फिल्‍म समीक्षा : बजाते रहो

Bajate Raho-अजय ब्रह्मात्‍मज
दिल्ली में ठग रहते हैं। 'दिल्ली का ठग' से लेकर 'बजाते रहो' तक में हम उन्हें अलग-अलग रूपों में हिंदी फिल्मों में देखते रहे हैं। 'बजाते रहो' का ठग सबरवाल एक बैंक का मालिक है। वह चंद सालों में रकम बढ़ाने का झांसा देकर 15 करोड़ रुपए जमा करता है। देनदारी के समय रकम नहीं लौटा पाने की स्थिति में वह साफ मुकर जाता है। गाज एक कर्मचारी पर गिरती है। वे इस बेइज्जती को बर्दाश्त नहीं कर पाते। फिल्म की कहानी यहीं से शुरू होती है।
सबरवाल काइयां, शातिर और मृदुभाषी ठग है। फ्रॉड और झांसे के दम पर उसने अपना बिजनेस फैला रखा है। कर्मचारी का परिवार मुसीबत में आने के बाद अनोखे किस्म से बदला लेता है। परिवार के सभी सदस्य मिल कर सबरवाल को चूना लगाने की युक्ति में जुट जाते हैं। वे अपनी तिकड़मों से इसमें सफल भी होते हैं।
'बजाते रहो' मजेदार कंसेप्ट की फिल्म है, लेकिन लेखक-निर्देशक ने इस कंसेप्ट को अधिक गहराई से नहीं चित्रित किया है। उनके पास समर्थ कलाकारों की अच्छी टीम थी। फिर भी आधे-अधूरे का एहसास बना रह जाता है। किरदारों की विस्तार नहीं दिया गया है, इसलिए वे निखर और उभर नहीं पाए हैं। फिल्म का फील दिल्ली का है। भाषा, लहजा, बात व्यवहार और प्रतिक्रियाओं में 'बजाते रहो' दिल्ली की फिल्म लगती है। यह इसकी खूबी है।
कलाकारों में रवि किशन के इस अंदाज में देखना अच्छा लगता है। ऊपर से सभ्य-सुशील और अंदर से शातिर-शैतान व्यक्ति को उन्होंने अच्छी तरह पर्दे पर उतारा है। इस फिल्म की नायिका डॉली आहलूवालिया हैं। अदायगी की उनकी छटा देखते ही बनती है। अन्य कलाकारों में रणवीर शौरी, विनय पाठक, विशाखा सिंह उल्लेखनीय हैं। बृजेन्द्र काला और राजेन्दर सेठी को हम दिल्ली के किरदारों में लगातार देख रहे हैं। वे सक्षम हैं, लेकिन उन्हें अब अलग मिजाज और मेल के किरदार भी मिलने चाहिए।
'बजाते रहो' उम्दा कंसेप्ट पर बनी एक औसत फिल्म है। फिर भी विषय और अप्रोच की नवीनता से एंटरटेन करती है। कलाकारों ने स्क्रिप्ट की सीमाओं मे भी उम्दा प्रदर्शन किया है।
अवधि-107 मिनट
*** तीन स्‍टार

Comments

Popular posts from this blog

लोग मुझे भूल जायेंगे,बाबूजी को याद रखेंगे,क्योंकि उन्होंने साहित्य रचा है -अमिताभ बच्चन

फिल्‍म समीक्षा : एंग्री इंडियन गॉडेसेस

Gr8 Marketing turns Worst Movies into HITs-goutam mishra