सिनेजीवन : एक कांच की दीवार है रणबीर कपूर और ऋषि कपूर के बीच, जो टूटती ही नहीं


सिनेजीवन
एक कांच की दीवार है रणबीर कपूर और ऋषि कपूर के बीच, जो टूटती ही नहीं 


 -अजय ब्रह्मात्मज

राजकुमार हिरानी निर्देशिनसंजू’ 29 जून को रिलीज होगी। फिल्म के प्रति दर्शकों की जिज्ञासा बढ़ाने के हर यत्न हो रहे हैं। इसी के तहत संजू की भूमिका निभ रहे रणबीर कपूर रविवार की दोपहर 12 बजे ट्विटर पर पहली बार लाइव बातचीत की. रणबीर कपूर बता रहे हैं कि वे फिल्मसंजूके बारे में कुछ खास बताएँगे। चूंकि 17 जून फादर्स डे है तो वे उसके उपलक्ष्य में भी बातें करेंगे। हम सभी जानते हैं कि रणबीर कपूर के अपने पिता ऋषि कपूर से सहज संबंध नहीं हैं। सिमी ग्रेवाल के साथ अंतरंग बातचीत में ऋषि कपूर ने स्वीकार किया था कि उनकी रणबीर कपूर से रोज़ाना नियमित बातें नहीं होतीं। वे एक ही घर में मानो कांच की दीवार के आर-पार रहते हैं। ऋषि कपूर के शब्द हैं,’एक शीशा है हम दोनों के बीच में। हम देख रहे हैं,लेकिन एक-दुसरे को फील नहीं कर पा रहे हैं।इस बातचीत जब सिमी ने उन्हें समझाया कि उन्हें यह शीशा तोड़ देना चाहिए तो ऋषि का जवाब था,’यह नहीं हो सकता। पापा से मेरे जैसे संबंध थे या पापा के उनके पापा से जैसे संबंध थे,  वैसा ही होना चाहिए।
बाप-बेटे के संबंध के मामले में ऋषि कपूर दकियानूसी विचारों के रहे हैं। अब तो रणबीर कपूर का अलग आशियाना है। दोनों की मुलाकातें भी कम होती है। यह देखना और सुनना रोचक होगा कि वे फादर्स डे पर क्या-क्या शेयर करते हैं। उनके प्रशंसकों को नए खुलासों की उम्मीद रहेगी। यूँ इसी बातचीत में नीतू कपूर ने बताया था कि एक बार वह किसी काम से शहर से बाहर गई थीं। घर में बाप-बेटे थे।  नीतू ने रणबीर से फोन पर पूछा कि कैसा चल रहा है? रणबीर का प्यारा सा जवाब था,’ बहुत अच्छा मैं डैडी के साथ डिनर पर गया था।  यह सुनकर नीतू को बहुत खुशी हुई।  उन्हें लगा की बाप-बेटे के बीच की कांच की दीवार टूटी।  बाद में मुंबई लौटने पर उन्होंने रणबीर से डिनर के बारे में विस्तार से पूछा तो उन्हें सच की जानकारी मिली।  रणबीर ने बताया कि हम दोनों साथ में डिनर पर जाते थे और खामोशी से अपना डिनर करते थे। कोई कुछ नहीं बोलता था और फिर हम घर चले आते थे।  हमारे बीच कोई बात नहीं होती थी। इससे साफ़ है कि रणबीर और ऋषि कपूर बेटा-बाप होने के बावजूद एक दूसरे से घुले-मिले नहीं हैं।
मुझे याद है फिल्मसिटी में अभिनव कश्यप की फिल्मबेशर्मकी शूटिंग चल रही थी।  इस फिल्म में रणबीर कपूर को अपने माता-पिता नीतू कपूर और ऋषि कपूर के साथ काम करने का मौका मिला था। उस दिन एक डांस सीक्वेंस की शूटिंग थी। शॉट रेडी होने पर तीनों फ्रेम में आते थे। अपने लिए निश्चित मार्क पर खड़े होते थे। शॉट ओके होते ही रणबीर कहीं और बैठ जाते थे। दिख रहा था कि उनके बीच अंतरंगता नहीं झलक रही है। रणबीर की बातचीत माँ से हो रही थी कभी-कभी। नीतू ने सिनी को  बेहिचक बताया था कि बाप-बेटे के बीच मुझे मीडिएटर की भूमिका निभानी पड़ती है। रणबीर की इतनी फ़िल्में चुकी हैं,लेकिन ऋषि कपूर ने पहली बारसंजूदेखने के बाद बेटे की तारीफ की। इसे राजकुमार हिरानी ने रिकॉर्ड कर रणबीर के पास भेजा। नार्मल पिता अपनी ख़ुशी बेटे से सीधे शेयर करते।  बहरहाल रणबीर इसी बात से खुश हैं कि उनके पिता को उनका कोई तो काम पसंद आया। अभी तक रणबीर को उंडे यही सुनने को मिलता था-कसर रह गयी। 

Comments

Popular posts from this blog

लोग मुझे भूल जायेंगे,बाबूजी को याद रखेंगे,क्योंकि उन्होंने साहित्य रचा है -अमिताभ बच्चन

फिल्‍म समीक्षा : एंग्री इंडियन गॉडेसेस

Gr8 Marketing turns Worst Movies into HITs-goutam mishra