छोटे कद का उम्दा कलाकार

चवन्नी राजपाल यादव की बात कर रहा है।

राजपाल यादव को पहली बार दर्शकों ने प्रकाश झा के सीरियल मुंगेरी के भाई नौरंगी लाल में देखा था.वे सभी को पसंद आये थे.लोगों ने पूछा भी था कि प्रकाश झा कहाँ से मुंगेरी लाल यानी रघुबीर यादव के छोटे भाई को खोज कर ले आये. शयद सरनेम की समानता के कारण ऐसा हुआ था और दोनों की कद-काठी भी मिलती थी.वैसे दोनों ही राष्ट्रीय नाट्य विद्यालय के छात्र रहे हैं।

राजपाल को फिल्मों का पहला मौका इ निवास की फिल्म शूल में मिला.इस फिल्म में राजपाल यादव ने कुली का छोटा सा रोल किया था.राम गोपाल वर्मा को वह जंच गए.रामू ने उन्हें फिर जंगल में थोड़ा बड़ा रोल दिया.इस फिल्म में वह मुख्य खलनायक सुशांत सिंह से ज्यादा चर्चित हुए.देखते ही देखते राजपाल यादव के पास काम की कमी नहीं रही.उन दिनों राजपाल यादव से चवन्नी की लगातार मुलाकातें होती थीं या कम से कम हर फिल्म की रिलीज के समय बात होती थी कि फिल्म कैसी लगी?

इधर राजपाल की फिल्मों की संख्या बढ़ती गयी और उसी अनुपात में वार्तालाप छोटी और कम होती गयी.अब केवल गाहे-बगाहे कभी बात हो जाती है.चवन्नी अपने परिचित कलाकारों की ऐसी व्यस्तता से खुश होता है.राजपाल यादव ने कहा था कि वह हिन्दी फिल्मों का हीरो बनना चाहते हैं.तब यह बात कई लोगों को छोटे मुँह बड़ी बात लगी थी.लेकिन राजपाल ने साबित किया कि फिल्मों में जगह पाने के लिए कद-काठी से अधिक प्रतिभा की ज़रूरत रहती है।

राजपाल यादव की अगली फिल्म रामा रामा क्या है ड्रामा इस शुक्रवार को रिलीज हो रही है.राजपाल की कुछ फिल्में यादगार हैं.मैं,मेरी पत्नी और वो;मैं माधुरी दीक्षित बनना चाहती हूँ;वक़्त;आदि आदि.राजपाल यादव ने फिल्में लेते समय किरदार की लम्बाई-चौड़ाई या रुप-रंग पर ज्यादा ध्यान नहीं दिया.उनकी फिल्मों की संख्या १०० के लगभग पहुंच रही होगी.उनहोंने नाम,शोहरत और पैसे कमा लिए हैं.लेकिन इसके साथ ही वे हिन्दी फिल्म इंडस्ट्री के कुचक्र के शिकार भी हो गए है.हर तरह की फिल्म करने के चक्कर में उनकी प्रतिभा का उपयोग नहीं हो पा रहा है।

रघुबीर यादव और राजपाल यादव में यह बड़ा फर्क है.राजपाल ने धारा के साथ चलना स्वीकार किया,जबकि रघुबीर यादव किनारे बैठ कर फिल्मों की धारा देखते रहे.किसने सही किया?यह वक़्त बताएगा.चवन्नी इसी बात से खुश है कि रघुबीर यादव और राजपाल यादव ने एक मुकाम पाया और कई लोगों के लिए प्रेरणा बने.

Comments

राजपाल मेरे प्रिय अभिनेताओं में से एक हैं
राजपाल दा जवाब नईं!!
अफसोस होता है कि रघुवीर यादव नें वक्त की जरुरतों के हिसाब से अपने को मोल्ड नही किया।

Popular posts from this blog

लोग मुझे भूल जायेंगे,बाबूजी को याद रखेंगे,क्योंकि उन्होंने साहित्य रचा है -अमिताभ बच्चन

फिल्‍म समीक्षा : एंग्री इंडियन गॉडेसेस

तो शुरू करें