हंसल मेहता के निर्देशन में गे प्रोफेसर की भूमिका निभाएंगे मनोज बाजपेयी

अजय ब्रह्मात्मज
 हंसल मेहता और मनोज बाजपेयी की दोस्ती बहुत पुरानी है। बीच में कुछ ऐसा संयोग बना कि दोनों ने साथ काम नहीं किया। इस बीच दोनों अपने-अपने तरीके से संघर्ष करने के साथ उपलब्धियां भी हासिल करते रहे। दोनों ने 'दिल पे मत ले यार' में एक साथ काम किया था। 14 सालों के बाद वे फिर से एक फिल्म करने जा रहे हैं। मनोज बताते हैं, 'मुंबई में हंसल पहले व्यक्ति थे, जिनसे मैं काम मांगने गाया था। 'सत्या' के सफल होने पर मुझे पहचान मिली तो हम दोनों ने साथ काम करने का फैसला किया। तब 'दिल पे मत ले यार' की योजना बनी। इस फिल्म में मेरे साथ तब्बू भी थीं। फिल्म नहीं चली। हम दोनों कुछ नया करने की साच में रहे। एक दौर ऐसा भी आया कि हमारे बीच मनमुटाव हुआ और हम दोनों अलग हो गए। हमारी बातचीत भी बंद हो गई। हंसल अलग मिजाज की फिल्में बनाने लगे। मुझे खुशी है कि 'शाहिद' से वे अपनी जमीन पर लौटे हैं। हमारे संबंध फिर से कायम हुए और उन्होंने अपनी नई फिल्म का प्रस्ताव मेरे सामने रखा। इस फिल्म में मुझे अपना रोल चुनौतीपूर्ण लगा, इसलिए मैंने हां कर दी।'


हंसल मेहता की नई फिल्म का अभी कोई नाम नहीं रखा गया है। यह एक गे प्रोफेसर की कहानी है। जिसे किसी वजह से सस्पेंड कर दिया जाता है। गे होने के कारण रिटायरमेंट से पहले उसकी मुश्किलें बढ़ीं। उस प्रोफेसर के संघर्ष के सभी पहलुओं का फिल्म में चित्रण है। उस प्रोफेसर का सच जानने के लिए एक रिपोर्टर उसके पीछे लग जाता है। इस अनाम फिल्म में मनोज बाजपेयी गे प्रोफेसर की भूमिका निभा रहे हैं और रिपोर्ट बन रहे हैं राजकुमार राव। अपनी अगली फिल्म को लेकर उत्साहित हंसल मेहता बताते हैं,'मनोज बाजपेयी मेरी पहली फिल्म के हीरो थे। राजकुमार राव मेरी दूसरी पारी की पहली फिल्म के अभिनेता रहे। इस बार मैं उन दोनों के साथ काम कर रहा हूं। मुझे इससे बेहतर मौका क्या मिलेगा? सालों बाद फिल्म के सिलसिले में मनोज से मुलाकातें हुईं। उनमें वही उत्साह है। वे अपने किरदार को लेकर पूरी तैयारी कर चुके है। वे तो इतने उतावले हैं कि जल्दी से जल्दी कैमरे के आगे आना चाहते हैं। मुझे अतिरिक्त तैयारी करनी है। पहली बार मैं आउटडोर जा रहा हूं। मेरी फिल्म की पूरी शूटिंग बाहर ही होगी। दोनों स्टारों को संभालना भी है।'


मनोज बाजपेयी इस फिल्म के नए किरदार को लेकर उत्साहित हैं। वे कहते हैं,'मैंने हमेशा नए किरदारों को ज्यादा तरजीह दी है। पहली बार पर्दे पर गे कैरेक्टर निभाने जा रहा हूं। मेरी पिछली फिल्म 'तेवर' को ही देख लें। उस फिल्म का विलेन एक लवर ब्वॉय है। मैं अपने किरदारों के हर इमोशन को टच करता हूं। निगेटिव किरदारों की इंसानी फितरत पर गौर करता हूं। एक्टर होने के नाते यह हमारा फर्ज बनता है कि हम अपने चरित्रों को किसी कोष्ठक में नहीं डालें। अभी हंसल ने नई चुनौती दी है। मैं तैयार हूं।'
पश्चिमी उत्तरप्रदेश के एक शहर में हंसल मेहता इस फिल्म की शूटिंग करेंगे। आउटडोर शूटिंग में स्टार से मिलने और देखने के लिए उमड़ी भीड़ को संभालना बड़ी जिम्मेदारी होती है। हंसल मेहता कहते हैं,'मैं इस जिम्मेदारी से वाकिफ हूं। उम्मीद है किसी खलल के बिना मेरी फिल्म की शूटिंग पूरी हो जाएगी। मैं फिलहाल नर्वस महसूस कर रहा हूं।'

Comments

Popular posts from this blog

लोग मुझे भूल जायेंगे,बाबूजी को याद रखेंगे,क्योंकि उन्होंने साहित्य रचा है -अमिताभ बच्चन

फिल्‍म समीक्षा : एंग्री इंडियन गॉडेसेस

Gr8 Marketing turns Worst Movies into HITs-goutam mishra