फिल्‍म समीक्षा अवतार

कल्पना की तकनीकी उड़ान


-अजय ब्रह्मात्‍मज

जेम्स कैमरून की फिल्म अवतार 3डी का डिजिटल जादू है। 3डी का स्पेशल चश्मा लगाकर सिनेमाघरों में बैठने के बाद अंधेरा होते ही पर्दे पर मायावी दुनिया आकार लेने लगती है। यहां दैत्याकार रोबोट हैं और सुपर तकनीक से चल रहा मिशन है। दुनिया की अब तक की सबसे महंगी फिल्म अवतार पहले ही फ्रेम से भव्यता का एहसास देती है। इस फिल्म में सिर्फ मनुष्य ही स्वाभाविक और सामान्य कद के हैं। बाकी सब कुछ विशाल है।

इस अनोखी प्रेम कहानी में दो ग्रहों के जीवों का प्रेम है। कहानी आज से 145 साल आगे 2154 की है। पृथ्वी पर ऊर्जा की कमी है। ऊर्जा की तलाश में पृथ्वीवासी पंडोरा पहुंचते हैं। उन्हें पंडोरा यूनोबटैनियम चाहिए। इस कार्य के लिए वे मनुष्य के डीएनए से एक हाइब्रिड तैयार करते हैं और उसे पंडोरावासी का रूप देकर पंडोरा भेजते हैं। मरीन से रिटायर जेक सली को मिशन के लिए चुना जाता है। जेक पैराप्लेजिक रोग से ग्रस्त है। वह जिंदगी में कुछ करने की ख्वाहिश से इस मिशन में शामिल होता है। पंडोरा के निवासी प्रकृति के साथ तालमेल बिठा कर जीते हैं। उनके जीवन में मशीन नहीं है। जेक जाता तो है पंडोरावासियो की जीवनशैली सीखने, लेकिन वहां उनकी जीवनशैली और विचार से इस कदर प्रभावित होता है कि एक लड़की से प्रेम करने लगता है। पृथ्वी के मनुष्यों के लालच और पंडोरा के नावि समाज के निर्दोष जीवन की टकराहट में हमारी सहानुभूति जेक से होती है, जो मनुष्य होकर भी नावियों की सभ्यता के संरक्षण का प्रयत्न करता है। जेम्स कैमरून तकनीकी दक्षता के लिए विख्यात हैं। वह अपने नैरेटिव में तकनीक का सुंदर उपयोग करते हैं। अवतार एनीमेशन और लाइव फिल्मों का नया मानदंड स्थापित करती है। कथ्य के स्तर पर जेम्स कैमरून इस फिल्म में कई सारे मुद्दों को साथ में लेकर चलते हैं।

पर्यावरण संतुलन का भी सवाल फिल्म में आता है। अवतार निश्चित ही देखने योग्य फिल्म है। पता चलता है कि फिल्म तकनीक कितनी आगे बढ़ गई है और जेम्स कैमरून जैसे निर्देशकों की कल्पना कैसी उड़ान ले सकती है?


Comments

जरूर देखेंगे और वो भी आईमैक्स वडाला के बड़े स्क्रीन पर...अभी तो टिकटों की मारा मारी चल रही है...
नीरज
सागर said…
अपनी भी नज़र है... देखें जरा २००० करोड़ कैसे खर्च किया है
बेहतरीन फिल्म सुपर तकनीक, एनिमेशन और सुन्दर सेट्स के साथ एक चिंतनीय विषय उठाया गया है वाकई सोचने वाली बात है फिल्म बहुत ही पसंद आई साथ ही आपकी रोचक चर्चा भी अच्छीहै
प्रकाम्या

Popular posts from this blog

लोग मुझे भूल जायेंगे,बाबूजी को याद रखेंगे,क्योंकि उन्होंने साहित्य रचा है -अमिताभ बच्चन

फिल्‍म समीक्षा : एंग्री इंडियन गॉडेसेस

Gr8 Marketing turns Worst Movies into HITs-goutam mishra