Posts

Showing posts with the label नेहा शर्मा

फिल्‍म समीक्षा : तुम बिन 2

Image
फिल्‍म रिव्‍यू  याद और फरियाद के बीच  तुम बिन 2  -अजय ब्रह्मात्‍मज  2001 : 15 साल पहले पिया ने अमर से प्रेम किया था। अमर एक दुर्घटना में मारा गया। पिया अकेली रह गई। शेखर उसका सहारा बना। इस बीच अभिज्ञान को पिया अच्‍छी लगती है,लेकिन पिया तो शेखर से प्‍यार करने लगी है। शेखर पिया की जिंदगी से निकल जाना चाहता है। पिया अभिज्ञान से सगाई कर लेती है। शेखर अपना प्रेम छिपा नहीं पाता। अमर के परिवार के लोग भी मानते हैं कि शेखर ने बहुत कुछ किया है उनके लिए। अभिज्ञान पिया को शेखर के पास भेज देता है।  2016 : इस बार तरन का प्रेम अमर से होता है। अमर एक दुर्घटना का शिकार होता है। उसका पता नहीं चलता। दुखी तरन की जिंदगी में शेखर आ जाता है। तरन फिर से खुश रहने लगती है। वह शेखर की मदद से अपने पांव पर खड़ी होती है। शेखर उसकी नयी जिंदगी का हिस्‍सा बन चुका है,लेकिन अमर की यादें कायम हैं। इस बीच किसी चमत्‍कार की तरह अमर वापस लौट आता है। अब तरन की मुश्किल होती है। वह दोनों को पसंद करती है। अमर उसका अतीत है। शेखर उसका वर्तमान है। उसे अपना भविष्‍य तय करना है।  पिया और तरन के व्‍यक्तित्‍व में पंद्रह सालों के अंतरा…

फिल्‍म समीक्षा : जयंता भाई की लव स्‍टोरी

Image
प्यार में भाईगिरी -अजय ब्रह्मात्‍मज हिंदी फिल्मों में गैंगस्टर और आम लड़की की प्रेम कहानी हम देखते रहे हैं। ऐसी फिल्मों में ज्यादातर लव स्टोरी का एंगल भर होता है, क्योंकि फिल्म का मुख्य उद्देश्य गैंगस्टर के आपराधिक जीवन के रोमांच पर रहता है। निर्देशक विनिल मार्कन नए रोमांच के साथ रोमांस के भी पर्याप्त दृश्य गढ़े हैं। मुंबई के उपनगर रिहाइशी इलाके में संयोग से आमने-सामने पड़ोसी की तरह रह रहे जयंता और सिमरन की लव स्टोरी अवश्रि्वसनीय होने के बावजूद रोचक लगती है। विवेक ओबेराय निस्संदेह योग्य और समर्थ अभिनेता हैं। निगेटिव इमेज की वजह से उनका काफी नुकसान हो चुका है। दर्शकों के बीच सी एक हिचक बनी हुई है। 'जयंताभाई की लव स्टोरी' देखते हुए विवेक ओबेराय की प्रतिभा की झलक मिलती है। रफ एवं रोमांटिक दोनों किस्म की भूमिकाओं में वे जंचते हैं। 'जयंताभाई की लव स्टोरी' में हम उन्हें स्पष्ट रूप से दो भूमिकाओं में देखते हैं। उन्होंने दोनों का ही सुंदर निर्वाह किया है। अगर सिमरन की भूमिका में कोई बेहतर अभिनेत्री रहती तो फिल्म अधिक प्रभावित करती। लेखक ने सिमरन के चरित्र पर मेह…

नेहा शर्मा

Image
पटना से अपनी फिल्म क्रुक का प्रचार कर के लौटी नेहा शर्मा को खुशी है कि उन्हें उनके गृह राज्य में लोगों ने इतना प्यार दिया। भागलपुर और दिल्ली में पली-बढ़ी नेहा शर्मा ने सोचा नहीं था कि वह फिल्मों में आएंगी। वह तो फैशन डिजायनिंग का कोर्स करने दिल्ली गई थीं। पढ़ाई के दौरान ही उन्हें तेलुगू फिल्म कुराडो मिल गई। चूंकि चिरंजीवी के बेटे राम चरण की भी वह पहली फिल्म थी, इसलिए अच्छा प्रचार मिला। अनायास मिले इस मौके का नेहा ने सदुपयोग किया और फिल्मों में कॅरियर बनाने का फैसला कर लिया। उत्तर भारत से दक्षिण भारत और फिर वहां से हिंदी फिल्मों में प्रवेश के रास्ते में कई बाधाएं आती हैं। नेहा इन सभी के लिए तैयार थीं। उन्हें पता चला कि विशेष फिल्म्स को अपनी नई फिल्म के लिए एक नयी हीरोइन की जरूरत है। उन्होंने कोशिश की। कोशिश कामयाब हुई, क्योंकि क्रुक के निर्देशक मोहित सूरी ने उनकी तेलुगू फिल्में देख रखी थीं। एक ऑडिशन हुआ और नेहा शर्मा को क्रुक में सुहानी की भूमिका के लिए चुन लिया गया। इसमें वह आस्ट्रेलिया में पली-बढ़ी एक लड़की का किरदार निभा रही हैं।भागलपुर जैसे स्माल टाउन से ग्लैमर की राजधानी मुंबई तक क…