मिलते ही प्रशंसक सलाह मांगते हैं -करण कुंद्रा


-अजय ब्रह्मात्मज
- ‘गुमराह’ के सीजन 3 में क्या नया हो रहा है?
0 हमारा शो किशोरों के क्राइम स्टोरी पर आधारित है। यह उन्हें जागरुक करने का काम करता है। फॉर्मेट पुराना ही रहेगा। कुछ नई चीजें हैं। जैसे कि आप खुद तैयार रहें। हमेशा सावधान रहें। अमूमन बुरी घटनाओं पर हमारी यही प्रतिक्रिया होती है कि ऐसा उनके साथ हुआ। हमारे साथ नहीं होगा। हम यही बता रहे हैं कि हमेशा अपरिचित ही अपराध नहीं करते हैं। हमारे परिचित और रिश्तेदार भी हो सकते हैं। खतरा कहीं से भी हो सकता है।
- और क्या?
0 इस बार हम अधिक निडर होकर आ रहे हैं। हम अपनी सीमाएं जानते हैं। फिर भी कोशिशें जारी है।
- सीजन 1  और 2 से क्या सीखा?
0 पहला सीजन प्रयोग के तौर पर शुरू हुआ था। मेरे लिए वह बहुत बड़ा शिफ्ट था। उसके पहले मैं केवल टीवी एक्टर था। मैं युवा दर्शकों के बीच बहुत पॉपुलर था। मेरी पॉपुलैरिटी की एंटरटेनमेंट वैल्यू थी। इस शो के बाद सभी ने मुझे मेरे नाम करण कुंद्रा से पहचाना। अभी उनकी आंखों में आदर दिखता है। अब मिलते ही प्रशंसक सलाह मांगने लगते हैं। मेरे प्रति उनका भरोसा बढ़ गया है। इस वजह से उनके प्रति मेरी जिम्मेदारी भी बढ़ गई है। छोटी सी बात कहूं कि अब मैं रेड लाइट भी क्रास नहीं करता।
- कह सकते हैं कि करण कुंद्रा का भी विकास हुआ है?
0 दुनिया की समझदारी बढ़ गई है। पहले अपराध कथाओं में अलग किस्म की रुचि रहती थी। अब मैं उनकी जड़ों जाने की कोशिश करता हूं। समझना चाहता हूं कि अपराध क्यों हुआ होगा? कारणों की खोज करता हूं। मैं सभी उम्र के लोगों को थोड़े बेहतर तरीके से समझने लगा हूं। कोई दोस्त भी बदतमीजी करता है तो रिएक्ट करने के बजाए वजह खोजता हूं। निश्चित ही मेरा विकास हुआ है।
- क्या अपने दोस्तों के बीच आप अगोनी फ्रेंड के तौर पर भी जाने जाते हैं?
0 फेसबुक पर मुझे आठ लाख लोग पसंद करते हैं। उनके सवाल आते रहते हैं। इंडस्ट्री में मेरे जुनियर भी मुझसे सवाल पूछते हैं। जरूरत भर मैं मदद करता हूं और विशेषज्ञों से उनका संपर्क करवा देता हूं।
- इस शो के अलावा और क्या कर रहे हैं?
0 अभी जो गैप मिला उसमें मैंने हिंदी फिल्में पूरी कर ली। एक पंजाबी फिल्म भी की है। इस शो ने मुझे अलग लेवल पर पहुंचा दिया है। शो के प्रति मेरी वफादारी बनी रहेगी। इस शो से किसी एक भी व्यक्ति की जिंदगी बच गई हो तो बड़ी बात है। विक्रम भट्ट की फिल्म ‘हॉरर स्टोरी’ पूरी हो गई है। यह सितंबर में रिलीज होगी। इसके अलावा प्रतीक के साथ एक फिल्म कर रहा हूं। अभी शुरुआत कर रहा हूं।
- टीवी शो नहीं कर रहे हैं?
0 एक ‘गुमराह’ ही काफी है। रेगुलर टीवी शो लेने पर महीने के कई दिन शूटिंग में निकल जाते हैं। किसी और चीज के बारे में सोचने का वक्त ही नहीं मिलता। अभी फिल्मों के लिए कोशिश कर रहे हैं।


Comments

Popular posts from this blog

फिल्‍म समीक्षा : एंग्री इंडियन गॉडेसेस

लोग मुझे भूल जायेंगे,बाबूजी को याद रखेंगे,क्योंकि उन्होंने साहित्य रचा है -अमिताभ बच्चन

लंदन से इरफ़ान का पत्र