नहीं फैलाती  तो सिनेमाई  पैशन से ही कौन सा समाज बदल रहा है .?..कौन सा नया आर्ट डिस्कवर हो रहा है  …न “दो बीघा ज़मीन” बदल सका छोटे  किसानो की हालत न “पीपली लाइव” ….फिर सिनेमा बनाने का purpose   क्या है  ? इससे अच्छा तो पंकज उधास का गाया  “चिट्ठी  आई है ” गाना था जिसे सुनने के बाद विदेशों में बसे कई हिंदुस्तानी डॉक्टर्स अपनी मिटटी……. अपने वतन लौट आये थे …. फिर सिनेमा का ये स्वांग क्यों ?…क्या इतनी बेहतरीन फिल्मो के बावजूद ईरान  में रह रही औरतों के सामाजिक अस्तित्व में कोई सुधार आया है … और ये बहस बहुत पुरानी हो चुकी है की हम कुछ बदलने के लिए सिनेमा नहीं बना रहे ….हम सिर्फ दर्शकों के दिमा…

निर्देशक की सामन्ती कुर्सी और लेखक का समाजवादी लैपटॉप - दीपांकर गिरि

Image
दीपांकर गिरि अपने परिचय में लिखते हैं....जब सबकुछ सफेद था तो रंग ढूढने निकल पडे। जब रंग मिले तो वापस ब्लैक एंड व्हाइट की तलाश में निकले।बस यूं ही किसी न किसी बहाने चलतो रहे।कहीं कोई मजमा दिखा तो खडे होकर देखने लगे।मजमेबाज़, तमाशेबाज़,जादूगर, बहुरूपिये    चलो ढूंढें अपने आसपास इन्हें ..दीपांकर गिरि  बचपन में जब फुटबॉल  खेलते थे तो 15 -20 लड़कों के  बीच से उछलते फुटबाल को देखकर बस  एक ही इच्छा रहती थी कि किसी तरह एक बार फुटबाल मेरे पास  भी आ जाए। उतनी भीड़ में बाल कभी कभार  ही अपने पास आता  था लेकिन उस एक पल में फुटबॉल  को किक करने का जो रोमांच था वो  उस लड़की को देखने में भी नहीं था  जिस पर हमारा आवारा दिल आया हुआ था कई सालों बाद कई फिल्मों की  खुजली के बाद अपनी पहली फिल्म का पहला शॉट लेते हुए कुछ वैसा ही महसूस हुआ …वो एक टॉप शॉट था जहाँ से एक शहर भागता दौड़ता अपनी पूरी रवानी में दीखता था ….”कैमरा” और “एक्शन” बोलते हुए एक लडखडाहट थी और एक पल के लिए कुछ समझ नहीं आया की मैंने क्या शूट किया ….समझ में नहीं आता था की जिस भीडभाड को मैं रोज़ देखता हूँ वो आज अचानक अलग क्यों लग रहा ह…