Posts

बी आर चोपड़ा का सफ़र -भाग तीन...प्रकाश रे

प्रकाश रे बी आर चोपड़ा पर एक सिरीज लिख रहे हैं... भाग-3 अफ़साना की शूटिंग के शुरुआती कुछ दिनों में ही अशोक कुमार को बी आर चोपड़ा के अनुभवहीन होने का भान हो गया था और उन्होंने चोपड़ा से कुछ बुनियादी पहलुओं पर चर्चा भी की थी. चोपड़ा अशोक कुमार जैसे वरिष्ठ कलाकार के ऐसे सहयोगपूर्ण रवैये से अचंभित थे जबकि कुछ ही समय पहले उन्होंने फ़िल्म की कहानी तक सुनने से इंकार कर दिया था. उन्होंने चोपड़ा को सलाह दी कि वह उनकी अन्य फ़िल्म संग्राम की शूटिंग को देखें. संग्राम उन्हीं दिनों ज्ञान मुख़र्जी के निर्देशन में बन रही थी जिसमें अशोक कुमार की केंद्रीय भूमिका थी. चोपड़ा ने उनकी सलाह मानी और उनसे भी सीखने से गुरेज़ नहीं किया. अशोक कुमार भी उनके शीघ्र सीखने-समझने की क्षमता से प्रभावित थे और कई सालों बाद भी उन दिनों को याद किया करते थे. उल्लेखनीय है कि अफ़साना के बाद चोपड़ा की अधिकांश फ़िल्मों में अशोक कुमार ने काम किया. लेकिन चोपडा़ को अपने ऊपर भी भरोसा कम न था. इसका अंदाजा अफ़साना की शूटिंग के दौरान हुई एक घटना से लगाया जा सकता है. उस दिन चोपड़ा ने सेट पर कुछ वितरकों और पत्रकारों को आमंत्रित किय

फिल्‍म समीक्षा उड़ान

-अजय ब्रह्मात्‍मज बहुत मुश्किल है छोटी और सीधी बात को प्रभावशाली तरीके से कह पाना। खास कर फिल्म माध्यम में इन दिनों मनोरंजन और ड्रामा पर इतना ज्यादा जोर दिया जा रहा है कि दर्शक को भी फास्ट पेस की ड्रामैटिक फिल्में ही अधिक पसंद आती हैं। फिर भी लेखक और निर्देशक का विश्वास हो और उन्हें कलाकारों की मदद मिल जाए तो यह मुश्किल काम आसान हो सकता है। उड़ान की यही उपलब्धि है कि वह पिता-पुत्र संबंध और पीढि़यों के अंतराल को सहज एवं हृदयस्पर्शी तरीके से कहती है। उड़ान अनुराग कश्यप और विक्रमादित्य मोटवाणी के सृजनात्मक सहयोग का सुंदर परिणाम है। शिमला के एक स्कूल के कुछ दृश्यों के बाद फिल्म सीधे झारखंड के जमशेदपुर पहुंच जाती है। वहां हम भैरव सिंह के परिवार में फिल्म के किशोर नायक रोहन के साथ आते हैं। रोहन और उसके तीन साथियों को पोर्न फिल्म देखने के अपराध में स्कूल से निकाला जा चुका है। पिता भैरव सिंह की उम्मीदें बिखर चुकी हैं। वे चाहते हैं कि रोहन इंजीनियरिंग की पढ़ाई पूरी कर उनकी फैक्ट्री में हाथ बंटाए। उधर रोहन लेखक बनना चाहता है। वह कविता और कहानियां लिखना चाहता है। बेमन से की ग

बी आर चोपड़ा का सफ़र -भाग दो...प्रकाश रे

प्रकाश रे बी आर चोपड़ा पर एक सिरीज लिख रहे हैं... भाग-2 हिन्दुस्तानी सिनेमा आज़ादी के समय तक देश का सबसे प्रभावी और वैविध्यपूर्ण कला-रूप बन चुका था और वह विभिन्न छोटी-बड़ी कलाओं की ख़ूबियों, विज्ञान और तकनीक के तर्कों तथा मानवीय कल्पना-शक्ति को बखूबी जोड़ रहा था. सत्यजित रे ने 1948 में इस तथ्य को रेखांकित किया था. अगले दस सालों में बम्बईया सिनेमा की यह कलात्मक यात्रा अपने चरमोत्कर्ष पर पहुँचनेवाली थी और यह काल-खंड हिन्दुस्तानी सिनेमा के 'स्वर्ण-युग' के नाम से इतिहास में दर्ज़ होनेवाला था. करवट की असफलता के बाद एक बार फिर बी आर चोपड़ा ने फिल्मी-दुनिया में एक सम्भावना की तलाश शुरू की. इसी क्रम में वह थापर मिल्स के मालिकों के संपर्क में आए जो फिल्मों में पैसा लगाना चाहते थे. उन्होंने चोपड़ा को एक निश्चित वेतन और फ़िल्म के लिये धन का ऑफ़र दिया. इससे चोपड़ा का उत्साहवर्द्धन भी हुआ और बंबई में टिकने का जुगाड़ भी मिल गया. इसी दौरान आई एस जौहर जैसे लाहौर के कुछ मित्रों के साथ सहयोग से उन्होंने एक फ़िल्म बनाने की योजना बनाई. फ़िल्म की कहानी जौहर की थी जिसे चोपड़ा ने तुरंत पांच सौ रुप

दरअसल :घनघोर प्रचार के बावजूद

-अजय ब्रह्मात्‍मज फिल्म रामगोपाल वर्मा की आग के फ्लॉप होने की पुष्टि के बाद भी राम गोपाल वर्मा यह मानने को तैयार नहीं थे कि दर्शकों को उनकी फिल्म बुरी लगी। उनका तर्क था कि अच्छी या बुरी लगने का सवाल तो फिल्म देखने के बाद आता है। मेरी फिल्म दर्शकों ने देखी ही नहीं, तो फिर उसे बुरी कैसे कहा जा सकता है? अपनी फिल्म के प्रति लगाव की वजह से ज्यादातर फिल्मकार ऐसे ही तर्क देते हैं। फिर भी सच है कि कुछ फिल्में रिलीज के पहले ही दर्शक खो देती हैं। उन्हें देखने दर्शक सिनेमाघरों में नहीं जाते। उनका मौखिक प्रचार नहीं होता। सिनेमाघरों से आरंभिक शो देख कर निकले दर्शकों की प्रतिक्रियाएं और पत्र-पत्रिकाओं में आए रिव्यू भी ऐसी फिल्में नहीं देखने के लिए दर्शकों को प्रेरित करते हैं। पिछले महीने में आई दो बड़ी फिल्मों काइट्स और रावण के प्रति दर्शकों के रवैये से इसे समझा जा सकता है। दोनों ही फिल्में स्टार कास्ट, डायरेक्टर और प्रोडक्शन हाउस की वजह से ए प्लस श्रेणी की थीं। दोनों फिल्मों का जमकर प्रचार किया गया। दर्शकों को लुभाने की हर कोशिश की गई। तमाम प्रचार के बावजूद काइट्स को आरंभिक शो में पर्याप्त दर्शक न

अंधेरे में सूरज की तरह सेल्युलाइड का जादू...

Image
♦ निधि सक्सेना एक उस्ताद बड़े जलसे से गा कर लौटे। जो पूछा गया – कहिए, कैसा कार्यक्रम रहा, तो मन और मुंह, दोनों मसोस के कहते हैं, ‘प्रोग्राम तो अच्छा था, लेकिन सब गलत जगह पे दाद देते हैं… जो कोई बात ही नहीं, उस पर वाह-वाह हो रही है और जहां दिल-ओ-जान निकाल के रख दिया, वहां कुछ नहीं, बस सब चुप चिपकाये बैठे हैं।’ और ऐसा भी होता है न कभी-कभी कि कुछ खूब अच्छा लग रहा है, दिल भरा जा रहा है, लेकिन जो कोई पूछ ले कि इसमें अच्छा क्या लगा, तो झूमता दिल घनचक्कर हो जाता है। दिमाग चारों खाने चित्त हो जाता है। अब कुछ है तो, जो असर कर रहा है, लेकिन हम कहां से ढूंढ लाएं… क्या बताएं कि वो ठीक-ठीक क्या है! सो आनन-फानन में बगलें झांकते-से, जवाब देकर जल्दी से मामला रफा-दफा करते। फिल्मों के मामले में जो हीरो ने हंसाया तो हंस दिये। हिरोइन और मां (फिल्मी मां बड़ी कमाल की लगती हैं मुझे) ने रुलाया, तो रो दिये वाला मामला… और जो डायलॉग जबान पे लग जाए और चढ़ा-चढ़ा घर तक आ जाए, वो फिल्म अच्छी! जैसे मैं अक्सर कुछ डायलॉग बोलती हूं – तुझे चने चाहिए या मां? बकौल मदर इंडिया। तसल्लीबख्श जवाब की तलाश जो फिल्म या हंसा दे,

बी आर चोपड़ा-प्रकाश रे

प्रकाश रे बी आर चोपड़ा पर एक सिरीज लिख रहे हैं। बम्बईया सिनेमा को देश के सांस्कृतिक जीवन में महत्वपूर्ण स्थान दिलाने और उसे जटिल उद्योग के रूप में विकसित करने वाले फ़िल्मकारों में बी आर चोपड़ा का स्थान अन्यतम है. आज़ादी के बाद के हिन्दुस्तानी सिनेमा का इतिहास इस फ़िल्मकार के बिना नहीं लिखा जा सकता. सिनेमा में सात दशकों तक सक्रिय रहनेवाले बलदेव राज चोपड़ा का जन्म पंजाब के जालंधर में 20 अप्रैल 1914 को हुआ था. लाहौर विश्वविद्यालय से अंग्रेजी साहित्य में स्नातकोत्तर करने के बाद वे पत्रकारिता से जुड़ गए और वेराईटीज़ (दिल्ली), मूवीज़ (कलकत्ता), सिने एडवांस (कराची) जैसी फ़िल्म पत्रिकाओं में लेख लिखने लगे. 1937 में उन्होंने लाहौर से निकलने वाली मासिक पत्रिका सिने हेराल्ड के सम्पादन का काम संभाला और 1947 में लाहौर छोड़ने तक उसके संपादक रहे. इसी दौरान श्री चोपड़ा की लिखी कई लघु कथाएँ भी प्रकाशित हुईं. पत्रकारिता के साथ वे लाहौर के फ़िल्म उद्योग से भी जुड़े हुए थे. फ़िल्म-निर्माण में सक्रिय पंचोली समूह के साथ काम करने के अलावा उन्होंने पंजाबी फ़िल्म कम्पनी नॉर्दर्न इन्डियन फ़िल्म के प्रचार अधिका

फिल्‍म समीक्षा आई हेट लव स्‍टोरीज

बालिवुद का रोमांस -अजय ब्रह्मात्‍मज चौंकिए नहीं, जब करण जौहर और उनके कैंप के डायरेक्टर हिंदी फिल्मों के बारे में अंग्रेजी में सोचना शुरू करते हैं और फिर उसे फायनली हिंदी में लाते हैं तो बालीवुड के अक्षर बदल कर बालिवुद हो जाते हैं। इस फिल्म के एक किरदार के टी शर्ट पर बालिवुद लिखा साफ दिखता है। बहरहाल, आई हेट लव स्टोरीज मेनस्ट्रीम हिंदी सिनेमा के लव और रोमांस की कैंडीलास फिल्मों के मजाक से आरंभ होती है और फिर उसी ढर्रे पर चली जाती है। जैसे कि कोई बीसियों बार सुने-सुनाए लतीफे को यह कहते हुए सुनाए कि आप तो पहले सुन चुके होंगे, फिर भी..और हम-आप हो..हो..कर हंसने लगें। वैसे ही यह फिल्म अच्छी लग सकती है। पुनीत मल्होत्रा चालाक निर्देशक हैं। उन्होंने हिंदी फिल्मों की लव स्टोरी का मखौल उड़ाते हुए फिर से घिसी-पिटी लव स्टोरी बना दी है। इस आसान रास्ते के बावजूद फिल्म बांधे रखती है, क्योंकि सोनम कपूर और इमरान खान के लब एडवेंचर का आकर्षण बना रहता है। दोनों को पहली बार एक साथ नोंक-झोंक करते और एक-दूसरे पर न्योछावर होते देख कर अच्छा लगता है। दोनों में भरपूर एनर्जी है। लेखक-निर्देशक ने हीरो-ह

डायरेक्टर न होता तो जर्नलिस्ट होता: मधुर भंडारकर

Image
-अजय ब्रह्मात्मज पहली बार चांदनी बार से ख्याति अर्जित की निर्देशक मधुर भंडारकर ने। इसके पहले बतौर निर्देशक उनकी एक फिल्म आई थी, जिसने निराश किया था। चांदनी बार भी मुश्किल से पूरी हुई। फैंटेसी एवं रिअलिटी के तत्वों को जोडकर सिनेमा की नई भाषा गढी है मधुर ने। उनकी फिल्में सीमित बजट में संवेदनशील तरीके से मुद्दे को उठाती हैं। इन दिनों वे कॉमेडी फिल्म दिल तो बच्चा है जी की तैयारियों में लगे हैं। कब खयाल आया कि फिल्म डायरेक्ट करनी है? बचपन में गणपति महोत्सव, सत्यनारायण पूजा, जन्माष्टमी जैसे त्योहारों पर सडक घेर कर 16 एमएम प्रोजेक्टर से दिखाई जाने वाली ब्लैक-व्हाइट और कलर्ड फिल्में देखता था। किसी से कह नहीं पाता था कि डायरेक्टर बनना है। मेरे दोस्त हीरो, विलेन या कॉमेडियन की बातें करते थे, मैं टेकनीक के बारे में सोचता था। शॉट आगे-पीछे या ऊपर-नीचे हो तो चौंकता था कि इसे कैसे किया होगा? ट्रॉली और क्रेन के बारे में नहीं जानता था। तभी समझ में आ गया था कि वी. शांताराम, विजय आनंद और राज खोसला की फिल्में अलग होती हैं। फिर.. मैंने विडियो कैसेट का बिजनेस शुरू किया जो पांच साल से ज्यादा चला। मेरे पास 1

दरअसल: किताब के रूप में 3 इडियट्स की मूल पटकथा

-अजय ब्रह्मात्‍मज विधु विनोद चोपड़ा ने एक और बढि़या काम किया। उन्होंने 3 इडियट्स की मूल पटकथा को किताब के रूप में प्रकाशित किया है। मूल पटकथा के साथ फिल्म के लेखक और स्टारों की सोच और बातें भी हैं। अगर कोई दर्शक, फिल्मप्रेमी, फिल्म शोधार्थी 3 इडियट्स के बारे में गहन अध्ययन करना चाहता है, तो उसे इस किताब से निश्चित रूप से मदद मिलेगी। 20-25 साल पहले हिंद पॉकेट बुक्स ने गुलजार और राजेन्द्र सिंह बेदी की लिखी पटकथाओं को किताबों के रूप में छापा था। उसके बाद पटकथाएं छपनी बंद हो गई। पाठक और दर्शकों को लग सकता है कि प्रकाशकों की पटकथाओं में रुचि खत्म हो गई होगी। सच्चाई यह है कि एक लंबा दौर ऐसी हिंदी फिल्मों का रहा है, जहां कथा-पटकथा जैसी चीजें होती ही नहीं थीं। यकीन करें, हिंदी फिल्मों में फिर से कहानी लौटी है। पटकथाएं लिखी जा रही हैं। उन्हें मुकम्मल करने के बाद ही फिल्म की शूटिंग आरंभ होती है। इधर हिंदी सिनेमा पर चल रहे शोध और अध्ययन का विस्तार हुआ है। लंबे समय तक केवल अंग्रेजीदां लेखक और पश्चिम के सौंदर्यशास्त्री और लोकप्रिय संस्कृति के अध्येता ही हिंदी फिल्मों पर शोध कर रहे थे। उनकी छिटपुट क

नग्नता, नंगापन और मिस्टर सिंह मिसेज मेहता - प्रवेश भारद्वाज

Image
बचपन से ही रुपहले परदे पर थिरकते बिम्ब मुझे आकर्षित करते थे. लखनऊ, इलाहाबाद, शाहजहांपुर, उन्नाव और बरेली में बड़े होते हुये फिल्मों को देखने का सिलसिला लगातर परवान चढ़ता गया. मेरे पिताजी सरकारी नौकरी में थे और उनको भी फ़िल्मों का खूब शौक था. वे फ़िल्म देखने के लिये हम भाई-बहनों को भी साथ ले जाते थे. मैं आज भी सोचता हूं तो लगता है कि बहुत कम लोग अपने बच्चों को फ़िल्म दिखाने के मामले में इतने आज़ाद ख्याल होंगे. स्कूल के दूसरे बच्चे मेरी प्रतीक्षा करते थे कि मैं कब उन्हें अपनी देखी ताज़ा फ़िल्म की कहानियां सुनाउं. मुझे लगता है कि सहपाठियों को फ़िल्म की कहानी सुनाने के इसी शौक ने मेरे अंदर कहीं न कहीं दर्शक होने के अतिरिक्त भी फ़िल्मों से जुड़ने के बीज डाले. 1992 में मैं मुंबई पहुंचा और यहां मैंने धीरे-धीरे काम सिखा. श्याम बेनेगल की फ़िल्म ‘सूरज का सातवां घोड़ा’ में मुझे सहायक के रुप में इंट्री मिली. सोनी पर आने वाले धारावाहिक ‘शाहीन’ में मैंने पहली बार बतौर निर्देशक काम किया. मैं और मेरी पत्नी श्रुति बहुत मेहनत और गंभीरता से इसे लिखते थे लेकिन एक दिन मुझे अपने ही धारावाहिक से निकाल दिया