मराठी माणुष और बिहारी बाला की प्रेमकहानी,संजय झा की फ़िल्म 'मुम्बई चकाचक'



संजय झा ने दो फिल्में निर्देशित कर ली हैं.'मुम्बई चकाचक' उनकी तीसरी फ़िल्म है.यह फ़िल्म आज की है और मुम्बई को एक अलग अंदाज में पेश करती है.भूल जाइये कि राज ठाकरे ने क्या बयान दिया और उसकी वजह से क्या बवाल हुआ?यह एक साफ प्रेम कहानी है,जिसका नायक एक मराठी माणुष है और नायिका बिहारी बाला है.क्या इस प्रेम पर राज ठाकरे को आपत्ति हो सकती है?हो...प्यार करनेवाले डरते नहीं,जो डरते हैं वो प्यार करते नहीं।

संजय झा ने इस प्रेमकहानी में मुम्बई के पर्यावरण की समस्या को भी जोड़ा है.इस अनोखी फ़िल्म में बीएमसी के कर्मचारी भी विभिन्न भूमिकाओं में नज़र आयेंगे.संजय झा ने फ़िल्म की मुख्य भूमिकाएं राहुल बोस,आयशा धारकर,विनय पाठक और मंदिरा बेदी को सौंपी हैं.नायक का नाम कोका है और नायिका बासमती है-इनके बीच गंगाजल बने विनय पाठक भी हैं।
यह फ़िल्म इस साल के उत्तरार्ध में रिलीज होगी.


Comments

wah kay likha hai aapne bahut aacha likhte hai
Anonymous said…
एक एसी कहानी जो पथर दिल को भि पिघ्ला देगी आप यहा से उस कहानी को पड सकते है www.kunnublog.blogspot.com
mamta said…
जब फ़िल्म रिलीज होगी तब पता चलेगा। क्या थीम ली है संजय झा ने मराठी मानुष और बिहारी बाला।
बहुत बढिया , बहुत सुंदर !

Popular posts from this blog

लोग मुझे भूल जायेंगे,बाबूजी को याद रखेंगे,क्योंकि उन्होंने साहित्य रचा है -अमिताभ बच्चन

फिल्‍म समीक्षा : एंग्री इंडियन गॉडेसेस

तो शुरू करें