Posts

Showing posts with the label प्रतिभा और प्रतिमा

दरअसल:प्रतिभा और प्रतिमा

हिंदी फिल्मों समेत पॉपुलर कल्चर के सभी क्षेत्रों में इन दिनों प्रतिमाओं की तूती बोल रही है। इन्हें आइकॉन कहा जा रहा है और उन पर केंद्रित रिपोर्ट, फीचर और समाचार लिखे जा रहे हैं। इस भेड़चाल में प्रतिभाएं कहीं पीछे रह गई हैं। उनकी किसी को चिंता नहीं है। सभी प्रतिमाओं के पीछे भाग रहे हैं। कहते हैं आज का बाजार इन्हीं प्रतिमाओं की वजह से चल रहा है।फिल्मों की बात करें, तो अभी ऐसी अनेक प्रतिमाएं मिल जाएंगी, जिनमें मौलिक प्रतिभा नहीं है। ऐसी प्रतिमाएं किसी न किसी तरह चर्चा में बनी रहती हैं। कहा और माना जाता है कि मीडिया और पीआर का पूरा तंत्र ऐसी प्रतिमाओं को पहले क्रिएट करता है और फिर उन्हें भुनाता है। किसी जमाने में पेपर टाइगर हुआ करते थे। इन दिनों पेपर आइकॉन हो गए हैं। इनका सारा प्रभाव कागजी होता है। कई ऐसे फिल्म स्टार हैं, जिन्हें हम दिन-रात देखते, सुनते और पढ़ते रहते हैं, लेकिन महीनों-सालों से उनकी कोई फिल्म नहीं आई है। कभी कोई आ भी गई, तो दर्शक उसे देखने नहीं गए। फिर आश्चर्य होता है कि क्या सचमुच पाठक ऐसे स्टार्सं के बारे में पढ़ना चाहते हैं या किसी प्रपंच के तहत वे अखबारों और टीवी के पर…