क्या दबाव में है शाहरुख

क्या दबाव में है शाहरुख-अजय ब्रह्मात्‍मज

पिछले हफ्ते सोमवार को शाहरुख खान ने अपनी फिल्म रा. वन के म्यूजिक लॉन्च का बड़ा आयोजन किया। इन दिनों म्यूजिक लॉन्च और रिलीज के कार्यक्रम ज्यादातर होटलों और थिएटरों में होते हैं। फिल्म के प्रमुख कलाकारों को बुलाया जाता है। गीतकार-संगीतकार और निर्माता-निर्देशक रहते हैं। किसी सम्माननीय या लोकप्रिय फिल्मी हस्ती के हाथों म्यूजिक रिलीज कर सभी के साथ तस्वीरें खींच ली जाती हैं। बड़े औपचारिक किस्म के दो-चार सवाल होते हैं। इस प्रकार म्यूजिक लॉन्च की इतिश्री हो जाती है। अमूमन फिल्म रिलीज होने के महीने भर पहले यह आयोजन किया जाता है। डिजिटल युग में अब संगीत के लीक होने या इंटरनेट पर आने में वक्त नहीं लगता, फिर भी म्यूजिक लॉन्च की औपचारिकता का अपना महत्व है।

इस महत्व को शाहरुख ने मूल्यवान बना दिया। उन्होंने एक मनोरंजन चैनल को अधिकार दिए कि वह पूरे इवेंट की अच्छी पैकेजिंग कर एक एंटरटेनमेंट शो बना ले। पिछले रविवार को इस इवेंट का प्रसारण भी हो गया, जिसे देश के करोड़ों दर्शकों ने एक साथ देखा। शाहरुख खान ने अपनी नई पहल और मार्केटिंग से साबित कर दिया कि वह थिएटरों से अनुपस्थित होने के बावजूद किसी से पीछे नहीं हैं। उन्होंने संकेत दिया है कि वे रा. वन के प्रचार के लिए किस हद तक जा सकते हैं। वे नई रणनीतियों से प्रचार की गतिविधियों से भी पैसे कमाने में सफल रहेंगे। अभी तक प्रोडक्शन कंपनियां स्पॉन्सरशिप से प्रचार की लागत या व्यय को कम करती रही हैं। उम्मीद है कि आनेवाले समय में म्यूजिक लॉन्च या फ‌र्स्ट लुक लॉन्च भी एक कॉमर्शियल इवेंट के रूप में विकसित हो। इसकी शुरुआत हो चुकी है।

कहा जा रहा है कि शाहरुख खान पर भारी दबाव है। वे खुद को किंग खान कहते हैं। मतलब कि एंटरटेनमेंट इंडस्ट्री यानी खास कर हिंदी फिल्म इंडस्ट्री के वे राजा हैं। राजा होने का सीधा मतलब है कि दर्शकों के दिलों पर उनकी हुकूमत चलती है। हम सभी जानते हैं कि पॉपुलर कल्चर की किसी भी इंडस्ट्री में लोकप्रियता स्थायी नहीं होती। जो दिखता और बिकता है, वही लोकप्रिय माना जाता है। उलट कर कहें तो जो लोकप्रिय होता है, वही दिखता और बिकता है। इस पृष्ठभूमि पर ध्यान दें, तो हाल फिलहाल में शाहरुख की कोई फिल्म नहीं आई है, जबकि इस बीच सलमान खान और अजय देवगन की फिल्मों ने अच्छा बिजनेस किया है। शाहरुख के घनघोर प्रतियोगी आमिर खान ने 3 इडियट्स से एक रिकॉर्ड बना कर छोड़ दिया है। अभी तो रितिक रोशन की फिल्म जिंदगी ना मिलेगी दोबारा भी लगभग 100 करोड़ की कमाई के करीब पहुंच चुकी है। शाहरुख खान के लिए जरूरी हो गया है कि उनकी फिल्म को अच्छी ओपनिंग मिले और वह भी 100 करोड़ का कारोबार करे।

आमिर खान, सलमान खान, और अजय देवगन की फिल्मों ने 100 करोड़ के कलेक्शन का आंकड़ा पार कर सचमुच शाहरुख पर दबाव बढ़ा दिया है। बॉक्स ऑफिस की कामयाबी ही उनकी कुर्सी को स्थिर रखेगी। जरूरी है कि शाहरुख की रा. वन देखने के लिए दर्शकों को थिएटर में लाने की हर युक्ति भिड़ाएं और जुगाड़ करें। उनकी फिल्म दीवाली पर रिलीज हो रही है। पारंपरिक तौर पर दीवाली पर रिलीज होने वाली फिल्मों को दर्शक मिलते हैं। खबर है कि शाहरुख भी अपनी फिल्म बुधवार को रिलीज कर पांच दिनों का वीकएंड का फायदा उठाएंगे। अभी बता पाना संभव नहीं है कि वे प्रचार का कौन सा तरीका अपनाएंगे, फिर भी इसमें शक नहीं है कि आगे रहने के लिए कुछ नया और चामत्कारिक प्रयोग करेंगे।

वैसे म्यूजिक लॉन्च के मौके पर 100 करोड़ की कमाई का सवाल पूछने पर शाहरुख खान ने खुले दिन से कहा कि फिल्में दर्शकों के दिलों को टच करने से चलती हैं। उनकी फिल्म रा. वन बाप-बेटे की भावनात्मक कहानी है, जिसमें सुपरहीरो का एंगल है। फिल्म के प्रचार, गानों और दृश्यों को देखने से लग रहा है कि यह सुपरहीरो और हिंदी फिल्मों के हीरो का तालमेल है। साइंस फिक्शन होने के साथ ही इसमें मेलोड्रामा भी है। पूरी कोशिश है कि फिल्म यूथ के साथ ही ट्रैडिशनल दर्शकों को भी संतुष्ट करे।

सितंबर में प्रकाशित

Comments

Popular posts from this blog

लोग मुझे भूल जायेंगे,बाबूजी को याद रखेंगे,क्योंकि उन्होंने साहित्य रचा है -अमिताभ बच्चन

फिल्‍म समीक्षा : एंग्री इंडियन गॉडेसेस

तो शुरू करें