सांवरिया समारोह:ऋषि की दारु ,अनिल का ठुमका


शनिवार,१५ सितंबर की रात यादगार रहेगी.चवन्नी दिल्ली में था.वहाँ पता चला कि शनिवार को सांवरिया का म्यूजिक रिलीज समारोह है. वह भाग कर मुंबई पहुचा.समारोह का समय आठ बजे बताया गया था.रात दस बजे तक सुगबुगाहट नहीं दिखी तो चवन्नी चिंतित हो गया.उसने देर होने की वजह मालूम कि तो पता चला कि कृष्णा जी देर से आ पाएंगी.अब आप यह न पूछ बैठना कि कृष्णा जी कौन हैं?कृष्णा जी राज कपूर की पत्नी और सांवरिया से लांच हो रहे हीरो रणवीर कपूर की दादी हुईं.
हिंदी फिल्मों के निर्माण में म्यूजिक रिलीज का खास महत्व होता है.मुहूर्त के बाद यह ऐसा मौका होता है,जब फिल्म के सारे लोग एकत्रित होते हैं.आम दर्शकों को फिल्म की पहली झलक गानों से ही मिलती है.वैसे भी हिंदी फिल्मों में संगीत का हमेशा खास स्थान रहा है.इन दिनों तो फिल्म के प्रचार के लिए अलग से गाने शूट किये जाते हैं और उन्हें फिल्म के अंत या शुरू में दिखाया जता है.उसके पहले उनका उपयोग फिल्म के टीवी विज्ञापन में किया जाता है.सांवरिया संजय लीला भंसाली की फिल्म है.इस बार वे ऋषि कपूर के बेटे रणवीर कपूर और अनिल कपूर की बेटी सोनम कपूर के साथ रोमांटिक फिल्म बना रहे हैं.रणवीर को आरके बैनर के वारिस के तौर पर पेश किया जा रहा है.चवन्नी पूछना चाहता है कि क्या करीना और करिश्मा आरके बैनर से बहार की हैं?असल में वारिस तो पुरुष ही हो सकता है ना.शायद ऐसी धारणा की ही वजह से कल रात के समारोह में दोनों बहनें नही आयी थीं और उनके माँ-बाप रणधीर कपूर और बबिता भी नही दिखे।कल की रात सब रो रहे थे .सोनम् को पर देख कर अनिल कपूर और सुनीता की आंखों में आंसू थे.उधर रणवीर के पिता ऋषि कपूर की खुशी बग़ैर जाम के छलक रही थी. नीतू सिंह थोड़े शांत मिजाज की महिला हैं.उनमें कपूर परिवार का उतावलापन नहीं दिखता.कल भी वह शांत थीं.हां,ऋषि कपूर उतावले थे.वे जल्दी से जल्दी दारु की बोतल खोलना चाहते थे.अनिल कपूर में अलग तरीके का जोश था.एक तरफ उनकी आंखें खुशी से गीली थीं तो दूसरी तरफ मंच पर आने के बाद उन्होंने सांवरिया के गीत पर ठुमके भी लगाए. चवन्नी को खुशी है कि हिंदी फिल्मों के आकाश में 9 नवंबर को दो सितारों का उदय होगा और ये सितारे अनजाने में शाहरुख खान को चुनौती देंगे.उसी दिन शाहरुखा खान की ओम शांति ओम भी रिलीज हो रही है.आप तय करें कि पहले दिन का पहले शो में आप कौन सी फिल्म देखने जाएंगे?चवन्नी आप को ताजा जानकारियां देने के लिए वचनबद्ध है.अरे हां,चवन्नी यह बताना भूल रहा था कि सोनम कपूर को मंच पर सलमान खान ले आए थे और रणवीर कपूर को रानी मुखर्जी ले आई थीं.

Comments

Anonymous said…
सांवरिया और ओम शांति ओम की टक्कर मजेदार होगी.मैं तो सांवरिया देखूंगा
Udan Tashtari said…
प्रिफरेन्स तो सांवरिया को ही मिलना चाहिये. कुछ नया तो आये.
naye ka svagat to karana hi chahie jaroori nahin ki ve ekadam se hamari kasauti para khare utara jaaye. vaie kalakaar parivaar se hone ke naate uanse apekshayen to ki jaa sakti hain.
Unknown said…
agar 9th ko dono filme release ho rahi hai to mera vote to saanvariya ko jata hai.
aur viewers mein bhi kafi utsukta hai is nayi jodi ko dekhne ki!

Popular posts from this blog

लोग मुझे भूल जायेंगे,बाबूजी को याद रखेंगे,क्योंकि उन्होंने साहित्य रचा है -अमिताभ बच्चन

फिल्‍म समीक्षा : एंग्री इंडियन गॉडेसेस

तो शुरू करें