रोज़ाना : लौटी रौनक सिनेमाघरों में



रोज़ाना
लौटी रौनक सिनेमाघरों में
-अजय ब्रह्मात्‍मज
अपेक्षा के मुताबि‍क गोलमाल अगेन देखने दर्शक सिनमाघरों में उमड़ रहे हैं। हालांकि फिल्‍म को अच्‍छा एडवासं नहीं लगा था,लेकिन पहले ही दिन सिनेमाघरों में 70 प्रतिशत दर्शकों का आना बताता है कि यह फिल्‍म चलेगी। दर्शक तो टूट पड़ते हैं। उन्‍हें मनोरंजन मिले तो वे परवाह नहीं करते कि फिल्‍म में कोई नया कलाकार है या बासी कढ़ी ही परोसी जा रही है। गोलमान अगेन की तुलना में सीक्रेट सुपरस्‍टार को अधिक दर्शक नहीं मिले हैं। 35-40 प्रतिशत दर्शकों के सहारे बड़ी उम्‍मीद नहीं की जा सकती। फिर भी ट्रेड पंडित मान रहे हैं कि सीक्रेट सुपरस्‍टार का जिस तरह से समीक्षकों की तारीफ मिली है,उससे लगता है कि दर्शक भी आएंगे। सीक्रेट सुपरस्‍टार अलग तरह की फिल्‍म है। बजट में छोटी है। 15 साल की लड़ी जायरा वसीम फिल्‍म की हीरोइन है। ट्रेड पंडित मानते हैं कि यह फिल्‍म सिनेमाघरों में टिकी रहेगी। दोनों के प्रति दर्शकों के उत्‍साह से सिनेमाघरों में रौनक और बाक्‍स आफिस पर खनक लौटी है।
पारंपरिक तरीके से दीवाली से साल के अंत तक के शुक्रवार हिंदी फिल्‍म इंडस्‍ट्री के लिए फायदेमंद होते हैं। देश के दो बड़े क्‍योहार दीवाली और क्रिसमस की वजह से उत्‍सव का माहौल रहता है। कुछ अतिरिक्‍त खर्च हो भी जाए तो मलाल नहीं होता। दीवाली और क्रिसमस में होली और ईद की तरह परिवार के सदस्‍य एकत्रित होते हैं। भारतीय समाज में सामूहिक टाइम पास के लिए सिनेमा से बेहतर विकल्‍प नहीं है। पूरा परिवार एक साथ सिनेमाघरों में जाता है। अचानक सिनेमाघरों में दर्शक बढ़ जाते हैं। और उसी अनुपात में फिल्‍मों का बिजनेस भी।
गौर करें तो दीवाली से क्रिसमस के बीच पॉपुलर स्‍आरों की फिल्‍में आती हैं। परिपाटी बन चुकी है कि खानत्रयी में से किसी एक खान की फिल्‍म तो आएगी है। इस बार दीवाली पर आमिर खान आए और क्रिसमस पर सलमान खान टागर जिंदा है लेकर आ रहे हैं। इसके अलावा 1 दिसंबर को संजय लीला भंसाली की पद्मावती आएगी। इसी बीच तुम्हारी सुलु में विद्या बालन अपनी मदमस्‍त आवाज से दर्शकों को दीवाना बनाने आ रही हैं। पिछले कुछ हफ्तों से सिनेमाघर सूने पड़े थे। अगले कुछ हफ्ते चहल-पहल के रहेंगे। माना जा रहा है कि साल बीतते-बीतते हिंदी फिल्‍म इंडस्‍ट्री का बैलेंस शीट फायदा दिखाने लगेगा। खास कर पद्मावती और टाइगर जिंदा है से फिल्‍म इंडस्‍ट्री की बड़ी उम्‍मीदें जुड़ी हैं। पद्मावती के बारे में चल रहे विवाद रिलीज के पहले खत्‍म हो जाएं तो पूरे देश का अबाधित मनोंरंजन होगा।

Comments

Popular posts from this blog

लोग मुझे भूल जायेंगे,बाबूजी को याद रखेंगे,क्योंकि उन्होंने साहित्य रचा है -अमिताभ बच्चन

फिल्‍म समीक्षा : एंग्री इंडियन गॉडेसेस

Gr8 Marketing turns Worst Movies into HITs-goutam mishra