शाह रुख खान और आनंद एल राय की जोड़ी का कमाल




-अजय ब्रह्मात्‍मज 

कल यानी 1 जनवरी 2018 दिन सोमवार को शाम पांच बजे शाह रुख खान और आनंद एल राय अपनी निर्माणाधीन अनाम फिल्‍म के नाम की घोषणा करेंगे। यह भी संकेत मिला है कि वे फिल्‍म की झलकी भी दिखाएंगे।


इस अनाम फिल्‍म की घोषणा के बाद से ही दर्शकों के बीच नाम की जिज्ञासा है। चूंकि फिल्‍म का हीरो मेरठ का बौना है,इसलिए सभी मान रहे हैं कि फिल्‍म का नाम ड्वार्फ भी हो सकता है। इन दिनों अंग्रेजी नाम रखने का चलन है। लोगों का मानना निराधार नहीं है। फिल्‍म की योजना और आरंभिक निर्माण के दौरान आनंद एल राय ने हमेशा यही कहा कि नाम तो रख लेंगे...पहले हम अपने विषय और भावनाओं को सलझा लें। कहानी पक्‍की कर लें। कुछ लोग पहले शीर्षक लिख कर कहानी आरंभ करते हैं। वे अपनी कहानी की संभावनाओं और उड़ान से वाकिफ होते हैं। मैा खुद अपने लेखों के शीर्षक पहले नहीं लिख पाता। लेख लिखने के बाद शीर्षक लिखता हूं। रिव्‍यू लिखने के बाद स्‍टार जड़ता हूं। मैंने साथी समीक्षकों को देखा है कि वे फिल्‍म के प्रीव्‍यू से निकलते ही स्‍टार बताने लगते हैं। सभी की अपनी सोच और अपना तरीका।

बहरहाल,हम बात कर रहे थे शाह रुख खान और आनंद एल राय की अनाम फिल्‍म की। इसके नाम की घोषणा के साथ झलकी भी दिखेगी। कल ठीक पांच बजे। अभी इवेंट और मीडिया मेल-मिलाप का झेझट ही खत्‍म्‍। ट्वीटर इतना जबरदस्‍त प्‍लेटफार्म हो गया है। अकेले शाह रुख खान के 3 करोड़ 21 लाख फालोअर्स हैं। कोई भी खबर जंगल की आग की रु्तार से फैल जाएगी। और उसके बाद सभी मीडिया प्‍लेटफार्म और पत्रकार एक-दूसरे को पछाड़ते हुए उसे शेयर करेंगे। मैं भी करूंगा। आप देखना और रीट्वीट करना न भूलना।

यह फिल्‍म कितनी प्रतीक्षित है? इसका अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि इसके नाम का बेसब्री से इंतजार हो रहा है। फिल्‍म के विषय के बारे में अभी तक कोई जानकरी नहीं मिली है। इस बार शाह रुख खान की फिल्‍म के बारे में आमिर खान वाली सीक्रेसी बरती जा रही है। यह अच्‍छी बात है। अभी पहले का दौर नहीं है कि पूरी कहानी बता दो तब भी दर्शक पूरे उत्‍साह से सिनेमा देखने आते थे। वैसे यह सीक्रेसी पहले शो तक की ही रहती है। उसके बाद पूरा देश जान जाता है।

आप कुछ अनुमान लगा सकते हैं क्‍या? बताएं फिल्‍म में क्‍या है? आप कितने उत्‍सुक हैं?

हम अभी इतना ही बता सकते हैं कि यह दो विशेष व्‍यक्तियों की प्रेमकहानी है,जिसे दो विशेष पूरे प्रेम और मनोयोग से बना रहे हैं।





Comments

Popular posts from this blog

लोग मुझे भूल जायेंगे,बाबूजी को याद रखेंगे,क्योंकि उन्होंने साहित्य रचा है -अमिताभ बच्चन

खुद के प्रति सहज हो गई हूं-दीपिका पादुकोण