Posts

Showing posts with the label ustad shujaat hussain khan

बेहोशी नशा खुश्‍बू क्‍या क्‍या न हमारी आंखों में

यह गीत आप 17 जून के बाद सुन सकते हैं। फिलहाल शायरी का मजा लें ...बेहोशी नशा खुश्‍बू क्‍या क्‍या न हमारी आंखों मेंउलझी हैं मेरी सांसें कुछ ऐसे तुम्‍हारी सांसों मेंमदहोशी का मंजर है कुछ मीठा गुलाबी साबिजली सी लपकती है छूने से तुम्‍हारी सांसों मेंरह रह के धड़कता है एहसास तुम्‍हारा यहभीगे है पसीने में ठंडी सी जलन है सांसों मेंफुरसत से ही उतरेगा आंखों से तुम्‍हारा सुरूरइस पल तो महकती है बस खुश्‍बू तुम्‍हारी सांसों मेंगीत-अमिताभ वर्मा संगीत-उस्‍ताद शुजात हुसैन खानमिस्‍टर सिंह मिसेज मेहता का एक गीत