Posts

Showing posts with the label इरशाद कामिल

मदारी का गीत डम डमा डमडमडम

Image
आलोक धन्‍वा कहते हैं कि अगर हिंदी फिल्‍मों के गीतों को सुनने के साथ पढ़ा भी जाए तो उनके नए अर्थ निकलेंगे। मदारी का यह गीत पाठकों और दर्शकों से पढ़ने की मांग करता है। आप निजी भाष्‍य,व्‍याख्‍या और अभिप्रेत के लिए स्‍वतंत्र है। 
फिल्‍म - मदारी गीतकार - इरशाद कामिल निर्देशक - निशिकांत कामत कलाकार - इरफान खान




डमाडमाडमडमडमडमडम डमाडमाडमडमडमडमडम डमाडमाडमडमडमडमडमडू
टीवीपेयेख़बरभीआनी करकेजनहितमेंक़ुर्बानी गयेमंत्रीजंगलपानीरे…

डमाडमाडम डमडमडमडम डमाडमाडम डमडमडमडम डमाडमाडमडमडमडमडमडू...

इरशाद कामिल : विभाग के बदले बॉलीवुड जाने का मतलब

Image
चवन्‍न्‍ाी के पाठकों के लिए विनीत कुमार का विशेष आलेख। इसे रचना सिंह के संपादन में निकली दिल्‍ली विश्‍वविद्यालय की हस्‍तलिखित पत्रिका हस्‍ताक्षर से लिया गया है। 
-विनीत कुमार  “ये, येsssहो तुम, जिसकी लिखी चीजें छापने से संपादक मना कर दिया करते हैं. असल में तुम यही हो,वह इरशाद कामिल नहीं जिसकी तारीफ लोग करते हैं. मेरी पत्नी,पत्रिकाओं से अस्वीकृत रचनाएं खासकर पहल और उस पर ज्ञानरंजन की चिठ्ठियां दिखाते हुए अक्सर कहती है. ऐसा करके खास हो जाने के गुरुर में जीने से रोकती है. वो तो फिल्मफेयर और रेडियो मिर्ची से मिले अवार्ड से कहीं ज्यादा इन अस्वीकृत रचनाओं और न छापने के पीछे की वजह से लिखी ज्ञानरंजन और दूसरे संपादकों के खत ज्यादा संभालकर रखती है. उनका बस चले तो ड्राइंगरुम में अवार्ड की जगह इन्हें ही सजाकर रक्खे ताकि दुनिया जान सके कि असल में इरशाद कामिल है क्या और उसकी हैसियत क्या है?” तब इरशाद के गिलास का रंग बदला नहीं था. हम गिलास के आर-पार सबकुछ साफ देख पा रहे थे और साथ ही उन्हें भी. उत्साह और मुस्कराहट के साथ एक के बाद एक घटनाओं की चर्चा करते इरशाद. तो यही हैं इरशाद कामिल..मन सात संमदर डोल …